नई दिल्ली, जेएनएन। लोकसभा चुनाव 2019 के तहत मंगलवार को नामांकन का आखिरी तिथि थी। दिल्ली की प्रमुख तीनों पार्टियों के उम्मीदवारों ने अपना-अपना पर्चा दाखिल कर दिया है। इसके साथ ही सियासी बयानबाजी भी शुरू हो गई है। आम आदमी पार्टी(AAP) के दिल्ली संयोजक गोपाल राय ने सभी सातों उम्मीदवारों के साथ प्रेस कांफ्रेंस किया।

दिल्ली में गठबंधन नहीं होने के बाद आम आदमी पार्टी के नेता कांग्रेस पर हमलवार हो गए हैं। मीडिया को संबोधित करते हुए गोपाल राय ने कहा कि कांग्रेस को वोट देने का मतलब भाजपा को वोट देने के बराबर है। इसलिए दिल्ली के लोगों को अपने हक के लिए सोच समझकर वोट करना चाहिए।

आम आमदी पार्टी के नेता ने दावा किया कि उसके सातों उम्मीदवारों से भाजपा और कांग्रेस डर गई है। आप के सभी उम्मीदवारों ने पिछले तीन महीने में काफी मेहनत की है।

गोपाल राय ने कहा कि इस बार का लोकसभा चुनाव दिल्ली की हक की लड़ाई के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। दरअसल आम आदमी पार्टी दिल्ली को पूर्व राज्य का दर्जा देने की मांग को मुख्य चुनावी मुद्दा बनाया है। पार्टी का कहना है कि जब तक पूर्ण राज्य का दर्जा नहीं मिलता तब तक दिल्ली की शासन व्यवस्था ठीक तरीके से चलाना मुश्किल है। बता दें कि अधिकारों को लेकर अक्सर उपराज्यपाल और दिल्ली सरकार में ठनी रहती है।

बता दें कि चांदनी चौक से पंकज गुप्ता, पूर्वी दिल्ली से आतिशी और उत्तर पश्चिम दिल्ली से गुगन सिंह, दक्षिण दिल्ली से राघव चड्ढा, नई दिल्ली से बृजेश गोयल, पश्चिमी दिल्ली से बलवीर जाखड़ और उत्तर-पूर्वी दिल्ली से दिलीप पांडेय आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ रहे हैं।

 

Posted By: Mangal Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप