नई दिल्ली, जेएनएन। Bilaspur Lok Sabha Election Result 2019 Liveछत्तीसगढ़ राज्य के बिलासपुर संसदीय क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी के अरूण साव ने 634559 वोट प्राप्त कर विजय हासिल की है। 

वर्ष 2014 में, छत्‍तीसगढ़ राज्य में, बिलासपुर लोकसभा क्षेत्र से लखन लाल साहू का निर्वाचन हुआ। उन्हें 561387 वोट मिले। उनकी पार्टी बीजेपी है। उन्होंने करुणा शुक्ला को 176436 वोटों से हराया। निकटतम प्रतिद्वंद्वी की पार्टी कांग्रेस थी। 2014 में कुल 63.07 प्रतिशत वोट पड़े।

छत्तीसगढ़ की 11 लोकसभा सीटों में रायपुर के बाद बिलासपुर ही एकमात्र ऐसी सीट है, जहां भाजपा लगातार जीत रही है। यह सीट भाजपा के गढ़ के रूप में अपनी पहचान बनाने में सफल रही है। बिलासपुर लोकसभा सीट का तीन बार परिसीमन हुआ है। शुरुआत में यह सामान्य वर्ग के लिए आरक्षित थी। इसके बाद इसमें बदलाव करते हुए इसे अनुसूचित जाति वर्ग के लिए आरक्षित कर दिया गया। वर्ष 2009 में इसे एक बार फिर सामान्य कर दिया गया। वर्ष 1996 से इस सीट पर भाजपा का कब्जा रहा है। वर्ष 1996 से 2004 के बीच चार बार हुए लोकसभा चुनाव में भाजपा के पुन्‍नूलाल मोहले यहां से सांसद रहे। मोहले के नाम लगातार चुनाव जीतने का कीर्तिमान भी रहा है। मोहले के बाद भाजपा के दिग्गज नेता दिलीप सिंह जूदेव चुनाव लड़े। वर्ष 2009 में जूदेव सांसद निर्वाचित हुए। कांग्रेस ने पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी की पत्नी डॉ. रेणु जोगी को प्रत्याशी बनाया था। वर्ष 2014 के चुनाव में बिलासपुर सीट राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनाने में फिर सफल हुई। पूर्व प्रधानमंत्री व भारत रत्न स्व. अटल बिहारी वाजपेयी की भतीजी करुणा शुक्ला को कांग्रेस ने यहां से उम्मीदवार बनाया था। सर्वाधिक वोटों के अंतर से चुनाव हारने का कीर्तिमान करुणा के नाम रहा। एक लाख 75 हजार वोटों के अंतर से वे भाजपा के एक सामान्य कार्यकर्ता लखनलाल साहू से चुनाव हार गईं। तब समूचे देश के साथ ही बिलासपुर लोकसभा सीट में भी पीएम पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी की लहर का जोर दिखाई दिया था। यहां ओबीसी वर्ग की बहुलता है। इसमें साहू व कुर्मी की जनसंख्या सबसे ज्यादा है। ओबीसी में यादव भी प्रभावी भूमिका में है।

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Gaurav Tiwari