जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। ईवीएम पर विपक्ष के हमलों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने मंत्रिमंडलीय सदस्यों के साथ बैठक की। इनमें राजग के सहयोगी दल के मंत्री भी शामिल थे। राजग की पूर्ण बहुमत के साथ वापसी की एक्जिट पोल की भविष्यवाणी के बीच अमित शाह ने चुनाव के दौरान मिले भारी जनसमर्थन का श्रेय प्रधानमंत्री को दिया। वहीं प्रधानमंत्री ने मंत्रिमंडलीय सहयोगियों को बताया कि पद, प्रतिष्ठा और पावर सब जनता से ही आता है।

पार्टी मुख्यालय में गृह मंत्री राजनाथ सिंह, सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, खाद्य मंत्री रामविलास पासवान और खाद्य प्रसंस्करण मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने प्रधानमंत्री का स्वागत किया। प्रधानमंत्री ने बताया कि पिछले पांच वर्षो में सरकार ने जनता की मौलिक जरूरतों को पूरा करने की कोशिश की है। जरूरतमंदों को ध्यान में रखकर योजनाएं बनाई गई और लाभार्थियों तक उन्हें पहुंचाना सुनिश्चित किया गया। उन्होंने इसमें मंत्रिमंडलीय सहयोगियों के योगदान की भी सराहना की। मोदी ने कहा कि जब आप जनता के लिए काम करते हैं, तो जनता बदले में आप पर भरोसा जताती है।

जनता की भलाई के लिए पिछले पांच वर्षो के काम का नतीजा ही है कि देश में पहली बार सकारात्मक मुद्दों पर चुनाव हो रहा है। प्रधानमंत्री ने बताया कि पिछले पांच वर्षो में तमाम उतार-चढ़ाव के बीच राजग कमोवेश एकजुट रहा और सभी सहयोगियों की भूमिका सकारात्मक रही। प्रधानमंत्री ने बताया कि 125 करोड़ जनसंख्या वाला भारत यदि मजबूत होता है तो इसका असर सिर्फ देश के भीतर ही नहीं होगा, बल्कि पूरी दुनिया पर दिखेगा।

वहीं अमित शाह ने बताया कि किस तरह मोदी सरकार की पांच साल की उपलब्धियों ने पार्टी के लिए जनता से जुड़ना आसान बना दिया। उन्होंने कहा कि भाजपा इन उपलब्धियों के साथ जनता तक पहुंचने में सफल रही। पांच साल में देश की 50 करोड़ जनता को सीधे प्रभावित करने वाली योजनाएं बनाने और उन्हें अमली जामा पहनाने का श्रेय उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी को दिया। 

एनडीए के घटक दलों के नेताओं के लिए डिनर 
वहीं भाजपा की ओर से आज दिल्ली के होटल अशोक में न सिर्फ एनडीए के घटक दलों के नेताओं के लिए डिनर रखा गया बल्कि यहां सभी सहयोगी दलों की तरफ से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सम्मानित भी किया गया। आपको बता दें कि सभी एग्जिट पोल्स में भविष्यवाणी की गई है कि एनडीए एक बार फिर शानदार तरीके से सत्ता में वापसी कर रहा है। ऐसे में भले ही नतीजों की घोषणा होनी बाकी हो पर भाजपा समेत एनडीए का आत्मविश्वास बढ़ा है।

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की पहल पर एनडीए के शीर्ष नेताओं की यह बैठक ऐसे समय में बुलाई गई जब 22 विपक्षी दलों ने कुछ देर पहले ही ईवीएम को लेकर चुनाव आयोग से कई मांगें सामने रखी। होटल अशोक में आयोजित डिनर बैठक में शिरोमणि अकाली दल के नेता पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल, सुखबीर सिंह बादल, बिहार के मुख्यमंत्री और जेडीयू अध्यक्ष नीतीश कुमार, तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के पलानीसामी तथा एलजेपी प्रमुख रामविलास पासवान, शिवसेना के अध्यक्ष उद्धव ठाकरे शामिल हुए।

विभिन्न योजनाओं के समर्थन में एनडीए पास किया प्रस्तावः राजनाथ 
एनडीए के डिनर के बाद केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि सरकार की विभिन्न योजनाओं के समर्थन में आज एनडीए ने एक प्रस्ताव पास किया गया है। इस मीटिंग को पीएम मोदी के अलावा अमित शाह, नीतीश कुमार, उद्धव ठाकरे आदि ने भी लोगों को संबोधित किया। ईवीएम को लेकर अनावश्यक मुद्दा उठाया जा रहा है, इसको लेकर इस बैठक में चिंता व्यक्त की गई।

पीएम मोदी ने इस बैठक में कई नैरेटिव चेंज करने की बात कही है, गरीबी ही सबसे बड़ी समस्या है। एनडीए के सभी नेताओं ने इस बैठक में पीएम के विजन और उनके नेतृत्व की तारीफ की। उन्होंने कहा कि बैठक में एनडीए के 36 दलों के नेता उपस्थित थे। बैठक में तीन दल के नेता उपस्थित नहीं थे, उन्होंने पत्र लिखकर अपना समर्थन दिया है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Tanisk

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप