रांची, जेएनएन। निर्वाचन आयोग झारखंड विधानसभा चुनाव में महिला मतदाताओं की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए विशेष तैयारी कर रहा है। आयोग द्वारा महिलाओं को जागरुक करने के लिए स्वीप के तहत कई कार्यक्रमों का आयोजन कर रहा है। मतदाता जागरुकता अभियान में महिलाओं को जोड़ा जा रहा है। राजधानी रांची में मंगलवार को मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी के कार्यालय में जेएसएलपीएस से जुड़ी सखी मंडलों, एनआरएम और एनआरएचएम के कर्मियों के लिए कार्यशाला का आयोजन किया गया।

इसमें उन्हें मतदान के महत्व, मतदाताओं के लिए मतदान केंद्रों पर उपलब्ध सुविधाओं समेत स्वतंत्र, निष्पक्ष और पारदर्शी चुनाव संपन्न कराने के लिए निर्वाचन आयोग द्वारा की जा रही पहल के बारे में बताया गया। कहा कि मतदान में सखी मंडल की भागीदारी काफी अहम है, क्योंकि वे ग्रामीण इलाकों में अपनी गतिविधियां संचालित करती हैं और महिलाओं के बीच उनकी पहुंच है।

महिला मतदाताओं के लिए मतदान केंद्रों पर विशेष व्यवस्था

कार्यशाला में सखी मंडलों को कहा गया कि वे गांव-गांव में स्वीप अभियान चलाकर महिला मतदाताओं को बताएं कि उनकी सहूलियत के लिए निर्वाचन आयोग द्वारा क्या-क्या सुविधा दी जा रही है। मतदान केंद्रों पर महिलाओं के लिए अलग कतार, हर दो पुरुष पर एक महिला मतदाता के मतदान कराने और टोकन सिस्टम से मतदान कराने की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। इसके साथ बुजुर्ग और दिव्यांग मतदाताओं के लिए मतदान केंद्रों पर विशेष सुविधाएं मुहैया कराई गई है।

निर्वाचन आयोग द्वारा दी जाने वाली सुविधाओं की दें जानकारी

बताया गया कि वोटर हेल्पलाइन नंबर-1950, पीडब्ल्यूडी एप, एनवीएसपी वेबसाइट पोर्टल, सी-विजिल जैसे कई एप निर्वाचन आयोग ने मतदाताओं की सुविधा के लिए लांच किए हैं। सखी मंडलों, एनआरएम और एनआरएचएम से जुड़े सदस्यों और कर्मियों का दायित्व है कि वे मतदाताओं खासकर महिलाओं को इसकी जानकारी दें। इसके साथ सी-विजिल के इस्तेमाल को लेकर उन्हें विशेष रूप से जागरुक करें, ताकि वे चुनाव से जुड़ी गड़बडिय़ों की शिकायत इस एप के माध्यम से कराएं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस