बोकारो, जेएनएन। Prime Minister Narendra Modi rally in Bokaro. Jharkhand Assembly Election. झारखंड विधानसभा चुनाव- 2019 के पहले और दूसरे चरण के मतदान के बाद भाजपा को जबरदस्त उर्जा मिली है। यह उर्जा कर्नाटक विधानसभा उपचुनाव परिणाम से मिली है। इस उर्जा से उत्साहित भाजपा की चुनावी नैया के खेवनहार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झारखंड में कांग्रेस-झामुमो महागठबंधन पर जोरदार हमला बोला है। उन्होंने झारखंड की जनता को कांग्रेस गठबंधन से सावधान रहने की जरूरत पर जोर दिया है। कहा है-ये सुधरने वाले नहीं हैं। माैका मिलते ही वही करने लगते हैं जो करते रहे हैं। झारखंड को फिर से छलकपट, भ्रष्टाचार और अनिश्चितता के अंधेरे में धकेलना चाहते हैं। इसलिए आपसे (झारखंड की जनता) झारखंड में स्थिर और मजबूत सरकार बनाने के लिए भाजपा के पक्ष में मतदान करने की अपील करता हूं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को बोकारो के सेक्टर पांच स्थित मैदान में भाजपा की चुनावी सभा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने चुनाव प्रचार में कर्नाटक उप चुनाव परिणाम को नए धारदार हथियार के रूप में प्रयोग किया। कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि ऐसे समय पर कर्नाटक विधानसभा उपचुनाव का परिणाम आया है जब एक गठबंधन बनाकर झारखंड को लूटने के लिए मशक्कत की जा रही है। कर्नाटक ने बहुत बड़ा मजबूत फैसला किया है। कर्नाटक में आज उपचुनाव के नतीजे आए। ये सामान्य उपचुनाव परिणाम नहीं है। क्योंकि उपचुनाव से कर्नाटक की सरकार का भविष्य तय हो गया है। ये नतीजे झारखंड समेत पूरे देश के लिए एक संदेश है। तीन बड़े संदेश निकले हैं। पहला-देश की जनता स्थिर और स्थायी सरकार चाहती है। दूसरा-कांग्रेस और उसके साथी जो पिछले दरवाजे से सत्ता पाने के लिए जनादेश को धोखा देते हैं। जनता का अपमान करते हैं। जनता चुप रहती है। लेकिन, पहला माैका मिलते ही सबक सिखाती है। उनका सुफड़ा साफ करती है। तीसरा- यह कि स्थिर सरकार, विकास और समर्पित सरकार के लिए जनता को सिर्फ भाजपा पर भरोसा है। ये महत्वपूर्ण नतीजे निकले हैं। 15 सीट पर उपचुनाव था। 15 में 13 कांग्रेस के पास थी। बीजेपी के पास एक भी नहीं। 12 सीटें भाजपा की झोली में जनता ने डाल दी है। कर्नाटक के मतादताओं के लिए बोलिए-भाजपा, भाजपा, भाजपा।

पहले और दूसरे चरण के चुनाव में मतदाताओं ने रख दी मजबूत सरकार की नींवः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बोकारो की जनसभा में उमड़ी भीड़ का जिक्र करते हुए कहा-यह भीड़ झारखंड की राजनीतिक हवा की रूख बता रही है। सभास्थल पर जितने लोग दिखाई दे रहे हैं उससे ज्यादा भीड़ हवाईअड्डा से आने के दाैरान रास्ते में थी। उन्होंने दावा किया कि झारखंड के प्रथम और दूसरे चरण के चुनाव में मतदाताओं ने भाजपा के पक्ष में भारी मतदान कर राज्य में मजबूत सरकार की फिर से नींव रख दी है।

यह चुनाव झारखंड के लिए महत्वपूर्णः प्रधानमंत्री ने कहा कि झारखंड की उम्र 19 साल हो गई है। परिवार में भी बेटे या बेटी की उम्र 19- 20 की होती है तो मां-बाप अलग तरह से सोचने शुरू कर देते हैं। बेटे-बेटी को किस दिशा में ले जाना है। इस उम्र का बड़ा महत्व है। यह उम्र जिंदगी का महत्वपूर्ण कालखंड होता है। झारखंड 19 का हुआ है। आने वाले पांच साल में झारखंड को कहां देखना चाहते हैं? कैसा देखना चाहते हैं? यह फैसला करने के लिए यह चुनाव बहुत बड़ा अवसर है। यह चुनाव विधायक या मुख्यमंत्री चुनने के लिए नहीं है बल्कि आपको सही अभिभावक चुनना है। आने वाले पांच वर्षों के लिए फैसला करना है।

कांग्रेस कठपुतली की तरह करती है  अपने सहयोगियों का उपयोग: मोदी ने कर्नाटक उपचुनाव के रुझानों को  मौकापरस्त राजनीतिक दलों के लिए सबक बताया। कर्नाटक के बहाने झारखंड में कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों पर जमकर निशाना साधा। साफ कहा, कांग्रेस कभी गठबंधन पर खरी नहीं उतरती है। अपने हित के लिए वो सहयोगियों को कठपुतली की तरह उपयोग करती है। झारखंड में अपने तीसरे चुनावी दौरे के क्रम में सोमवार को बरही व बोकारो पहुंचे प्रधानमंत्री के निशाने पर झामुमो और राजद भी रहे। स्पष्ट कहा- कांग्रेस, झामुमो और राजद का इतिहास भ्रष्टाचार और विश्वासघात का रहा है। अनुच्छेद 370, अयोध्या विवाद, पिछड़ा वर्ग और सामान्य वर्ग के गरीबों के लिए भाजपा सरकार के स्तर से की गई पहल का जिक्र करना भी वे नहीं भूले।

प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन के क्रम में कई मौकों पर जनता से सीधे संवाद किया। राम जन्म भूमि का जिक्र प्रधानमंत्री ने जैसे ही किया, जनसमूह से जय श्रीराम का जयघोष गूंजने लगा। स्वर इतना तेज था कि पीएम को अपना संबोधन तक कुछ देर के लिए रोकना पड़ा। उन्होंने इस विवाद को लटकाने के लिए कांगेस को ही दोषी ठहराया। कहा- उन्होंने इस मामले को लटकाए रखा ताकि उनकी वोट बैंक की खिचड़ी पकती रहे। फैसला तब आया जब दिल्ली में भाजपा की मजबूत सरकार आई।

झारखंड से कर्नाटक की तरह परिणाम की उम्मीदः प्रधानमंत्री ने कर्नाटक के मौजूदा परिणाम और वहां हुई राजनीति की विस्तार से चर्चा की। कर्नाटक उपचुनाव में भाजपा को मिली बढ़त से उत्साहित प्रधानमंत्री ने झारखंड के लोगों से भी ऐसे ही परिणाम की उम्मीद की। यह भी कहा कि कर्नाटक के परिणाम को याद रखने की जरूरत है, कांग्रेस व उसके सहयोगियों को झारखंड में एक-एक सीट पर हराना जरूरी है। जनता को चेताते हुए कहा कि अगर त्रिशंकु परिणाम आता है तो कर्नाटक की तरह तबाह करने वाले मैदान में उतर आते हैं। पीएम ने कहा- आज पूरी दुनिया में हिंदुस्तान की जय-जयकार हो रही है। पूछा कि क्या यह जय-जयकार झारखंड की भी नहीं होनी चाहिए। जवाब हां में मिलने पर कहा, अगर झारखंड की भी जय-जयकार करनी है तो रांची में भाजपा की पूर्ण बहुमत की सरकार बनाना बहुत जरूरी है।

ओबीसी कमीशन को मिलेगा संवैधानिकः प्रधानमंत्री ने अलग झारखंड गठन का जिक्र हमेशा की तरह किया। इस प्रकरण में कांग्रेस के ढुलमुल रवैये का जिक्र किया और झारखंड को अटल बिहारी वाजपेयी की देन बताया। उन्होंने ओबीसी कमीशन को संवैधानिक दर्जा दिए जाने का मामला भी उठाया। कहा- कांग्रेस और उसके साथियों ने पिछड़ों के हितों को बचाने वाला यह काम न किया और न होने दिया। यह काम भी तब हुआ जब दिल्ली में आपने मोदी की सरकार बनाई। सामान्य वर्ग सवर्ण समाज के आरक्षण का मामला भी उठाया। पीएम बोले- गरीब परिवार के युवा आरक्षण की मांग कर रहे थे लेकिन इन गरीब परिवारों की बातों पर ध्यान नहीं दिया गया। मोदी सरकार आई तो सामान्य जनता के गरीबों को 10 प्रतिशत आरक्षण का लाभ भी मिला। भाजपा ईमानदारी से काम करती है। भाजपा देश के आदिवासियों की जिंदगी, पिछड़ों की जिंदगी को बेहतर बनाने, उनकी मुश्किलें कम करने, उनका मान सम्मान बढ़ाने के लिए दिन-रात मेहनत कर रही है। लेकिन कांग्रेस हो, राजद हो या फिर झामुमो, उनका इतिहास आपसे विश्वासघात व भ्रष्टाचार करना रहा है।

कांग्रेस को नक्सलवाद में मास्टरी : प्रधानमंत्री बोकारो में कांग्रेस और उसके साथियों के खिलाफ जमकर बरसे। कांग्रेस को उन्होंने नक्सलवाद को बढ़ावा देने वाली पार्टी करार देते हुए कहा कि इन्हें और उनके साथियों को इसमें मास्टरी मिली हुई है। कांग्रेस सरकारों ने राज्य में नक्सलवाद और हिंसा के उद्योग को आगे बढ़ाया है। इन्हें कर्नाटक की जनता ने धूल चटा दी है लेकिन यह पार्टी सुधरने वाली नहीं है। प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि केंद्र में सरकार बनने के बाद उन्होंने गरीबों और आम लोगों के लिए बैंकों के दरवाजे हमेशा के लिए खोल दिए हैं।

इससे पहले बोकारो के सेक्टर पांच स्थित सभास्थल पर प्रधानमंत्री के पहुंचते ही उपस्थित जनसमूह ने मोदी.. मोदी... मोदी... के नारे लगाने शुरू कर दिए। मोदी ने हाथ हिलाकर उत्साही समर्थकों का अभिवादन स्वीकार किया। तीसरे चरण में 12 दिसंबर को 17 विधानसभा क्षेत्रों में मतदान होना है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को नई दिल्ली से विशेष विमान से बोधगया इंटरनेशनल एयरपोर्ट पहुंचे। यहां से हेलीकॉप्टर पर सवार होकर बरही में पहुंचे। बरही में भाजपा की चुनावी सभा को संबोधित करने के लिए बोकारो के लिए निकल पड़े। प्रधानमंत्री का हेलीकॉप्टर बोकारो हवाईअड्डा पर उतरा। यहां से प्रधानमंत्री बाइरोड सेक्टर पांच स्थित सभास्थल पर पहुंचे। जनसभा में केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा, झारखंड भाजपा के चुनाव प्रभारी ओम माथूर, भाजपा के राष्ट्रीय सचिव सुनील देवधर, धनबाद के सांसद पीएन सिंह, धनबाद के मेयर चंद्रशेखर अग्रवाल आदि उपस्थित थे।

बेगूसराय से बोकारो पहुंचे मोदीभक्त श्रवणः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खास भक्तों में शुमार बेगूसराय के श्रवण साव भी सोमवार को बोकारो पहुंचे थे। वे सिर पर बड़ी सी कमल फूल की आकृति रखे और हाथ में गदा लिए हुए थे। सभास्थल पर उमड़ी भीड़ में श्रवण आकर्षण का केंद्र थे। वे बेगूसराय से हजार-पांच साै किलोमीदर दूर जहां भी प्रधानमंत्री की सभा होती है, जाते हैं।

सात विधानसभा क्षेत्र के प्रत्याशी उपस्थितः भाजपा की जनसभा में सात विधानसभा क्षेत्र के प्रत्याशी उपस्थित थे। इनमें चंदनकियारी से भाजपा प्रत्याशी राज्य के मंत्री अमर कुमार बाउरी, बोकारो के भाजपा प्रत्याशी बिरंची नारायण, गिरिडीह के भाजपा प्रत्याशी निर्भय शहबादी, डुमरी से भाजपा प्रत्याशी प्रदीप साहु, रामगढ़ से भाजपा प्रत्याशी रणजय कुमार खुंटू बाबू, बेरमो से भाजपा प्रत्याशी योगेश्वर महतो बाटुल और गोमिया से भाजपा प्रत्याशी लक्ष्मण कुमार नायक शामिल थे।

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस