अमरावती, प्रेट्र/आइएएनएस। आंध्र प्रदेश की 175 विधानसभा सीटों और 25 लोकसभा सीटों पर गुरुवार को वोट डाले गए। इस दौरान चुनावी हिंसा में तीन लोगों की मौत हो गई। इनमें दो सदस्य वाईएसआर कांग्रेस और एक सदस्य सत्तारूढ़ तेलुगु देसम पार्टी (टीडीपी) का है। तेलंगाना के अलग होने के बाद राज्य में पहली बार हो रहे आम चुनावों में 73 फीसद लोगों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया।

आंध्र प्रदेश में विधानसभा के उम्मीदवार मधुसूदन गुप्ता ने अनंतपुर जिले के गूटी पोलिंग बूथ में घुसकर मीडिया के सामने ही EVM मशीन तोड़ दी। इससे मतदान केंद्र में अफरा-तफरी मच गई। उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है। घटना का वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो में दिख रहा है कि मधुसूदन गुप्ता मीडिया से बात करते हुए गुस्से में ईवीएम मशीन के पास पहुंचे और उसे टेबल से उठाकर जोर से जमीन पर पटक दिया। 

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि टीडीपी और वाईएसआर कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच झड़पें गुंटूर, अनंतपुरमु, पश्चिमी गोदावरी, प्रकाशम, कुरनूल और कडप्पा जिलों में हुईं। उन्होंने इन झड़पों में मरने वाले लोगों की संख्या नहीं बताई, लेकिन इतना जरूर कहा कि इसकी वजह से किसी भी जगह मतदान प्रभावित नहीं हुआ। पुलिस ने भी चुनावी हिंसा में किसी के मरने की पुष्टि नहीं की। लेकिन वाईएसआर कांग्रेस ने बयान जारी कर दावा किया कि टीडीपी कार्यकर्ताओं के हमले में अनंतपुरमु जिले के वीरापुरम गांव और चित्तूर जिले के तंबल्लापल्ले में उसके एक-एक कार्यकर्ता की मौत हुई है। वहीं, टीडीपी ने दावा किया कि वाईएसआर कांग्रेस कार्यकर्ताओं के हमले में वीरापुरम में उसके एक कार्यकर्ता की मौत हुई है। जबकि जिले में पांच अन्य लोग घायल हुए हैं।

चंद्रबाबू ने की 150 बूथों पर पुनर्मतदान की मांग
आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री और तेलुगु देसम पार्टी (टीडीपी) के अध्यक्ष एन. चंद्रबाबू नायडू ने गुरुवार को मुख्य चुनाव आयुक्त को पत्र लिखकर इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) के काम नहीं करने की वजह से प्रदेश में करीब 150 बूथों पर पुनर्मतदान की मांग की। इससे पहले दिन में चंद्रबाबू ने कई बूथों पर ईवीएम के काम नहीं करने पर नाखुशी जाहिर की थी। इनमें वह बूथ भी शामिल था जहां राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी गोपाल कृष्ण द्विवेद्वी वोट डालने गए थे। चंद्रबाबू ने बताया कि जिन बूथों पर ईवीएम काम नहीं कर रही थीं, वहां सुबह 9.30 बजे तक भी मतदान शुरू नहीं हो पाया था। लिहाजा इस दौरान मतदान करने पहुंचे कई लोग घरों को लौट गए और संभवत: फिर मतदान करने नहीं आए। लिहाजा इन बूथों पर पुनर्मतदान कराने की जरूरत है।

Posted By: Krishna Bihari Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप