भोपाल, एजेंसी। Lok Sabha Election 2019 अयोध्‍या में विवादित ढांचा विध्‍वंस मामले में बयान देने पर भोपाल से भाजपा उम्‍मीदवार साध्‍वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर (Pragya Singh Thakur) की मुश्किलें बढ़ गई हैं। निर्वाचन आयोग (Election Commission) के निर्देश पर आदर्श आचार संहिता के उल्‍लंघन को लेकर प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है। उधर, साध्‍वी प्रज्ञा ने कहा है कि उनकी लीगल टीम इस मामले को देख रही है।

बता दें कि साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कहा था कि वह अयोध्‍या गई थीं और उन्‍होंने विवादित ढांचे पर चढ़कर उसे तोड़ा। उन्‍होंने कहा था, 'मैंने पहले भी कहा है कि मैं अयोध्‍या गई थी और विवादित ढांचे पर चढ़कर उसे तोड़ा। इस पर मुझे गर्व है। ईश्वर ने मुझे अवसर और शक्ति दी थी, इसलिए मैंने यह काम किया। मैंने देश का कलंक मिटाया था। मैं आगे भी अयोध्‍या जाऊंगी और वहां राम मंदिर निर्माण में मदद करूंगी। कोई भी हमें ऐसा करने से नहीं रोक सकता है। राम ही राष्‍ट्र हैं और राष्‍ट्र ही राम है।' 

निर्वाचन अयोग ने स्वत: संज्ञान लेते हुए उक्‍त विवादित बयान पर साध्वी प्रज्ञा को आचार संहिता के उल्लंघन का नोटिस भेजा था। साध्‍वी को विवादित बयानों पर निर्वाचन अयोग की ओर से यह दूसरा नोटिस थमाया गया था। भोपाल के एसडीएम संजय कुमार श्रीवास्‍तव ने बताया कि जिला निर्वाचन अधिकारी की ओर से भेजे गए नोटिस पर साध्‍वी प्रज्ञा का जवाब संतोषजनक नहीं था इसलिए उनके खिलाफ आदर्श आचार संहिता के उल्‍लंघन के आरोप में एफआईआर दर्ज की गई है।  

गौरतलब है कि इससे पहले मुंबई हमले में शहीद हुई आइपीएस हेमंत करकरे को साध्वी ने देशद्रोही कहा था। बवाल मचा तो साध्‍वी ने उक्‍त बयान पर माफी मांग ली थी। उन्‍होंने कहा था कि यदि मेरे शब्दों से यदि दुश्मनों को फायदा होता है तो मैं बयान वापस लेती हूं। उन्‍होंने यह भी कहा था कि शहीद हेमंत करकरे पर दिए बयान को लेकर मैं माफी मांग चुकी हूं। अब उन लोगों से भी माफी मंगवाई जाए, जिन्होंने मुझे नौ साल तक पीड़ा दी।

Posted By: Krishna Bihari Singh