वाराणसी, जेएनएन। लोकसभा चुनाव के लिए जिला निर्वाचन अधिकारी सुरेंद्र सिंह ने शुक्रवार को पुलिस लाइन में जवानों को प्रशिक्षण के साथ आचार संहिता का पाठ पढ़ाया। पिछले चुनावों के दौरान सामने आई कमियों और समस्याओं की चर्चा करते हुए सुधार की सलाह दी। सभी को मतदान के दौरान आरोप-प्रत्यारोप से बचने की नसीहत दी। साथ ही मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए लोगों को जागरूक करने पर बल दिया।

उन्होंने कहा कि मतदान के दिन हर मतदेय स्थल पर मतदाता सहायता बूथ बनाए जाएंगे। यहां बीएलओ अल्फाबेटिकल मतदाता सूची के साथ रहेंगे। वे मतदाताओं को क्रम, भाग तथा बूथ संख्या बताएंगे। किसी कारणवश पर्ची नहीं बनवा सके मतदाताओं को भी मतदान अवश्य करने दिया जाए। इसके लिए उन्हें पोलिंग एजेंट मतदाता पर्ची बनाकर देंगे। हालांकि वे मतदाता सूची लेकर बाहर नहीं जा सकेंगे।

बूथ से 200 मीटर दूर रहेंगे पार्टी एजेंट : किसी भी राजनीतिक पार्टी या प्रत्याशी की चौकी मतदान केंद्र से 200 मीटर की परिधि के बाहर ही लगाई जाएगी। इसी तरह 100 मीटर की परिधि में कोई चुनाव प्रचार नहीं कर सकेगा। आचार संहिता का पालन नहीं करने वाले के खिलाफ बगैर पक्षपात के कड़ी कार्रवाई करें।

पहचान कर त्वरित करें कार्रवाई : सुरक्षा कर्मियों को किसी का भी पहचान पत्र जांचने का अधिकार होगा। यदि कोई व्यक्ति व्यवधान करे तो उसकी पहचान कर त्वरित कार्रवाई की जाए। बूथ में पोलिंग पार्टी, माइक्रो आब्जर्वर, चुनाव आयोग के प्रेक्षक, जिला निर्वाचन अधिकारी, एसडीएम, इलेक्शन एजेंट तथा बिना किसी चुनाव चिह्न प्रत्याशी अंदर जा सकेंगे।

ईवीएम की सुरक्षा में नहीं हो चूक : जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा ईवीएम की सुरक्षा सबसे बड़ा दायित्व है, इसकी मिस हैंडलिंग भी न हो। इसको सुरक्षित रखना पूरी पोलिंग टीम की जिम्मेदारी है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस