मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्ली, आइएएनएस/प्रेट्र। लोकसभा चुनाव के शुरू होने से चंद दिनों पहले विपक्षी दलों ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि अगर 13.5 लाख ईवीएम की मशीनों से निकलने वाली 50 फीसद वीवीपैट पर्चियों की गिनती के कारण चुनाव नतीजों में छह दिनों की देरी भी होती है तब भी इससे स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी। दलों ने शनिवार को कोर्ट में चुनाव आयोग के हलफनामे के जवाब में अपनी प्रतिक्रिया दाखिल की। आयोग ने हलफनामे में दावा किया है कि नतीजों में औसतन छह दिनों की देरी हो सकती है।

तेदेपा प्रमुख एन. चंद्रबाबू नायडू नीत विपक्ष ने जवाब में कहा, 'देश भर के 21 विभन्न राष्ट्रीय व क्षेत्रीय दलों के नेताओं/अध्यक्षों द्वारा जनहित में यह याचिका दाखिल की गई थी।' नायडू के अलावा याचिकाकर्ताओं में केसी वेणुगोपाल, अरविंद केजरीवाल, अखिलेश यादव, शरद पवार, डेरेक ओ ब्रायन, फारूक अब्दुल्ला, शरद यादव, अजीत सिंह, दानिश अली और मनोज झा शामिल हैं। विपक्षी नेता चुनाव आयोग के लिए भारतीय सांख्यिकी संस्थान (आइएसआइ) द्वारा किए गए अध्ययन से आश्वस्त नहीं थे।

अध्ययन का निष्कर्ष यह है कि पेपर पर्चियों की गितनी के लिए 13.5 लाख ईवीएम मशीनों से बेतरतीब ढंग से लिए गए 479 वीवीपैट्स से सटीक परिणाम आए, जो 99.99 फीसद मतदाता विश्वास स्तर के अनुरूप है। विपक्षी नेताओं का मत था कि यह अध्ययन मौलिक रूप से त्रुटिपूर्ण है, क्योंकि यह एक गलत धारणा पर आधारित है। उन्होंने कहा कि संसदीय चुनाव पूरे भारत में 543 निर्वाचन क्षेत्रों और छह सप्ताह की अवधि में हो रहा है, जबकि औचक चुनी गई 479 ईवीएम पूरी प्रक्रिया को सत्यापित करने के लिए पर्याप्त नहीं हो सकतीं।

आइएसआइ ने अपने अध्ययन में माना है कि इस नमूने का आकार ईवीएम की सर्वोत्कृष्टता को प्रमाणित करने के लिए बहुत ही छोटा है। याचिकाकर्ताओं ने शीर्ष अदालत से कहा, 'जहां तक बात आम चुनाव के परिणाम घोषित करने में छह दिन के विलंब की है तो इसमें कोई दिक्कत नहीं है, बशर्ते यह चुनावी प्रक्रिया की निष्पक्षता को सुनिश्चित करती हो। अगर छह दिनों की देरी से चुनावी प्रक्रिया संतुलित होती है तो संतुलन निश्चित रूप से चुनावी प्रक्रिया की निष्पक्षता की ओर झुकेगा।' उन्होंने कहा, 'हम चुनाव आयोग पर कोई भी रोक नहीं लगा रहे हैं, हम केवल एक स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव प्रक्रिया चाहते हैं।'  

Posted By: Krishna Bihari Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप