गोरखपुर, महेंद्र कुमार त्रिपाठी। अर्थशास्त्र में योग्यता के बूते देश-दुनिया में अलग पहचान बनाने वाले अशोक मेहता राजनीति में पटखनी खा गए थे। यह ऐतिहासिक घटना भी देवरहा बाबा की तपोस्थली देवरिया में घटी थी। हालाकि चुनावी समर में अशोक को पराजित करने के लिए प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू को खुद देवरिया आना पड़ा था।
उनकी एक लाइन ही विश्वनाथ राय की जीत का आधार बन गई, जिसमें उन्होंने कहा कि आपको ईमानदार प्रत्याशी चाहिए कि बम्बई (मुंबई) का आदमी। विश्वनाथ संसद में होंगे तो मैं मजबूत रहूंगा। नेहरू की इस बात का ही असर था कि अशोक को देवरिया में हार का सामना करना पड़ा। 1अतीत की बातों को याद करते हुए पूर्व सासद और मंत्री विश्वनाथ राय के बेटे अजय शर्मा बताते हैं कि वाकया सन् 1962 का है। पिता इस बात को लेकर परेशान थे कि नेहरू हर चुनाव में उनका क्षेत्र बदल दे रहे हैं। वह पूरे परिवार को लेकर दिल्ली से गाव आ गए।
दिल्ली के कान्वेंट में पढ़ने वाले बच्चों का नाम खुखूंदु के प्राइमरी स्कूल में लिखवा दिया। इसी बीच लोकसभा चुनाव का बिगुल बज उठा। देवरिया के पुलिस लाइंस मैदान में प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू को आना था। विश्वनाथ राय नाराज चल रहे थे, सभा में शामिल न होना पड़े, इसलिए उन्होंने नैनीताल जाने की तैयारी कर ली। वह देवरिया रेलवे स्टेशन के प्रतीक्षालय में बैठकर ट्रेन का इंतजार करने लगे। इसकी जानकारी पार्टी के लोगों ने नेहरू को दी।
इस पर प्रधानमंत्री कार्यालय ने देवरिया के तत्कालीन जिलाधिकारी को निर्देश दिया कि किसी भी तरह विश्वनाथ को नैनीताल जाने से रोका जाय। जिलाधिकारी ने विश्वनाथ को मनाकर पार्टी कार्यालय पहुंचाया। 114 जनवरी को देवरिया पुलिस लाइंस में प्रधानमंत्री की जनसभा हुई। नेहरू ने मंच से कहा कि विश्वनाथ को मैंने देवरिया से प्रत्याशी बनाया है। इनके खिलाफ प्रजा सोशलिस्ट पार्टी ने अर्थशास्त्री अशोक मेहता को प्रत्याशी बनाया है, जो अब तक बम्बई (मुंबई) में रहते हैं।
आपको ईमानदार प्रत्याशी चाहिए या बंबई का आदमी। इस पर करीब 15 मिनट तक नेहरू, विश्वनाथ राय जिंदाबाद के नारे लगने लगे। नेहरू मंच से बोलते रहे कि बस, बस विश्वनाथ ही प्रत्याशी होंगे, इसीलिए तो अचानक कार्यक्त्रम बनाया। चुनावी जंग शुरू हुई तो विश्वनाथ ने अशोक को भारी मतों से हरा दिया। इसके बावजूद सम्मान में नेहरू ने अशोक मेहता को योजना आयोग में महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप