पूर्णिया [संयम कुमार]। बिहार के पूर्णिया लोकसभा क्षेत्र की चुनावी जंग अपनों की पहरेदारी के बूते जीती जाएगी। मुकाबला आमने-सामने का है। एनडीए के जदयू प्रत्याशी निवर्तमान सांसद संतोष कुमार कुशवाहा और महागठबंधन के कांग्रेस प्रत्याशी उदय सिंह उर्फ पप्पू सिंह गठबंधन के कैडर वोटों को समेटने के लिए एड़ी-चोटी एक किए हुए हैं। कैडर वोटों के बंटने के आधार कई हैं। 

दोनों ही साध रहे वोटरों को

चूंकि उदय सिंह ने भाजपा छोड़कर कांग्रेस का दामन थामा है, लिहाजा वे मानकर चल रहे कि भाजपा में रहते उनके साथ जुड़े कार्यकर्ता निजी तौर पर उनका साथ निभाएंगे। दूसरी ओर विकास, राष्ट्रवाद और अगड़े-पिछड़े के मुद्दे पर महागठबंधन के दलों के कैडर वोटों की टूटन से संतोष कुशवाहा आशान्वित हैं। दोनों ही पक्ष इन वोटों को साधने की कोशिश में हैं। 

कार्यकर्ताओं ने यदि चल दी अपनी चाल

यदि कार्यकर्ताओं ने अपनी चाल चल दी तो खेल बनते-बिगड़ते देर न लगेगी। आम मतदाताओं के बीच केंद्र और राज्य की योजनाओं पर मिश्रित चर्चा है। जो लाभ न पा सके, उनकी नाराजगी क्रियान्वयन और उसके कारिंदों से है। प्रत्याशी के विरोध और समर्थन का यह भी बड़ा आधार है। जिन्हें लाभ मिला वे मुखर हैं। रोचक यह कि ऐसे मतदाता खुद को किसी कैडर की घेरेबंदी में नहीं रखता चाहते। 

मैदान में ताल ठाेक रहे हैं ये प्रत्‍याशी 

जदयू- संतोष कुमार कुशवाहा 

कांग्रेस- उदय सिंह उर्फ पप्पू सिंह 

बसपा- जितेंद्र उरांव 

निर्दलीय- मंजू मुर्मू, सनोज कुमार चौहान, मो. अख्तर अली, अनिरुद्ध मेहता, अर्जुन सिंह, अशोक कुमार शाह, डॉ. मृत्युंजय कुमार झा, राजीव कुमार सिंह, राजेश कुमार, सुभाष कुमार ठाकुर, शोभा सोरेन व सगीर अहमद

खास बातें

कुल मतदाता: 1761668

पुरुष: 913880

महिला: 847738

थर्ड जेंडर: 50

मतदान केंद्र: 1758

Posted By: Rajesh Thakur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस