लखनऊ [निशांत यादव]। एक ही लोकसभा सीट पर चुनाव लड़ाने के लिए राजनीतिक दलों के पास अलग-अलग टीमें हैं। लखनऊ जिले के मोहनलालगंज संसदीय सीट के प्रत्याशी जैसे ही सिधौली विधानसभा क्षेत्र में पहुंचते हैं, वहां से सीतापुर की जिला कार्यकारिणी की टीम का क्षेत्र शुरू हो जाता है। क्षेत्र के साथ जनसंपर्क करने वाली टीम बदल जाती है।

मोहनलालगंज संसदीय क्षेत्र में पांच विधानसभा आती हैं। मोहनलालगंज, सरोजनीनगर, बीकेटी और मलिहाबाद विधानसभा क्षेत्र जो लखनऊ जिले में आते हैं, जबकि 3.39 लाख मतदाताओं वाला सिधौली विधानसभा क्षेत्र सीतापुर जिले में आता है। सिधौली के मतदाता अपना विधायक तो सीतापुर जिले की सीट के लिए चुनते हैं, जबकि उनका सांसद मोहनलालगंज से चुना जाता है। यदि 2014 के लोकसभा चुनाव में विधानसभा वार की स्थिति को देखें तो भाजपा, बसपा और सपा के बीच इस विधानसभा क्षेत्र में कड़ी टक्कर देखने को मिली थी।

भाजपा जिन दो विधानसभा क्षेत्रों में पिछड़ी थी उसमें एक मोहनलालगंज और दूसरी सिधौली थी। यहां बसपा आगे निकली थी। उसे 75 हजार 739 वोट मिले थे, जबकि भाजपा को यहां से 62 हजार 47 और सपा को 61 हजार 101 वोट मिले थे। यहीं कारण है कि वर्तमान सांसद कौशल किशोर जहां सिधौली विधानसभा क्षेत्र में इस बार अधिक मेहनत करके अपना जनाधार बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं। वहीं दूसरी ओर सपा-बसपा गठबंधन के प्रत्याशी सीएल वर्मा भी सिधौली में अपना जनसंपर्क तेजी से बढ़ा रहे हैं। पिछले दिनों कांग्रेस के आरके चौधरी ने भी सिधौली में अपनी सभा की थी।

Posted By: Divyansh Rastogi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस