जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली । लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान पश्चिम बंगाल में मंगलवार को हुई चुनावी हिंसा पर चुनाव आयोग ने सख्त रुख अख्तियार किया है। नाराज चुनाव आयोग ने दंडात्मक कारवाई करते हुए एडीजी सीआइडी राजीव कुमार को तत्काल प्रभाव से कार्यमुक्त करके केंद्रीय गृह मंत्रालय भेज दिया है, जबकि राज्य के प्रधान गृह सचिव अत्रि भट्टाचार्य को भी हटा दिया है।

इसके अलावा राज्य के चुनाव प्रचार में 19 घंटे की कटौती भी की गई है। आयोग ने ऐसा पहली बार किया गया है। नियमानुसार चुनाव प्रचार शुक्रवार शाम पांच बजे से बंद होना था। लेकिन अब यह गुरुवार रात 10 बजे ही खत्म हो जाएगा।

पश्चिम बंगाल के प्रधान गृह सचिव अत्रि भट्टाचार्य पर बंगाल के मुख्य चुनाव अधिकारी को निर्देश देकर चुनाव प्रक्रिया में दखल देने का आरोप लगा है। अब अगले आदेश तक राज्य के मुख्य सचिव गृह विभाग की देखरेख करेंगे। वहीं, एडीजी सीआइडी राजीव कुमार को गुरुवार सुबह 10 बजे ही केंद्रीय गृह मंत्रालय में रिपोर्ट करने के आदेश दिए गए हैं।

प्रचार के समय में कटौती पर चुनाव आयोग ने कहा, यह संभवत: पहली बार है जब चुनाव आयोग ने अनुच्छेद 324 को इस तरीके से लागू किया है। लेकिन यह अराजकता और हिंसा की पुनरावृत्ति के मामलों में अंतिम नहीं हो सकता जो शांतिपूर्ण तरीके से चुनाव संचालन को प्रभावित करता है। चुनाव आयोग ने राज्य में हुई हिंसा पर दु:ख जताते हुए कहा कि ईश्वर चंद्र विद्यासागर की प्रतिमा के साथ की गई बर्बरता पर आयोग को गहरा दु:ख है।

उम्मीद है कि राज्य प्रशासन द्वारा ऐसा करने वालों का पता लगाया जाएगा और उनके खिलाफ कड़ी कारवाई की जाएगी। आयोग ने प्रचार के समय में कटौती करते हुए चुनाव प्रचार और चुनाव से जुड़े किसी भी तरह के राजनीतिक और सांस्कृतिक कार्यक्रमों पर रोक लगा दी है। साथ ही आयोग ने रैलियों, जनसभाओं और रोड शो पर सख्त पाबंदी लगा दी है।

आयोग ने सभी दलों को सख्त हिदायत दी है कि वे सोशल मीडिया पर भी किसी तरह के वीडियो डालने से परहेज करें। मालूम हो कि लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण में पश्चिम बंगाल की नौ संसदीय सीटों दमदम, बारासात, बशीरहाट, जयनगर, मथुरापुर, जाधवपुर, डायमंड हार्बर, दक्षिण और उत्तरी कोलकाता में 19 मई को मतदान होना है।

गौरतलब है कि कोलकाता में मंगलवार को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो में बवाल के बाद से पश्चिम बंगाल से लेकर दिल्ली तक सियासी पारा चढ़ा हुआ है। इस हंगामे की वजह से आखिरी चरण की वोटिंग से पहले टीएमसी और भाजपा का टकराव गंभीर मोड़ पर पहुंच चुका है। ममता बनर्जी ने जहां हिंसा के लिए भाजपा को जिम्मेदार ठहराया है, वहीं भाजपा ने चुनाव आयोग से ममता के चुनाव प्रचार पर बैन की मांग की है।

चुनाव आयोग की कार्यवाही पर बोली ममता
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि अमित शाह ने अपनी सभा के माध्यम से हिंसा कराया। ईश्वर चंद्र विद्यासागर की प्रतिमा तोड़ी गई, लेकिन पीएम मोदी ने अभी तक इसके लिए खेद नहीं जताया। बंगाल के लोगों ने इसे घटना को गंभीरता से लिया है और अमित शाह के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि अमित शाह ने आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करके चुनाव आयोग को धमकी दी है। क्या ये उसी का नतीजा है? बंगाल डरा नहीं है। बंगाल को इसलिए निशाना बनाया गया क्योंकि मैं मोदी के खिलाफ बोल रही हूं। ममता बनर्जी ने कहा कि चुनाव आयोग भाजपा के कहने पर चल रहा है। यह एक अभूतपूर्व निर्णय है। कल की हिंसा अमित शाह की वजह से हुई थी। चुनाव आयोग ने उन्हें कारण बताओ नोटिस क्यों नहीं जारी किया या उन्हें बर्खास्त क्यों नहीं किया?

रोड शो बवाल को लेकर शाह पर दो थानों में एफआइआर
 भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो में विद्यासागर कॉलेज के बाहर पथराव के बाद हुई झड़प और ईश्वरचंद्र विद्यासागर की मूर्ति तोड़े जाने के मामले में छात्र-छात्राओं ने दो थानों में अमित शाह समेत अज्ञात लोगों के खिलाफ दो एफआइआर दर्ज कराई हैं। पुलिस ने गैर जमानती धाराओं में मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है। इस मामले में अभी तक 58 भाजपा समर्थकों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

कोलकाता पुलिस आयुक्त डॉ. राजेश कुमार ने कहा है कि इस घटना में पुलिस ठोस कार्रवाई करने के लिए प्रतिबद्ध है। उधर, अपने खिलाफ दर्ज एफआइआर के मामले में अमित शाह ने कहा कि भाजपाई डरते नहीं हैं। यदि साहस है तो किसी भी एजेंसी से घटना की निष्पक्ष जांच करा ली जाए।

जुलूस निकालकर वामदलों ने जताया विरोध
अमित शाह के रोड शो के दौरान हुई हिंसा और ईश्वर चंद्र विद्यासागर की मूर्ति तोड़े जाने के विरोध में बुधवार को माकपा समेत अन्य वामपंथी दलों के नेतृत्व में जुलूस निकाला गया। कॉलेज स्क्वायर से हेदुआ तक विरोध जुलूस निकालकर वामदलों ने हिंसा व तोड़फोड़ की निंदा की गई। वहीं वामदलों द्वारा घटना के पीछे वास्तविक तथ्यों का पता लगाने के लिए संपूर्ण मामले की जांच की बात कही गई।

इस दौरान माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी, पार्टी के वरिष्ठ नेता प्रकाश करात, राज्य माकपा सचिव सूर्यकांत मिश्र, वाममोर्चा के चेयरमैन विमान बोस और सुजान चक्रवर्ती समेत अन्य नेता मौजूद रहे। वहीं मीडिया कर्मियों से मुखातिब हुए येचुरी ने कहा कि सुनियोजित योजना के तहत मूर्ति तोड़ी गई है। ऐसे में आरोपितों की शिनाख्त कर उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।

चुनाव आयोग ने ट्विटर को एग्जिट पोल से जुड़े ट्वीट हटाने का दिया निर्देश
 

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sanjeev Tiwari