नई दिल्‍ली, एजेंसी। पूर्व एटीएस चीफ हेमंत करकरे के बारे में प्रज्ञा ठाकुर के बयान से भाजपा ने किनारा कर लिया है। भाजपा प्रवक्‍ता नलिन कोहली ने शुक्रवार को कहा कि हम देश के लिए शहीद होने वाले हर बेटे बेटियों का सम्‍मान करते हैं। हेमंत करकरे जी को लेकर साध्‍वी प्रज्ञा ठाकुर ने जो बयान दिया है वह उनके निजी विचार हैं, क्‍योंकि उनसे पूछताछ की गई थी। हम हेमंत करकरे जी की शहादत का सम्‍मान करते हैं। हम इस पर राजनीति नहीं करेंगे। वहीं चारो ओर से घिरीं प्रज्ञा ठाकुर ने अपने इस बयान के लिए माफी मांग ली है। 

बता दें कि प्रज्ञा ठाकुर के बयान से भाजपा ने किनारा करते हुए शुक्रवार को प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि भारतीय जनता पार्टी का साफ मानना है कि स्‍व. श्री हेमंत करकरे आतंकियों से लड़ते हुए वीरगति को प्राप्‍त हुए थे। जहां तक साध्‍वी प्रज्ञा की टिप्‍पणी का विषय है तो यह उनका निजी बयान है जो कि संभव है कि वर्षों तक उन्‍हें शारीरिक और मानसिक प्रताड़ना के कारण दिया गया होगा। 

ये भी पढ़ें- साध्वी प्रज्ञा को लेकर पीएम मोदी का कांग्रेस पर निशाना, कहा- झूठी कहानी में बनाया खलनायक

वहीं, मध्‍य प्रदेश के मुख्‍य निर्वाचन अधिकारी ने शुक्रवार को बताया कि हमें भोपाल लोकसभा सीट से भाजपा उम्‍मीदवार साध्‍वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के खिलाफ एक शिकायत मिली है। यह शिकायत 26/11 आतंकी हमले में शहीद मुंबई के पूर्व एटीएस प्रमुख हेमंत करकरे के बारे में साध्‍वी के बयान के सिलसिले में दर्ज कराई गई है। इस बयानबाजी को लेकर छानबीन जारी है। भाजपा ने हेमंत करकरे को शहीद ही माना है। 

बता दें कि भोपाल लोकसभा सीट से भाजपा उम्मीदवार साध्‍वी प्रज्ञा ठाकुर ने कहा था कि पूर्व एटीएस चीफ हेमंत करकरे को संन्यासियों का श्राप लगा था। भोपाल में मीडिया से बात करते हुए प्रज्ञा ठाकुर ने अपने ऊपर प्रताड़ना के कई आरोप लगाए थे। साध्‍वी ने कहा, 'मैंने कहा तेरा (मुंबई एटीएस चीफ हेमंत करकरे) सर्वनाश होगा। ठीक सवा महीने में सूतक लगा है, जिस दिन मैं गई थी उस दिन उसे सूतक लग गया था। ठीक सवा महीने में आतंकवादियों ने उसको मारा और उसका अंत हो गया।' 

ये भी पढ़ें- केजरीवाल को लग सकता है बड़ा झटका, AAP को बाय-बाय कहने की तैयारी में अलका लांबा !

वहीं कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के बयान पर कहा है कि निर्वाचन आयोग ने सख्ती से मना किया है कि चुनाव में सेना और शहीद जवानों को लेकर कोई टिपण्णी नहीं की जा सकती। इसके बावजूद प्रज्ञा सिंह की ओर से यह बयान आया है। हेमंत करकरे एक ईमानदार अधिकारी थे जिन्होंने मुंबई आतंकी हमले में लोगों की जान बचाने के लिए खुद की जान कुर्बान की।

वहीं चौतरफा आलोचनाएं झेल रहीं साध्‍वी प्रज्ञा ठाकुर ने शहीद हेमंत करकरे पर दिए अपने विवादित बयान पर माफी माग ली है। साध्‍वी ने शुक्रवार शाम को कहा कि मुझे लगता है कि देश के दुश्‍मनों को इस बयान से फायदा हो रहा है। इसलिए हेमंत करकरे पर दिया अपना बयान वापस लेती हूं और इसके लिए माफी मांगती हूं। यह मेरी  निजी पीड़ा थी। 

चुनाव की विस्तृत जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Posted By: Krishna Bihari Singh