मुजफ्फरपुर, जेएनएन। उजियारपुर लोकसभा क्षेत्र पर सबों की नजर थी। यहां सूबे के दो दिग्गजों के बीच मुकाबल था। इसमें बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय ने बाजी मार ली। उन्होंने पूर्व केंद्रीय मंत्री और रालोसपा सुप्रीमो उपेंद्र कुशवाहा को दो लाख 78 हजार 108 मतों से हरा दिया।

उजियारपुर संसदीय क्षेत्र में छह विधानसभा सीटें हैं। इनमें उजियारपुर, मोरवा, सरायरंजन, मोहिउद्दीननगर विभूतिपुर और पातेपुर हैं। पातेपुर सीट आरक्षित है। विभूतिपुर, सरायरंजन, मोरवा में जदयू और मोहिउद्दीननगर, पातेपुर उजियारपुर विधानसभा क्षेत्र राजद के कब्जे में है।

भाजपा प्रत्याशी नित्यानंद राय के पक्ष मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने विभूतिपुर और पातेपुर में चुनावी सभा किया था। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी सरायरंजन में इनके लिए वोट मांगे थे। हालांकि महागठबंधन ने भी उपेंद्र कुशवाहा के लिए पूरी ताकत झोंक दी थी। उनके समर्थन में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी और वीआइपी के अध्यक्ष मुकेश सहनी ने भी इनके समर्थन में सभा की थी। राहुल गांधी और तेजस्वी यादव ने समस्तीपुर में चुनावी सभा कर माहौल बनाने की कोशिश की थी।

उजियारपुर में कांटे की लड़ाई में चुनाव का मुद्दा स्थानीय भी है, राष्ट्रीय भी। नित्यानंद राय अपने चुनावी दौरों में यह बता रहे कि पांच साल में विकास के कौन-कौन से काम हुए। राष्ट्रीय सुरक्षा और आर्थिक विकास का जिक्र करते हुए यह भी समझाते हैं कि नरेंद्र मोदी का प्रधानमंत्री बनना देश के लिए क्यों जरूरी है। दूसरी तरफ, उपेंद्र कुशवाहा क्षेत्र के मुद्दे उठाने के साथ-साथ यह भी बता रहे कि देश एवं लोकतंत्र खतरे में है।

---------------------

2014 के चुनाव की स्थिति 

1. नित्यानंद राय (भाजपा): तीन लाख 17 हजार 352

2. आलोक कुमार मेहता (राजद): दो लाख 56 हजार 883

3. अश्वमेघ देवी (जदयू): एक लाख 19 हजार 669

--------------------

2009 के चुनाव की स्थिति

1. अश्वमेघ देवी (जदयू): एक लाख 80 हजार 82

2. आलोक कुमार मेहता (राजद): एक लाख 54 हजार 770

3. रामदेव वर्मा (माकपा) : 58 हजार 900

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Ajit Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप