आजमगढ़, जेएनएन। लोकसभा चुनाव 2019 में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पिता मुलायम सिंह यादव के लोकसभा क्षेत्र आजमगढ़ में मोर्चा संभाल लिया है। आज आजमगढ़ से नामांकन करने के बाद अखिलेश यादव ने जनसभा में भाजपा पर जोरदार हमला भी बोला।

आजमगढ़ में अखिलेश यादव ने नया भारत बनाने की बात पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि नया भारत तभी बनेगा जब देश में नया प्रधानमंत्री होगा। भाजपा पर तंज कसा और कहा कि भाजपा की बात शौचालय से शुरू होकर वहीं पर समाप्त हो जाती है। पहले देश से चौकीदार हटेंगे फिर ठोकीदार की छुट्टी होगी। उन्होंने कहा कि मुझे इस बात का भरोसा है कि देश में परिवर्तन होगा, क्योंकि जनता तो गठबंधन का साथ देगी।

अखिलेश यादव ने सधे राजनीतिज्ञ की तरह पहले आजमगढ़ से रिश्तों की डोर मजबूत की फिर सरकार को हर मुद्दे पर घेरा व तंज कसकर जनता से तालियां भी खूब बटोरी। उन्होंने कहा सपा, बसपा व रालोद यानी तीन दलों के गठबंधन को भाजपा महामिलावट कह रही है। अब आप ही बताइए 38 दलों के गठबंधन को क्या कहेंगे। भाजपा ने सबको सिर्फ सपने दिखाए, काम एक भी पूरा नहीं किया। किसानों की आय दो गुनी करने की बात कही, वह भी पूरा नहीं की। दो करोड़ लोगों को रोजगार देने की बात कही गई। वह भी अधूरा रहा। भाजपा की बात शौचालय से शुरू होती है और यहीं समाप्त होती है। वैसे भी शौचालय के मामले में कांग्रेस व भाजपा में कोई खास अंतर नहीं है। एक ने शौचालय के लिए एक गड्ढा खोदवाया तो दूसरे ने दो गड्ढा। बसपा, रालोद व सपा का महागठबंधन नया इतिहास रचेगा।

अखिलेश यादव ने कहा कि पहले देश से चौकीदार हटेंगे फिर ठोकीदार भी। भाजपा नया भारत की बात कह रही है लेकिन नया भारत तभी बनेगा जब नया प्रधानमंत्री बनेगा। सपा के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आजमगढ़ संसदीय सीट से नामांकन करने के बाद बैठौली में जनसभा को संबोधित किया। सबसे पहले उन्होंने आजमगढ़ से रिश्तों को जोड़ते हुए कहा कि इटावा के बाद दूसरा घर हमारा आजमगढ़ ही है। जब मुझे राजनीति नहीं समझ में आती थी, उस वक्त से आजमगढ़ आ रहा हूं। महागठबंधन का रिश्ता जैसे दिल से है वैसे ही हमारा रिश्ता आजमगढ़ से है।

अखिलेश ने कहा कि यह चुनाव मामूली चुनाव नहीं है। परिवर्तन का चुनाव है। संविधान बचाने का चुनाव है। प्रधानमंत्री नया बनाने का चुनाव है। इसी बीच प्रधानमंत्री पर तंज कसते हुए कहा कि अच्छे दिन, कहां है। हमें भी बताइए। हम गाड़ी में बैठकर ढूंढ लेंगे। जनता से सवाल करते हुए कहा कि आप बताइए पहले चायवाला बनकर लोग आए तो चाय खराब निकली की नहीं। चाय तभी अच्छी बनेगी, जब दूध अच्छा होगा। वह चाय वाले हैं तो हम भी दूध वाले हैं। यह सरकार भ्रष्टाचार के नाम पर लोगों का पैसा बैंक में जमा करायी। कहा कि काला धन लाएंगे। उस वक्त भी हम यही कहते थे कि कालाधन नहीं होता है, लेनदेन काला होता है। किसी ने नहीं मानी। 36 हजार से अधिक उद्योगपति देश छोड़कर भाग गए। भाजपा कहती थी कि चप्पल पहनने वाले हवाई सफर करेंगे पर अब हवाई जहाज कंपनियों ही एयरपोर्ट पर विमान छोड़कर जा रही हैं। जनता नाखूश है। चौकीदार की चौकी छिन जाएगी। उत्तर प्रदेश में हमारे बाबा ठोकीदार भी जा जाएंगे। जब यह पुलिस वालों से ठोकने के लिए कहते थे तो पुलिस समझ नहीं पाई और जनता को ही ठोक दी। सांसद ने विधायक को 21 जूतों की सलामी दे दी।

समाजवादियों की बात करें तो आजमगढ़ के विकास के लिए कभी रोक नहीं लगायी। डिमांड जितना, उससे अधिक दिया। विकास के मामले में भी हम पीछे नहीं रहे। 21 माह में ऐसी सड़क बनाकर दिखायी जहां लड़ाकू विमान भी उतार दिया। पूर्वांचल एक्सप्रेस वे की बात करें तो यह बाबा मुख्यमंत्री नहीं बना पाएंगे। फिलहाल सरकार बनी तो अधूरे इस कार्य को हम मूर्तरूप देंगे। बलिया वालों को भी निराश होने की जरूरत नहीं है। इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, रोजगार सेवक, आशा व शिक्षामित्रों के समायोजन की तरफ इशारा करते हुए कहा कि यह काम भाजपा नहीं कर पाएगी, यह हम करेंगे। दिल्ली में सरकार बनी तो पुरानी पेेंशन बहाली का भी समाधान निकालेंगे। इस दौरान एक दर्जन से अधिक लोग सपा का दामन भी थामे। इसमें बसपा के नेता भी शामिल रहे। 

Posted By: Dharmendra Pandey