राज्य ब्यूरो, रांची। महागठबंधन की पार्टियां भले ही चुनावी आंकड़ों से मजबूत होने की कोशिश करें उनके दल के नेता-कार्यकर्ता उत्‍साहित नहीं हैं और इधर-उधर रास्ते तलाशने लगे हैं। इसी क्रम में बुधवार को झारखंड विकास मोर्चा (झाविमो) में अनुसूचित जनजाति मोर्चा के अध्‍यक्ष रहे प्रभात भुइयां और पिछले चुनाव में दमदार उपस्थिति दर्ज करा चुकीं नीलम देवी और उनके दर्जनों समर्थक भाजपा में शामिल हो गए। दोनों नेता पलामू और चतरा से टिकट के दावेदार थे और जब दोनों में से एक भी सीट झाविमो के खाते में नहीं आई तो इन्होंने पार्टी बदल ली। हालांकि दावा किया कि देश ही नहीं दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी की नीतियों से प्रभावित होकर भाजपा का दामन थामा है।

इन दोनों को प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा, उपाध्यक्ष आदित्य साहू व प्रदीप वर्मा, प्रदेश महामंत्री दीपक प्रकाश, मीडिया प्रभारी शिवपूजन पाठक, पलामू जिलाध्‍यक्ष नरेंद्र पांडेय के अलावा अन्य प्रमुख नेताओं की मौजूदगी में पार्टी की सदस्यता दिलाई गई।

इस मौके पर प्रभात भुइयां ने कहा कि वह भाजपा शासनकाल में विकास से प्रभावित होकर अपनी पार्टी से यहां आए हैं जबकि नीलम देवी ने कहा की उन्होंने झाविमो मैं भी इमानदारी से काम किया था और यहां भी संगठन का जो दायित्व मिलेगा उसे पूरा करेंगीं। महागठबंधन में चतरा पलामू सीट दूसरे दलों के हिस्से में जाने के बाद यह दोनों नेता अपनी पार्टी छोड़कर निकले हैं।

दोनों का पार्टी में स्वागत करते हुए लक्ष्मण गिलुवा ने कहा कि 2014 के बाद से पार्टी में दूसरे दलों से नेताओं और कार्यकर्ताओं जुड़ना लगातार जारी है। पार्टी की विचारधारा के साथ-साथ केंद्र एवं राज्य सरकार की नीतियों से प्रभावित होकर लोग भाजपा में शामिल हो रहे हैं। इन दोनों नेताओं से पार्टी और मजबूत होगी। ज्ञात हो की पिछले लोकसभा चुनाव में चतरा से नीलम देवी को 1.04 लाख वोट आये थे जबकि 2009 के चुनाव में प्रभात को 94 हजार वोट। दोनों नेताओं को टिकट की गारंटी के सवाल पर लक्ष्मण ने कहा कि अभी ऐसी कोई बात नहीं है। इन्हें पार्टी के लिए काम करना है और टिकटों का फैसला 22 मार्च तक हो जाएगा।

 

Posted By: Sachin Mishra