जम्मू, जेएनएन। लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में मतदान के दौरान ऊधमपुर-डोडा संसदीय क्षेत्र में कुछ ऐसे भी जोड़े पहुंचे जो अपनी शादी की रस्माें को बीच में ही छोड़ कर मतदान करने पहुंचे। विवाह बंधन में बंधने जा रहे इन जोड़ों का कहना था चुनावों को हम लोग लोकतंत्र का महाकुंभ मानते हैं अौर जब महाकुंभ का आयोजन हो रहा हो तो उसका आशीर्वाद ताे पहले ही लेना चाहिए।

ऊधमपुर के भी एक मतदान केंद्र में दूल्हा बने सौरभ शर्मा भी अपनी नवविवाहित पत्नी मनीषा की डोली लेकर पहुंचे। सौरभ ने बताया कि वे सीधे ससुराल से अपनी पत्नी को लेकर मतदान करने आए हैं क्योंकि उनकी पत्नी भी यही चाहती थी कि वोट डालने के बाद ही वे बाकी रस्मों को निभाएंगे। मतदान करने के बाद नवदंपति अपने घर रवाना हुआ जहां घर में कुछ रस्मों को निभाने के बाद वे अपने देव स्थान में आशीर्वाद लेने के लिए निकले। वहीं रियासी जिले के भांवला में पोलिंग स्टेशन के नंबर 20 में मंगाई की रहने वाली पूजा देवी भी विवाह बंधन में बंधने से पूर्व अपने पिता के साथ मतदान करने पहुंची।

पूजा देवी की शादी आज होनी है और उसका भी कहना था कि मतदान सबसे बड़ी जिम्मेदारी है जिसे वह निभाए बिना अपनी नई जिंदगी शुरू नहीं कर सकती थी। पूजा देवी जब मतदान केंद्र पहुुंची तो वहां पर मौजूद मतदान कर्मियों व वोट डालने आए लोगों ने उसका जोरदार स्वागत किया। वहीं ऊधमपुर के रिती पोलिंग स्टेशन पर भी एक युवक विवाह बंधन में बंधने से पहले बारात लेकर मतदान केंद्र पहुंचा जहां मतदान करने के बाद उसकी बारात बैंड बाजों के साथ दूल्हन के घर के लिए रवाना हुई।  

Posted By: Rahul Sharma