नई दिल्‍ली [जागरण स्‍पेशल]। 17वीं लोकसभा के लिए हुए चुनाव के नतीजे भले ही अभी न आए हों, लेकिन जो रुझान सामने आ रहे हैं उनसे लोकसभा की तस्‍वीर और देश की जनता का मूड जरूर सामने आ गया है। रुझानों में भाजपा गठबंधन सभी पार्टियों पर भारी पड़ता दिखाई दे रहा है। रुझानों की बात की है तो आपको यहां पर ये भी बता देना जरूरी होगा कि सभी 542 सीटों के जो रुझान सामने आ रहे हैं उनमें 335 पर भाजपा गठबंधन, 90 पर कांग्रेस गठबंधन और 118 पर अन्‍य आगे चल रहे हैं। यदि यही रुझान अंतिम परिणामों में बदलते हैं तो आपको बता दें कि एनडीए इस बार पहले से भी अधिक मजबूती से केंद्र में सरकार बना सकती है। दरअसल, 16वीं लोकसभा में भाजपा की अपनी ही 282 सीटें थीं। वहीं 2014 के लोकसभा चुनाव में एनडीए को 38.9% फीसत मत प्राप्‍त हुए थे।

वर्तमान की बात करें तो मोदी और शाह की जोड़ी एक बार फिर से राजनीति के शिखर पर है। दोनों ने ही साबित कर दिया है कि उनके आगे कोई नहीं है। आपको बता दें कि विपक्ष की तरफ से एक बार यहां तक कहा गया था कि मोदी और शाह केवल और चुनाव के लिए ही काम करते हैं। वर्ष 2014 के बाद से जितने भी चुनाव देश में हुए उनमें भाजपा ने कुछ को छोड़कर सभी में जबरदस्‍त जीत हासिल की थी। जानकार भी मानते हैं कि मोदी-शाह की जोड़ी ने पार्टी में नई जान फूंकी हैं। जानकारों की मानें तो इन दोनों ने मिलकर पार्टी को जमीनी मजबूती प्रदान की है।

एक तरफ पीएम मोदी ने जहां भारत को वैश्विक मंच पर उभारा है वहीं पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह ने संगठन को मजबूत करने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी है। उन्‍होंने भाजपा को बूथ स्‍तर से लेकर राष्‍ट्रीय स्‍तर तक पर मजबूत किया है। इसको उनकी रणनीति और राजनीतिक अनुभव ही कहा जाएगा कि भाजपा के इतिहास में वह दूसरी बार प्रचंड बहुमत के साथ सरकार बनाने की तरफ आगे बढ़ रही है। इसमें कोई दो राय नहीं हो सकती है कि वर्तमान में अमित शाह राजनीति के चाणक्‍य बनकर सामने आए हैं। बात चाहे पिछले लोकसभा चुनाव की करें या फिर मौजूदा चुनाव की दोनों में ही इनकी रणनीति काम करती दिखाई दी है।

राजनीति के जानकारों की इसमें एक राय है कि कभी कांग्रेस बूथ स्‍तर पर मजबूत दिखाई देती थी, लेकिन अब ऐसा नहीं है। अब भाजपा ने बूथ स्‍तर फिर जिला स्‍तर फिर प्रदेश स्‍तर और फिर राष्‍ट्रीय स्‍तर पर खुद को मजबूत करने में काफी मेहनत की है। हर स्‍तर पर पार्टी के बड़े नेताओं ने सक्रिय भूमिका निभाई है। इसमें भी कोई शक नहीं है कि बूथ स्‍तर से लेकर राष्‍ट्रीय स्‍तर पर पार्टी को मजबूत करने का खाका अमित शाह ने ही तैयार किया था।

भारत के लोकसभा चुनाव परिणाम जानने को बेताब है पाकिस्‍तान, मीडिया दे रही लाइव अपडेट
उत्तर प्रदेश में Exit Poll को सही साबित कर रहे हैं शुरुआती रुझान, कांग्रेस का नहीं चल रहा दांव

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Kamal Verma