नई दिल्ली [जागरण स्पेशल]। लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Election 2019) राजनीति में अभद्र भाषा के लिए याद किया जाएगा।सोमवार को चुनाव आयोग ने बेहद सख्त रुख अपनाते हुए चार नेताओं के चुनाव-प्रचार पर प्रतिबंध लगा दिया। इसमें बसपा प्रमुख मायावती, सपा के वरिष्ठ नेता आजम खान, यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व वरिष्ठ भाजपा नेता मेनका गांधी हैं। इनके अलावा सोमवार को हिमाचल भाजपा के चीफ सतपाल सिंह सत्ती और बसपा नेता गुड़्डु पंडित के अभद्र भाषण का वीडियो इंटरनेट पर जमकर वायरल हुआ। बावजूद राजनीतिक मंचों पर अश्लील और अभद्र बयानबाजी जारी है।

वैसे तो लोकसभा चुनाव 2019 की शुरूआत ही, संभवतः राजनीति के अब तक के सबसे निचले स्तर की भाषा से हुई। कांग्रेस ने जहां प्रधानमंत्री समेत भाजपा नेताओं के लिए ‘चौकीदार चोर है’ जैसी टिप्पणी की। वहीं भाजपा नेताओं ने कांग्रेस नेताओं और विशेषकर राहुल व प्रियंका को लेकर व्यक्तिगत हमले भी किए। लोकसभा चुनाव करीब आते-आते कई नेताओं की बदजुबानी धर्म, जाति और महिला सम्मान जैसी मर्यादा को लांघकर, इतनी बढ़ चुकी थी कि राजनीतिक दलों समेत तमाम चुनावी विश्लेषकों ने इस पर चिंता व्यक्त की।

ये भी पढ़ें- सपा जिलाध्यक्ष के बिगड़े बोल, कहा-जयाप्रदा से रंगीन हो जाएगी रामपुर की शाम

लोकसभा चुनाव के पहले चरण (11 अप्रैल) के मतदान के बाद दूसरे चरण (18 अप्रैल) से ठीक पहले इन नेताओं की बदजुबानी मां-बहन की गालियों और सड़क छाप गुंडों की फूहड़ता तक पहुंच चुकी है। हैरानी की बात तो ये हैं कि जिनके खिलाफ इस भाषा का प्रयोग किया जा रहा है, वो संसद में उनके साथी हैं या पूर्व में कभी साथ रहे भी हैं। चुनाव आयोग की तमाम हिदायत और सख्तियों के बावजूद ऐसे बयान बढ़ रहे हैं। इनमें कुछ नेताओं की भाषा इतनी अमर्यादित है कि उन्हें हूबहू न तो लिखा जा सकता है और न ही उनके भाषणों का पूरा वीडियो दिखाया जाना उचित है। ऐसे में हम आपको यहां, कुछ नेताओं के बिगड़े बोल के संपादित भाषण का हिस्सा पढ़ाते हैं।

माननीयों के अमाननीय बयान

15 अप्रैल 2019: बसपा उम्मीदवार गुड्डु पंडित ने फतेहपुर सीकरी में एक रैली के दौरान विवादित बयान दिया। उन्होंने कहा, ‘सुन लो राज बब्बर के कुत्तों, तुमको और तुम्हारे नेता-नचनिया को दौड़ा-दौड़ा के जूतों से मारूंगा जो झूट फैलाया समाज में। जहां मिलेगा, गंगा मां की सौगंध तुझे जूतों से मारूंगा, तुझे और तेरे दलालों को।’

14 अप्रैल 2019: यूपी के सुल्तानपुर से भाजपा उम्मीदवार मेनका गांधी ने पीलीभीत में अपने बेटे और पार्टी के उम्मीदवार वरुण गांधी के समर्थन में रैली की। इस दौरान उन्होंने कहा था, ‘जिस इलाके से जितना मत हासिल होगा, वहां उतना काम होगा।’ उन्होंने वोट के आधार पर इलाकों को ABCD श्रेणी में बांटने की बात कही थी। इससे पहले मेनका ने सुल्तानपुर की एक सभा में कहा था, ‘अगर उन्हें मुसलमान वोट नहीं देंगे, तो अच्छा नहीं लगेगा। वो बिना मुसलमानों के समर्थन से भी चुनाव जीत सकती हैं। लेकिन अगर मुसलमान सहयोग करेंगे तो अच्छा लगेगा।’

14 अप्रैल 2019: सपा नेता आजम खान ने भाजपा के टिकट से रामपुर में उनके खिलाफ लोकसभा चुनाव लड़ रहीं जया प्रदा को लेकर अश्लील टिप्पणी की। जया प्रदा, कुछ समय पहले तक सपा में ही थीं। आजम खान ने उन पर अश्लील टिप्पणी करते हुए कहा था, ‘रामपुर वालों, उत्तर प्रदेश वालों, हिन्दुस्तान वालों, उसकी असलियत समझने में आपको 17 बरस लग गए। मैं 17 दिनों में पहचान गया था कि ----, खाकी रंग का है।’

14 अप्रैल 2019: शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने महाराष्ट्र के ठाणे जिले के मीरा-भायंदर में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा था, ‘हम ऐसे लोग हैं, भाड़ में गया कानून, आचार संहिता भी हम देख लेंगे। जो बात हमारे मन में है, वो अगर हम मन से बाहर नहीं निकालें तो घुटन सी होती है।’

13 अप्रैल 2019: हिमाचल भाजपा के प्रभारी सतपाल सिंह सत्ती ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को लेकर विवादित टिप्पणी की थी। उन्होंने कहा था, ‘उस बेचारे को पता नहीं लगता, जो लिख कर दे देते हैं, वही वह बोल देते हैं। उनकी इतनी उम्र हो गई और परिवार में तीन प्रधानमंत्री रहे, आपको यही पता नहीं कि क्या बोलना है। मंच से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चोर बोलते हैं, जबकि भैया तेरी मां जमानत पर, तुम खुद जमानत पर और तेरे जीजा भी जमानत पर हैं यानी पूरा परिवार ही जमानती है। मोदी की न जमानत हुई, न केस बना, न किसी ने सजा दी, तू कौन होता है जज की तरह चोर बोलने वाला।’ उन्होंने मंच से फेसबुक की कुछ पोस्ट पढ़ते हुए किसी व्यक्ति द्वारा राहुल को दी गई मां की गाली भी मंच से पढ़ डाली, जिसे लेकर काफी हंगामा मचा है।

13 अप्रैल 201: RLD उम्मीदवार नरेंद्र सिंह ने हेमामालिनी पर अशोभनीय टिप्पणी करते हुए एक रैली में कहा था, ‘किसके चेहरे पर ज्यादा आत्मविश्वास दिख रहा है? मेकअप के साथ हेमामालिनी या बिना मेकअप के मैं।’

09 अप्रैल 2019: यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि अगर कांग्रेस, एसपी, बीएसपी को अली पर विश्वास है, तो हमें भी बजरंग बली पर विश्वास है। योगी ने देवबंद में मायावती के उस भाषण की तरफ इशारा करते हुए ये टिप्पणी की थी, जिसमें मायावती ने धर्म के आधार पर वोट मांगा था।

07 अप्रैल 2019: देवबंद, सहारनपुर में गठबंधन की संयुक्त रैली को संबोधित करते हुए मायावती ने कहा था कि मुसलमान अपना वोट बंटने न दें। एकमुश्त गठबंधन प्रत्याशी को वोट करें।

02 अप्रैल 2019: भाजपा नेता जयकरण गुप्ता ने प्रियंका गांधी वाड्रा का नाम लिये बिना उन पर हमला करते हुए कहा था, ‘अरे स्कर्ट वाली बाई साड़ी पहनकर मंदिर में शीश लगाने लगी। गंगाजल से परहेज करने वाले लोग, गंगाजल का आचमन करने लगे।’

01 अप्रैल 2019: पीपुल्स रिपब्लिकन पार्टी (पीआरपी) के नेता जयदीप कवाडे ने नागपुर के बगाडगंज इलाके में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए भाजपा नेता स्मृति ईरानी के खिलाफ अश्लील टिप्पणी की थी। कवाड़े ने स्मृति ईरानी की बिंदी के साइज को लेकर ये टिप्पणी की थी। महाराष्ट्र भाजपा की शिकायत पर तीन अप्रैल को कवाडे को गिरफ्तार किया गया था।

चुनाव की विस्तृत जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Posted By: Amit Singh