मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

रांची, राज्य ब्यूरो। लोकसभा चुनाव की सफलता से उत्साहित प्रदेश भाजपा की टीम अब मिशन झारखंड में जुट गई है। लोकसभा चुनाव के परिणाम आने के साथ ही भाजपा ने छह माह के भीतर होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारी शुरू कर दी है। बता दें कि लोकसभा चुनावों में एनडीए गठबंधन ने झारखंड की 81 विधानसभा सीटों में से 63 पर बढ़त बनाई है।

टीम भाजपा का मिशन आने वाले विधानसभा चुनाव में इसे दोहराने का है। झारखंड में लोकसभा चुनाव में बड़ी जीत हासिल करने के साथ ही मुख्यमंत्री रघुवर दास के मैनेजमेंट को दिल्ली तक सराहा जा रहा है। उन्होंने लोकसभा चुनाव की तैयारी भी विधानसभावार की थी। इसका सीधा परिणाम यह रहा कि भाजपा ने 12 लोकसभा सीटों पर दर्ज करने के साथ ही 57 विधानसभा क्षेत्रों में बढ़त दर्ज की है।

जबकि छह विधानसभा क्षेत्रों में उसकी सहयोगी आजसू आगे रही। जबकि यूपीए गठबंधन की बढ़त महज 18 विधानसभा क्षेत्रों तक सिमट कर रह गई है। उसे 14 संसदीय सीटों में से महज दो हासिल हुई है। राज्य में कुल 81 विधानसभा सीटें हैं। यदि ये परिणाम दोहराए गए तो भाजपा आसानी से बहुमत के आंकड़े को छू लेगी। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने आगामी विधानसभा के लिए प्रदेश में दो तिहाई बहुमत के साथ सरकार बनाने का लक्ष्य भी निर्धारित कर दिया है।

आसान नहीं है चुनौती

पिछला रिकॉर्ड बताता है कि झारखंड में लोकसभा चुनाव के परिणाम दोहराए नहीं जाते हैं। पिछले लोकसभा चुनावों में भी भाजपा ने 14 में से 12 सीटें हासिल की थी। 60 से अधिक विधानसभा क्षेत्रों में पार्टी को बढ़त मिली थी, लेकिन छह माह के भीतर हुए विधानसभा चुनावों में भाजपा महज 37 सीटों पर सिमट गई थी।

हालांकि, झाविमो से टूटकर छह विधायक भाजपा में शामिल होने से विधानसभा में पार्टी का आंकड़ा 43 का हो गया था। जाहिर है, लोकसभा और विधानसभा चुनावों को लेकर मतदाताओं का रुख झारखंड में अलग ही रहता है। ऐसे में टीम भाजपा के लिए विधानसभा चुनाव में इन परिणामों को दोहराने की बड़ी चुनौती है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sujeet Kumar Suman

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप