नई दिल्ली (जेएनएन)। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एम वीरप्पा मोइली ने गुरुवार को कहा कि उनकी पार्टी नहीं चाहती कि उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा-आरएलडी गठबंधन हार जाए। उन्होंने कहा कि सपा-बसपा के द्वारा केवल दो सीटों की पेशकश करने पर कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश में सभी 80 सीटों पर अपने दम पर चुनाव लड़ने का फैसला किया है। मोइली ने कहा राष्ट्रीय स्तर की पार्टी होने के नाते हम दो सीटें स्वीकार नहीं कर सकते हैं इसलिए हम सभी 80 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतार रहे हैं।

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री मोइली ने कहा बिना गठबंधन के भी सीट के बंटवारे में सहमति है। उन्होंने कहा कि आप आगे देखोगे कि बीजेपी को हराने के लिए सपा-बसपा और कांग्रेस की सहमति है। जब उनसे पूछा गया कि जहां पर कांग्रेस मजबूत नहीं है वहां पर क्या वे सपा-बसपा गठबंधन को सपोर्ट करेंगे तो उन्होंने कहा हां, ये सहमति आपको चुनाव के दौरान दिखाई देगी।

सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने हाल ही में टिप्पणी की कि सपा-बसपा-रालोद गठबंधन में कांग्रेस के लिए दो सीटें काफी थी। वहीं बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने 12 मार्च को कहा था कि उनकी पार्टी कांग्रेस के साथ किसी भी राज्य में गठबंधन नहीं करेगी।

इस बीच मोइली ने यह भी दावा किया कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी (आप) के साथ गठबंधन नहीं करने पर पार्टी में फिर से विचार हुआ है। उन्होंने कहा कि हम पुनर्विचार कर रहे हैं कि विपक्षी एकता की ताकत को बढ़ाने के लिए आप के साथ गठबंधन क्यों नहीं किया जा सकता है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021