मंडी, जागरण संवाददाता। मंत्री पद गंवाने के बाद अब सदर हलके से भाजपा विधायक अनिल शर्मा की विधानसभा सदस्य पर भी संकट मंडरा गया है। पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते अनिल शर्मा पर जल्द गाज गिरने वाली है। भाजपा ने अनिल शर्मा का कच्चा चिट्ठा तैयार कर पार्टी हाईकमान को भेजने का निर्णय लिया है। पार्टी विधानसभा अध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल को पत्र सौंपने की तैयारी में है। 

अनिल शर्मा पर मंडी संसदीय क्षेत्र से पार्टी के अधिकृत प्रत्याशी रामस्वरूप शर्मा, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, पार्टी प्रदेशाध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती व आइपीएच मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर के बयानबाजी करने और चोरी-छिपे अपने बेटे एवं कांग्रेस प्रत्याशी आश्रय शर्मा का प्रचार करने के आरोप हैं। आश्रय शर्मा को मंडी संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस का टिकट मिलने के बाद अनिल शर्मा ने किसी भी प्रत्याशी का प्रचार न करने की बात कही थी। मगर वह अपनी बात पर ज्यादा दिन तक अड़िग नहीं रहे। सदर हलके में अपने बेटे के पक्ष में चोरी-छिपे प्रचार करने के कई ऑडियो व वीडियो सामने आए हैं। कार्यकर्ताओं ने सभी आडियो-वीडियो व उनकी बयानबाजी की क्लिपिंग एकत्र कर पार्टी नेतृत्व को सौंपी है।

लोकसभा चुनाव की घोषणा होने के बाद पार्टी नेतृत्व ने उनकी कई कार्यक्रमों में ड्यूटी लगाई थी। लेकिन वह किसी भी कार्यक्रम में नहीं गए। भाजपा प्रत्याशी रामस्वरूप शर्मा के नामांकन व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली से भी दूरी बनाए रखी। चुनाव के दौरान मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर कई बार मंडी आए। स्थानीय विधायक होने के नाते अनिल शर्मा मुख्यमंत्री के किसी भी कार्यक्रम में शरीक नहीं हुए।

---

पूर्व ऊर्जा मंत्री अनिल शर्मा की पार्टी विरोधी गतिविधियों की फेहरिस्त तैयार कर ली गई है। जल्द रिपोर्ट हाईकमान को सौंपी जाएगी। हाईकमान से जो निर्देश मिलेंगे उसके अनुरूप अनिल शर्मा पर कार्रवाई होगी।

-सतपाल सिंह सत्ती, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष।

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sachin Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप