जम्मू, राज्य ब्यूरो । अनंतनाग संसदीय सीट के लिए मैदान में उतरे 18 उम्मीदवारों में से 5 करोड़पति हैं। महबूबा मुफ्ती समेत दो महिला उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। दो के खिलाफ संगीन आपराधिक मामले हैं तो पांच उम्मीदवारों पर देनदारी है। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष व पार्टी के उम्मीदवार जीए मीर 14 करोड़ की संपत्ति के साथ सबसे अमीर प्रत्याशी हैं। नेकां के उम्मीदवार हसनैन मसूदी 8 करोड़ की संपत्ति के साथ दूसरे सबसे अमीर उम्मीदवार हैं। पीपुल्स कांफ्रेस के उम्मीदवार चौधरी जफ्फर अली 2.32 करोड़ की संपत्ति के साथ तीसरे नंबर पर है।

निर्दलीय उम्मीदवार अली मोहम्मद वानी की संपत्ति 1.31 करोड़ व भाजपा के सोफी युसूफ की संपत्ति 1.17 करोड़ रुपये है। पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती की संपत्ति 89 लाख रुपये है। अनंतनाग संसदीय क्षेत्र के उम्मीदवारों की औसत संपत्ति 1.66 करोड़ रुपये है। यह जानकारी उम्मीदवारों द्वारा नामांकन पत्र भरने के दौरान दिए गए हल्फनामे में है। अठारह उम्मीदवारों में 2 महिला उम्मीदवार भी मैदान में हैं। पूर्व मुख्यमंत्री व पीडीपी प्रधान महबूबा मुफ्ती के साथ रिदवाना सनम मैदान में दूसरी महिला उम्मीदवार हैं। वह प्रोफेशनल ग्रेजुएट हैं। वहीं भाजपा के उम्मीदवार सोफी युसूफ इकलौते अशिक्षित उम्मीदवार हैं। अन्य उम्मीदवारों में 2 आठवीं पास, 2 दसवीं पास, 3 बारहवीं पास, 5 ग्रेजुएट, 3 पोस्ट ग्रेजुएट व 2 प्रोफेशनल ग्रेजुएट हैं। पांच उम्मीदवारों के खिलाफ आपराधिक मामले हैं, इनमें से 2 के खिलाफ संगीन मामले हैं। पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के खिलाफ मानहानि का मामला है।

लद्दाख सीट से कांग्रेस प्रत्याशी करोड़पति

लद्दाख लोकसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे सात उम्मीदवारों में सिर्फ कांग्रेस के उम्मीदवार रिगजिन स्पालवार ही करोड़पति है। भाजपा के उम्मीदवार जामियांग सीरिंग नामग्याल चार वर्ष पुराने मानहानि के मामले का सामना कर रहे हैं। स्पालवार सबसे अमीर उम्मीदवार है। उनके पास पांच करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति है और 60 लाख से अधिक की देनदारी है। स्पालवार दिल्ली दिल्ली यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएट है। भाजपा उम्मीदवार जामियांग सीरिंग नामग्याल जम्मू विश्वविद्यालय से ग्रेजुएट है और उनकी पत्नी सरकारी कर्मचारी हैं। इनके पास करीब साढ़े पांच लाख की संपत्ति है। वहीं, असगर करबलाई के पास 25 लाख से अधिक की संपत्ति है। वह पूर्व विधायक है और पेंशन लेते हैं।

आज नाम वापस लेने की अंतिम तिथि है। चुनाव छह मई को होना है। क्षेत्रफल के हिसाब से लद्दाख लोकसभा क्षेत्र देश की सबसे बड़ी संसदीय सीट है। जम्मू कश्मीर की छह सीटों में लद्दाख सीट में मतदाताओं की संख्या सबसे कम है। लद्दाख सीट में कुल 171819 मतदाता है। कांग्रेस और भाजपा के उम्मीदवारों को छोड़ कर कांग्रेस से विद्रोह करके पूर्व विधायक असगर करबलाई भी चुनाव मैदान में कूदे हैं। पत्रकार से राजनीतिज्ञ बने सज्जाद हुसैन को नेकां व पीडीपी का समर्थन हासिल है। लद्दाख स्वायत्त पहाड़ी विकास काउंसिल लेह के चेयरमैन नामग्याल भाजपा के उम्मीदवार है और साल 2015 में उनके खिलाफ मानहानि का मामला दर्ज हुआ था।

साल 2014 में भाजपा के उम्मीदवार थुप्पस छिवांग ने चुनाव जीता था। उन्होंने कांग्रेस के असंतुष्ट उम्मीदवार गुलाम रजा को 36 वोटों से हराया था। छिवांग ने पिछले वर्ष नवंबर में यह कहते हुए अपने पद से त्यागपत्र दे दिया था कि लद्दाख के लोगों की मांगों को समाधान करने में भाजपा नाकाम रही है। बताते चले कि फरवरी माह में लद्दाख को डिवीजन का दर्जा हासिल हो चुका है।

पांच प्रत्याशियों पर देनदारी

अनंतनाग संसदीय क्षेत्र से चुनाव मैदान में उतरे पांच उम्मीदवारों पर देनदारी है। निर्दलीय शम्स ख्वाजा पर 2 करोड़ रुपये की देनदारी है। उनकी चल अचल संपत्ति 44 हजार रुपये है। निर्दलीय जुबैर मसूदी की देनदारी 14 लाख है तो क्यासिर अहमद शेख की देनदारी 2 लाख रुपये है।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rahul Sharma