जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। नरेंद्र मोदी की सुनामी में पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा सहित देश भर के एक दर्जन से ज्यादा पूर्व मुख्यमंत्री भी चुनाव मैदान में खेत रहे। इनमें कई ऐसे नेता भी शुमार हैं जो इसके पहले कभी चुनाव नहीं हारे थे। इसमें कांग्रेस के नौ पूर्व मुख्‍यमंत्री शामिल हैं। चुनाव हारने वालों में कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री वीरप्पा मोइली, मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण, सुशील कुमार शिंदे और दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को भी हार का समाना करना पड़ा है।

चुनाव हारने वाले मुख्यमंत्रियों में देश के उत्तरी राज्यों के साथ दक्षिणी राज्यों में मुख्यमंत्री रहे नेता भी शामिल हैं। पूर्व प्रधानमंत्री देवेगौड़ा कर्नाटक के तुमकुर सीट से और वीरप्पा मोइली चिकबल्लापुर, महाराष्ट्र के नांदेड से अशोक चव्हाण, कोल्हापुर से सुशील कुमार शिंदे और मध्य प्रदेश के भोपाल संसदीय सीट से पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह चुनाव हार गए है। देवगौड़ा 1990 के बाद पहली बार कोई चुनाव हारे हैं।

दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित उत्तर पूर्वी दिल्ली संसदीय सीट से भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी के मुकाबले चुनाव हार गई हैं। हरियाणा के सोनीपत की जाट बहुल सीट से पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा  चुनाव बुरी तरह से हार गये हैं। जबकि उनके बेटे रोहतक संसदीय क्षेत्र से चुनाव हार गये।

उत्तराखंड की सभी पांचों सीटों से कांग्रेस चुनाव हार गई है। मोदी की चुनावी सुनामी में यहां की नैनीताल संसदीय क्षेत्र से पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत को हार का मुंह देखना पड़ा है। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी गया संसदीय सीट से चुनाव हार गए हैं। उन्होंने पाला बदलकर वहां के क्षेत्रीय दलों के महागठबंधन में शामिल थे।

झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री शिबू सोरेन जो संथाल परगना के सबसे मजबूत नेता माने जाते रहे हैं। इस बार उनकी सेहत कुछ ठीक नहीं थी, लेकिन भाजपा का मुकाबला करने के लिए उनकी पार्टी ने अंतिम चुनाव लड़ने का आग्रह किया, जिसे उन्होंने स्वीकार कर भी लिया। चुनाव प्रचार तक करने में असमर्थ रहे सोरेन दुमका संसदीय क्षेत्र से चुनाव हार गये हैं। राज्य की कोडरमा संसदीय सीट से पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी चुनाव हार गए हैं।

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Arun Kumar Singh