जमशेदपुर, जेएनएन। जमशेदपुर संसदीय सीट से भाजपा के उम्मीदवार विद्युत वरण महतो ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के चंपई सोरेन को तीन लाख 2019 मतों से हराया। विद्युतवरण महतो पहले चक्र की ही मतगणना से आगे थे और अंतिम चक्र की मतगणना तक ये बढ़त लगातार बढ़ती गई। अंतिम चक्र की मतगणना का एलान होते ही मतगणना स्थल पर मौजूद भाजपाइयों ने भारत माता की जय के नारे लगाए। 

सांसद विद्युतवरण महतो को कुल छह लाख 79 हजार 632 मत मिले हैं। जबकि, चंपई महज तीन लाख 77 हजार 542 मतों पर सिमट गए। विद्युत को 648 पोस्टल बैलट और चंपई को 190 पोस्टल बैलट मिले हैं। विद्युत जमशेदपुर संसदीय सीट की मतगणना कोऑपरेटिव कालेज में सुबह आठ बजे हुई। सबसे पहले पोस्टल बैलट गिना गया। हालांकि, पोस्टल बैलट के नतीजों की घोषणा सबसे बाद में 21 वें चक्र की मतगणना के नतीजे घोषित होने के बाद की गई। पहले चक्र का परिणाम की आधिकारिक घोषणा 10 बजे की गई। पहले चक्र में विद्युत को 43 हजार 941 मत और झामुमो के चंपई सोरेन को 12 हजार 924 वोट मिले। पहले चक्र में विद्युत ने 31 हजार 17 मतों से लीड ली। इसके बाद। दूसरे चक्र में विद्युत की लीड 61 हजार 565 मतों की हो गई। 19 वें राउंड तक विद्युत भारी बढ़त बनाते गए। 20 वें और 21 वें राउंड में चंपई को विद्युत से ज्यादा मत मिले। 

विद्युत वरण महतो (भाजपा) - 679632

चंपई सोरेन (झामुमो)- 377542

जीत का अंतर- 302090

 विद्युत वरण महतो को जीत का प्रमाण पत्र देते जिला निर्वाचन पदाधिकारी अमित कुमार।

विधानसभावार मत

1. बहरागोड़ा

विद्युत वरण महतो-93072

चंपई सोरेन-61508

2. घाटशिला

विद्युत वरण महतो-87035

चंपई सोरेन-73048

3. पोटका

विद्युत वरण महतो-107090

चंपई सोरेन-80118

4. जुगसलाई

विद्युत वरण महतो-134696

चंपई सोरेन-66682

5. जमशेदपुर पूर्वी

विद्युत वरण महतो-132562

चंपई सोरेन-31924

6. जमशेदपुर पश्चिम

विद्युत वरण महतो-121794

चंपई सोरेन-62391

जमशेदपुर लोकसभा के उम्मीदवारों को मिले मत

1. विद्युत वरण महतो : भारतीय जनता पार्टी : 6,76,249

2. चंपई सोरेन : झारखंड मुक्ति मोर्चा : 3,75,671 

3. अंजना महतो : ऑल इंडिया तृणमूल कांग्रेस : 9455

4. अशरफ  हुसैन : बहुजन समाज पार्टी : 3346

5. अंगद महतो : आमरा बंगाली पार्टी : 6645

6. असजदुल्लाह इमरान : भारत प्रभात पार्टी : 1783

7. कमर रजा खान : भारतीय पंचायत पार्टी : 1458

8. चंद्रशेखर महतो : पीपुल्स पार्टी ऑफ  इंडिया (डेमोक्रेटिक) :1581

9. पानमनि सिंह : सोशलिस्ट यूनिटी सेंटर ऑफ  इंडिया (कम्युनिस्ट) : 2463

10. मलय कुमार महतो : भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (एमएल, रेड स्टार) : 1865

11. महेश कुमार : राईट टू रिकॉल पार्टी : 2465

12. रंजीत कुमार सिंह : झारखंड पार्टी : 4606

13. शेख अखरूद्दीन : झारखंड पार्टी (नरेन) : 7631

14. सविता कैवर्त : आयरा नेशनल पार्टी : 6234

15. सुब्रत कुमार प्रधान : आंबेडकराइट पार्टी ऑफ  इंडिया : 4828

16. सूर्य सिंह बेसरा : झारखंड पीपुल्स पार्टी : 9247

17. असित कुमार सिंह : निर्दलीय : 2356 

18. दिनेश महतो : निर्दलीय : 1523

19. दीपक कुमार गिरि : निर्दलीय : 3501    

20. मुबीन खान : निर्दलीय : 3944

21. राकेश कुमार : निर्दलीय : 3225

22. शैलेश कुमार सिंह : निर्दलीय : 1492 

23. सरिता आनंद : निर्दलीय : 1183 

24. नोटा : 5768

हर राउंड में बढ़त

यहां भाजपा के प्रत्याशी विद्युत वरण महतो झामुमो के चंपई सोरेन से लगातार आगे चल रहे थे। उनकी बढ़त का अंतर हर राउंड के बाद बढ़ती गई। 12 वां चरण की मतगणना के बाद विद्युत 2 लाख 2 हजार 917 मतों से आगे थे। विद्युत वरण महतो को मिले थे 3 लाख 68 हजार 936 मत जबकि चंपई सोरेन को मिले थे एक लाख 66 हजार 019 मत। विद्युत को 241259 जबकि चंपई को नवें राउंड तक 85773 मत मिले।  इससे पहले के चरण तक विद्युत को 173070 जबकि चंपई को 51775 मत मिले थे। भाजपा के  विद्युत वरण महतो छठे चरण की शुरुआत में 101222 मतों से आगे चल रहे थे। विद्युत वरण महतो को 146189 जबकि झामुमो के चंपई सोरेन को 44967 मत मिले थे। विद्युत वरण महतो लगातार बढ़त बनाए हुए थे। विद्युत वरण महतो को पांचवें चरण एक लाख 19 हजार 133 मत मिले जबकि निकटतम प्रतिद्वद्वी चंपई सोरेन को मिले35458 मत। भाजपा के विद्युत वरण महतो इससे पहले भी 70396 मतों से आगे चल रहे थे। भाजपा के प्रत्याशी इससे पूर्व 30 143 मतों से बढ़त बनाए थे। भाजपा प्रत्याशी विद्युत को 41937 जबकि झामुमो के चंपई को 11794 मत मिले थे। दो चरण की मतगणना के बाद भी भाजपा के उम्मीदवार सांसद विद्युत वरण महतो 19456 वोटों से आगे थे। दूसरे राउंड तक कुल 15468 वोट मिले जबकि चंपई को 2045 मत हासिल हुए। सांसद विद्युत वरण महतो ने पहले ही चरण में 6618 मतों की लीड हासिल कर ली थी दूसरे चरण में भी उनकी यह लीड बरकरार रही। भाजपा के आगे होने से मतगणना कार्यालय के बाहर लगे भाजपा के खेमे में खुशी का माहौल रहा। जबकि महागठबंधन के टेंट में लोग बैठे हुए मतगणना के रुझानों पर नजर बनाए हुए रहे। आखिरकार उन्हें निराशा हाथ लगी।

धालभूमगढ़ में छह माह के अंदर विमान सेवा : विद्युत

लगातार दूसरी बार जमशेदपुर संसदीय सीट पर विजय का ताज पहनने वाले भाजपा प्रत्याशी विद्युत वरण महतो ने दैनिक जागरण संवाददाता से विशेष बातचीत करते हुए कहा कि धालभूमगढ़ में छह माह में 72 सीटर हवाई सेवा चालू हो जाएगा और रनवे की लंबाई बढ़ाने की कोशिश होगी। आशा करता हूं, एक साल के अंदर बोइंग उतरेगा। इसके लिए वह मुख्यमंत्री रघुवर दास व केंद्रीय उड्डयनमंत्री से बातचीत कर चुके हैं। बजली की समस्या को दूर करने के लिए परमाणु बिजली घर बनाने पर भी विचार चल रहा है। इसके लिए पर्याप्त मात्रा में पानी व भूकंपरोधी क्षेत्र का होना सबसे जरुरी है। सांसद विद्युत महतो ने कहा कि केंद्र का एक उच्चस्तरीय टीम इस क्षेत्र का सर्वे कर लौट चुकी है। 

- प्रश्न - अपना जीत का श्रेय किसे देते हैं ।  

- उत्तर - देश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुनामी ने एक बार फिर जता दिया है कि जनता की पहली पसंद वही हैं। जीत का श्रेय वह अपने पीएम, सीएम व जमशेदपुर के सभी मतदाता को देते हैं। 

- प्रश्न - जनता ने दोबारा आपको संसद के लिए चुन लिया, अब जनता के लिए क्या कहेंगे। 

- उत्तर - जनता के लिए उन्होंने पिछले पांच साल तक सदन के अंदर व सदन के बाहर अपनी बातें रखीं, जिसका परिणाम हुआ कि क्षेत्र में विकास तीव्र गति से चली। जनता ने दोबारा संसद में भेजा इसके लिए उन्हें कोटी-कोटी नमन। 

- प्रश्न - इतनी बड़ी जीत जिसमें आप अपने ही रिकार्ड को कैसे तोड़ा।  

- उत्तर - इसके लिए मुख्यमंत्री रघुवर दास, मंत्री सरयू राय, पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा का मार्गदर्शन के साथ ही पंचायत लेबल से जिला स्तर के कार्यकर्ताओं का सहयोग, एनडीए के घटक दल आजसू, जदयू का भरपूर सहयोग मिला। जिसके कारण ही आज इतनी बड़ी जीत हासिल हो सकी। 

- प्रश्न - जनता की अपेक्षाओं पर कैसे खरे उतरेंगे।  

उत्तर - जनता की तकलीफ में पहले भाई-बेटा बनकर सेवा करेंगे। उसके बाद में संसद रहेंगे। उन्होंने कहा कि क्षेत्र से बेरोजगारी को दूर करेंगे। इसके लिए बंद पड़े माइंस को खुलवाने का काम करेंगे। उन्होंने कहा कि जल्द ही चार-पांच माइंस खोले जाएंगे। इसके लिए मुख्यमंत्री रघुवर दास व केंद्रीय मंत्री नरेंद्र तोमर से बातचीत हो गयी है। माइंस खुलने से बेरोजगारी व नक्सल समस्या दूर होगी।

- प्रश्न - अगले पांच साल की योजना।

उत्तर - अगले पांच साल में वह शिक्षा, स्वास्थ्य, बिजली व सड़क पर विशेष ध्यान देंगे, ताकि ग्रामीण क्षेत्रों में भी 21-22 घंटे तक बिजली मिल सके। इसके अलावा उन्होंने कहा कि झारखंड अमीर राज्य होते हुए भी गरीब है। इस समस्या को दूर करने के लिए वह माइंस खुलवाने जा रहे हैं। इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में स्वरोजगार पर जोर देंगे ताकि ग्रामीण नौजवान पलायन नहीं कर सकें। 

21वें चरण की मतगणना के बाद प्रत्याशियों को मिले मत 

1.    अंजना महतो- ऑल इंडिया तृणमूल कांग्रेस- 9455

2.    अशरफ हुसैन- बहुजन समाज पार्टी- 3346

3.    चम्पाई सोरेन- झारखंड मुक्ति मोर्चा- 375671 

4.    बिधुत वरण महतो- भारतीय जनता पार्टी- 676249

5.    अंगद महतो-आमरा बंगाली पार्टी- 6645

6.    असजदुल्लाह इमरान- भारत प्रभात पार्टी- 1783

7.    कमर रजा खान- भारतीय पंचायत पार्टी - 1458

8.    चंद्रशेखर महतो-पीपुल्स पार्टी ऑफ इंडिया(डेमोक्रेटिक)- 1581

9.    पानमनि सिंह- सोशलिस्ट यूनिटी सेन्टर ऑफ इंडिया(कम्युनिस्ट)- 2463

10.    मलय कुमार महतो- भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी लेनिनवादी) रेड स्टार- 1865

11.    महेश कुमार- राईट टू रिकॉल पार्टी- 2465

12.    रंजित कुमार सिंह- झारखंड पार्टी- 4606

13.   शेख अखरूद्दीन- झारखंड पार्टी(नरेन)- 7631

14.    सविता कैवर्त- आयरा नेशनल पार्टी(ANP)- 6234

15.    सुब्रत कुमार प्रधान- अम्बेडकराईट पार्टी ऑफ इंडिया- 4828

16.    सूर्य सिंह बेसरा- झारखंड पीपुल्स पार्टी- 9247

17.    असित कुमार सिंह- निर्दलीय- 2356 

18.    दिनेश महतो- निर्दलीय-  1523

19.    दीपक कुमार गिरि- निर्दलीय- 3501    

20.    मुबीन खान- निर्दलीय - 3944

21.    राकेश कुमार- निर्दलीय-  3225

22.    शैलेश कुमार सिंह- निर्दलीय- 1492 

23.    सरिता आनंद- निर्दलीय- 1183 

 24.   NOTA- 5768

पंद्रहवें चरण की मतगणना के बाद उम्मीदवारों को मिले मत 

1.    अंजना महतो- ऑल इंडिया तृणमूल कांग्रेस- 7504

2.    अशरफ हुसैन- बहुजन समाज पार्टी- 2498

3.    चम्पाई सोरेन- झारखंड मुक्ति मोर्चा- 263225

4.    विद्युत वरण महतो- भारतीय जनता पार्टी- 543090

5.    अंगद महतो-आमरा बंगाली पार्टी- 5308

6.    असजदुल्लाह इमरान- भारत प्रभात पार्टी- 1375 

7.    कमर रजा खान- भारतीय पंचायत पार्टी - 1137

8.    चंद्रशेखर महतो-पीपुल्स पार्टी ऑफ इंडिया(डेमोक्रेटिक)- 1250

9.    पानमनि सिंह- सोशलिस्ट यूनिटी सेन्टर ऑफ इंडिया(कम्युनिस्ट)- 1898

10.    मलय कुमार महतो- भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी लेनिनवादी) रेड स्टार- 1429

11.    महेश कुमार- राईट टू रिकॉल पार्टी- 1917

12.    रंजित कुमार सिंह- झारखंड पार्टी- 3612

13.   शेख अखरूद्दीन- झारखंड पार्टी(नरेन)- 5951

14.    सविता कैवर्त- आयरा नेशनल पार्टी(ANP)- 4544

15.    सुब्रत कुमार प्रधान- अम्बेडकराईट पार्टी ऑफ इंडिया- 3745

16.    सूर्य सिंह बेसरा- झारखंड पीपुल्स पार्टी- 6810

17.    असित कुमार सिंह- निर्दलीय- 1948

18.    दिनेश महतो- निर्दलीय- 1309

19.    दीपक कुमार गिरि- निर्दलीय- 2623   

20.    मुबीन खान- निर्दलीय - 3218

21.    राकेश कुमार- निर्दलीय- 2566

22.    शैलेश कुमार सिंह- निर्दलीय- 1169

23.    सरिता आनंद- निर्दलीय- 960

 24.   NOTA- 4572

नवें चरण की मतगणना के बाद उम्मीदवारों को मिले मत   

1.    अंजना महतो- ऑल इंडिया तृणमूल कांग्रेस- 4976

2.    अशरफ हुसैन- बहुजन समाज पार्टी- 1593

3.    चम्पाई सोरेन- झारखंड मुक्ति मोर्चा- 156922

4.    बिधुत वरण महतो- भारतीय जनता पार्टी- 323689

5.    अंगद महतो-आमरा बंगाली पार्टी- 3321

6.    असजदुल्लाह इमरान- भारत प्रभात पार्टी- 865 

7.    कमर रजा खान- भारतीय पंचायत पार्टी - 722

8.    चंद्रशेखर महतो-पीपुल्स पार्टी ऑफ इंडिया(डेमोक्रेटिक)- 814

9.    पानमनि सिंह- सोशलिस्ट यूनिटी सेन्टर ऑफ इंडिया(कम्युनिस्ट)- 1161

10.    मलय कुमार महतो- भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी लेनिनवादी) रेड स्टार- 848

11.    महेश कुमार- राईट टू रिकॉल पार्टी- 1223

12.    रंजित कुमार सिंह- झारखंड पार्टी- 2338

13.   शेख अखरूद्दीन- झारखंड पार्टी(नरेन)- 3798

14.    सविता कैवर्त- आयरा नेशनल पार्टी(ANP)- 2711

15.    सुब्रत कुमार प्रधान- अम्बेडकराईट पार्टी ऑफ इंडिया- 2299

16.    सूर्य सिंह बेसरा- झारखंड पीपुल्स पार्टी- 4131

17.    असित कुमार सिंह- निर्दलीय- 1310

18.    दिनेश महतो- निर्दलीय-  934

19.    दीपक कुमार गिरि- निर्दलीय- 1636   

20.    मुबीन खान- निर्दलीय - 1977

21.    राकेश कुमार- निर्दलीय- 1613

22.    शैलेश कुमार सिंह- निर्दलीय- 732

23.    सरिता आनंद- निर्दलीय- 579

 24.   NOTA- 2781

भाजपा का बूथ मैनेजमेंट रहा सबसे टाइट

इस चुनाव में भाजपा ने कारपोरेट स्टाइल में काम किया। करीब एक साल पहले ही पार्टी ने जमशेदपुर के सभी 1885 बूथ पर 15-20 एजेंट तैयार कर लिए थे। चुनाव प्रचार शुरू होने के साथ ही भाजपा ने सभी बूथ पर एजेंटों को बूथ किट बांटना शुरू कर दिया था। चुनाव संचालन समिति का गठन पहले ही कर दिया था, तो हर मंडल को अपने-अपने क्षेत्र के बूथ की जिम्मेदारी दे दी गई। ग्रामीण क्षेत्र में यही काम पंचायत प्रभारी और उनके ऊपर विधानसभावार प्रभारी रखे गए। केंद्रीय चुनाव संचालन समिति तो थी ही। भाजपा का यह होमवर्क मतदान के दिन दिखा भी। गांव हो या शहर, लगभग हर बूथ पर भाजपा के एजेंट अच्छी तादाद में दिखे, जबकि झामुमो इसमें पिछड़ गया। शहरी क्षेत्र में तो कई बूथ पर कांग्रेस व झाविमो के बूथ एजेंट दिखे, जबकि कई ऐसे बूथ भी थे, जहां झामुमो या किसी अन्य सहयोगी दल का भी कार्यकर्ता नहीं था। ऐसा लग रहा था कि झामुमो उम्मीदवार पूरी तरह मतदाताओं के भरोसे रहा। 

खानपान का भी बेहतर इंतजाम

भाजपा ने बूथ एजेंटों को मतदान सामग्री के लिए पर्याप्त सामग्री तो दिया ही, खानपान का भी बेहतर इंतजाम किया था। शहरी इलाकों में भोजन की व्यवस्था मंडल प्रभारियों को दी गई थी, जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में यह दायित्व पंचायत प्रभारियों ने संभाला। वहीं झामुमो ने ग्रामीण क्षेत्रों में बेहतर इंतजाम किया था, जबकि शहरी क्षेत्र में अलग-अलग नेताओं ने इसकी जिम्मेदारी संभाली थी। बूथ किट के नाम पर झामुमो की व्यवस्था अपेक्षाकृत कम थी, ऐसा कार्यकर्ताओं ने भी कहा। अलबत्ता स्ट्रांग रूम के शिविर में झामुमो ने खानपान की व्यवस्था बूथ की तुलना में बेहतर रखी। 

गांधी मैदान मानगो रहा अपवाद

भाजपा बूथ मैनेजमेंट में सबसे मजबूत रही, लेकिन मानगो का गांधी मैदान अपवाद रहा। यहां राष्ट्रपिता महात्मा गांधी विद्यालय में 271 व 272 दो बूथ थे, जहां भाजपा या झामुमो में किसी का पोलिंग एजेंट नहीं था। इस वजह से यहां मतदान भी धीमा भी हुआ। वहां तैनात मतदान अधिकारियों का कहना था कि यहां किसी पार्टी का पोलिंग एजेंट नहीं रहने से मतदाताओं का नाम ढूंढने और मतदान पर्ची बनाने में अनावश्यक समय लग रहा है। ऐसे में मतदान धीमा होना स्वाभाविक है। 271 नंबर बूथ पर 1097 और 272 में 1372 मतदाता थे, जिसमें दोपहर 12 बजे तक 392 व 409 वोट ही पड़े थे। दोनों पार्टी के वरीय कार्यकर्ता भी इसका जवाब नहीं दे सके कि गांधी स्कूल में पोलिंग एजेंट क्यों नहीं था। 

रोचक रहा मुकाबला

जमशेदपुर का इस बार का चुनाव काफी रोचक रहा है। यहां भाजपा ने अपने वर्तमान सांसद विद्युत वरण महतो पर दोबारा भरोसा जताया, जिनका सीधा मुकाबला महागठबंधन के झामुमो उम्मीदवार चंपई सोरेन से हुआ। भाजपा इस सीट पर जीत को लेकर आश्वास्त नजर आ रही थी तो झामुमो को भी अपने क्षेत्रीय क्षत्रप पर पूरा भरोसा था। यहां शहरी और ग्रामीण मतदाताओं की सोच चुनाव के दौरान बिखरी हुई दिखी। जमशेदपुर मुख्यमंत्री रघुवर दास का घर भी है ऐसे में उनकी खुद की प्रतिष्ठा भी दांव पर लगी हुई थी।

मतगणना केंद्र पहुंचे झामुमो प्रत्याशी  चंपई सोरेन। 

मतगणना केंद्र  के बाहर जमे भाजपा के कार्यकर्ता। 

मतगणना केंद्र  के बाहर गुलाल लगातीं भाजपा की कार्यकर्ता। 

जमशेदपुर में दैनिक जागरण के इलेक्शन रिजल्ट लाइव सेंटर पर जानकारी लेने के लिए उमड़े लोग। 

रुझान में भाजपा को बढ़त की खबर के बाद जमशेदपुर लोकसभा क्षेत्र के डुमरिया में भाजपाइयों में जश्न का माहौल है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rakesh Ranjan