गोरखपुर, जेएनएन। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि भारत की आत्मा गांवों में बसती है। बिना गांव के विकास के भारत के समग्र विकास की कल्पना नहीं की जा सकती। इसके लिए ग्राम प्रधानों को लोकतंत्र की नींव का पत्थर बनना होगा। मुख्यमंत्री सोमवार को गोरखपुर के रानीडीहा स्थित इंद्रप्रस्थ लॉन में प्रधान सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि ग्राम स्वराज और पंचायती राज व्यवस्था को प्रधानमंत्री मोदी ने देश में पहली बार ईमानदारी से लागू किया और महात्मा गांधी के सपने को धरातल पर उतारा। 2014 के पहले तक प्रधानों को सीमित निधि मिलती थी लेकिन अब 10000 की आबादी वाले गांव को भी कम से कम एक करोड़ रुपये प्रति वर्ष दिए जा रहे हैं। हर ग्राम सभा आदर्श ग्राम सभा बन सकती है। कुछ ग्राम प्रधानों ने ऐसा करके दिखाया भी है। प्रधानमंत्री मोदी महात्मा गांधी के ग्राम स्वराज पूरी तरह से लागू कर रहे हैं। हर घर को शौचालय, हर सिर को छत,  बिजली कनेक्शन और रसोई गैस देने जैसे बड़े-बड़े कार्य पिछले 5 सालों में धरातल पर उतरे हैं।

ग्राम सभा को धुरी बनाकर विकास का कार्य करने का श्रेय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ही है। अब इस विकास की धारा थमने नहीं देना है। सरकार ने ग्राम पंचायतों को सीधे धन भेजकर भ्र्ष्टाचार पर प्रभावी अंकुश लगाया है। गांव में सरकारी और गैर सरकारी सभी प्रकार के लेनदेन डिजिटल माध्यम से हों,  इसके लिए कॉमन सर्विस सेंटर और पब्लिक ऐड्रेस सेंटर बनाए जा रहे हैं। ग्राम पंचायतों की सभी छोटी-बड़ी समस्याओं का समाधान सुनिश्चित किया जा रहा है। अब तक उत्तर प्रदेश में 30000 गांव में ऑप्टिकल फाइबर का जाल बिछाया जा चुका हैं। जल्द ही सभी 60 हजार ग्राम पंचायतों में यह सुविधा उपलब्ध होगी। सम्मेलन में सिंचाई मंत्री धर्मपाल सिंह, विधायक विपिन सिंह, शीतल पांडेय आदि मौजूद रहे।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Pradeep Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस