जयपुर, जागरण संवाददाता। मतदान में अधिक से अधिक मतदाताओं की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए राजस्थान में निर्वाचन विभाग वॉलिंटियर्स की सेवाएं लेगा। लोकसभा चुनाव में दिव्यांग और आम मतदाताओं की सहायता के लिए एक लाख से अधिक वॉलंटियर लगाए जाएंगे। हालांकि मतदान केंद्रों पर लगने वाले वॉलंटियर की उम्र 18 साल से अधिक नहीं होगी।

भारत निर्वाचन आयोग की सुगम निर्वाचन थीम के तहत प्रत्येक मतदान केंद्र पर दो-दो वॉलंटियर लगाए जाएंगे। मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने निर्देश दिया है कि इस बार किसी भी मतदान केंद्र पर वोटर को वॉलंटियर के रूप में नहीं लगाया जाए। हाल ही में कांग्रेस ने वॉलंटियर लगाने पर भी सवाल खड़े किए थे। कांग्रेस ने वॉलंटियर के रूप में आरएसएस कार्यकर्ताओं के काम करने का आरोप लगाया था।

कांग्रेस की शिकायत पर राज्य निर्वाचन विभाग ने 18 वर्ष से ज्यादा उम्र के वॉलंटियर नहीं लगाने के निर्देश दिए है। चुनाव आयोग के दिशा निर्देशों की पालना के तहत ही यह निर्देश दिए गए है। प्रदेश में 51,965 मतदान केंद्रों करीब 1 लाख 4 हजार वॉलंटियर लगाए जाएंगे। वॉलंटियर दिव्यांग और उम्रदराज मतदाताओं को घर से लाएंगे और मतदान केंद्र पर वोट डलवाकर वापस उन्हें घर भी छोड़ेंगे, जिस मतदान केंद्र में 10 से ज्यादा दिव्यांग वोटर्स होंगे उस मतदान केंद्र में व्हीलचेयर भी उपलब्ध रहेगी।  

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस