नई दिल्ली (जागरण ब्यूरो) राजनैतिक दलों के प्रवक्ताओं और प्रतिनिधियों द्वारा धर्म और जाति आधारित टिप्पणियां करने पर संबंधित राजनैतिक दल के खिलाफ कड़ी कार्रवाई किये जाने की मांग पर सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। कोर्ट ने आयोग से एक सप्ताह मे जवाब मांगा है।

अप्रवासी भारतीय हरप्रीत मनसुखनी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर चुनाव के दौरान देश में धर्मनिरपेक्ष तानाबाना कायम रखने की मांग की है।

मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने सोमवार को याचिका पर सुनवाई करने के बाद याचिका में प्रतिपक्षी बनाए गए चुनाव आयोग को नोटिस जारी किया। याचिका में मांग की गई है कि सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत न्यायाधीश की अध्यक्षता में एक कमेटी गठित की जाए जो कि पूरी चुनाव प्रक्रिया पर बारीकी से नजर रखे।

इसके अलावा मांग की गई है कि चुनाव आयोग उन राजनैतिक दलों के खिलाफ सख्त कार्यवाही करे जिनके प्रवक्ता य प्रतिनिधि भाषण अथवा मीडिया में धर्म या जाति पर आधारित टिप्पणियां करें। इतना ही नहीं याचिका में उन मीडिया हाउस पर भी कार्रवाई की मांग की गई है जिनकी बहसें धर्म और जाति की लाइन पर हो।

याचिका में जाति व धर्म आधारित टिप्पणी व बहस पर चिंता जताते हुए कहा गया है कि इससे निष्पक्ष चुनाव की प्रक्रिया प्रभावित होती है। याचिकाकर्ता का कहना है कि उसने लोकसभा चुनाव के दौरान अपने देश का धर्मनिरपेक्ष माहौल कायम रखने के लिए यह याचिका दाखिल की है।

Posted By: Prateek Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस