झरिया/मधुपर, जेएनएन। झारखंड विधानसभा चुनाव- 2019 के दूसरे चरण के मतदान के बाद भाजपा ने नागरिकता संशोधन विधेयक को भी चुनावी मुद्दा बना दिया है। इस मुद्दे को भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने चुनाव प्रचार के दाैरान रविवार को जनता के बीच उछाल दिया। उन्होंने रविवार को झरिया और मधुपुर विधानसभा क्षेत्र में भाजपा की चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा कि नागरिकता संशोधन विधेयक- 2019 देश की मजबूत रक्षा रणनीति का प्रमुख हिस्सा है। उन्होंने जनता का मूड भांपने, माहाैल बनाने और समर्थन हासिल करने के लिए सवाल दागा-क्या भारत के पड़ोस में सताए जा रहे हिंदुओं को नागरिकता दी जानी चाहिए ? भीड़ ने जोर से हां में जवाब दिया।

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार की कैबिनेट ने 4 दिसंबर 2019 को नागरिकता संशोधन विधेयक- 2019 को मंजूरी दी है। संसद के चालू सत्र में बिल को पास कराने की तैयारी है। इस कानून के तहत पाकिस्तान, अफगानिस्तान, बांग्लादेश के हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी, ईसाई की नागरिकता के लिए भारत में दरवाजे खुल जाएंगे। इस विधेयक का लाभ पड़ोस में रहने वाले मुस्लिमों को नहीं मिलेगा। भाजपा विरोधी तमाम पार्टियां विधेयक का विरोध कर रही हैं। इस मुद्दे पर भाजपा विरोधी पार्टियों को घेरने में जुट गई है। केंद्रीय रक्षा मंत्री ने भाजपा की चुनावी सभा को संबोधित करते हुए विधेयक का विरोध करने को लेकर विरोधियों पार्टियों पर जमकर निशाना साधा। केंद्रीय रक्षा मंत्री ने झरिया में भाजपा प्रत्याशी रागिनी सिंह और मधुपुर में भाजपा प्रत्याशी राज पालीवार के समर्थन में सभा करते हुए जनता से भारी मतों से जिताने की अपील की।

एजेंडे पर काम करती भाजपा, देशवासियों का विश्वासः झरिया के जियलगोरा स्टेडियम में रागिनी के समर्थन में आयोजित जनसभा में उमड़ी भीड़ को संबोधित करते हुए केंद्रीय रक्षा मंत्री ने कहा कि भाजपा अपने एजेंडे को पूरा करने के लिए राजनीति करती है ताकि देशवासियों का विस्वास बना रहे। उन्होंने कहा कि 35 वर्ष पूर्व ही हमारा एजेंडा था-धारा 370 खत्म करना, राम मंदिर बनाना और विदेशी घुसपैठियों को देश से बाहर निकालना। हमारी बहुमत की सरकार बनी तो धारा-370 को हटाया और अयोध्या में राम मंदिर बनाने को लेकर अड़चने दूर की। जल्द ही नागरिकता संशोधन विधेयक लागू कर विदेशों में रह रहे हिंदुओं-अल्पसंख्यकों के हितों की रक्षा की जाएगी।

रघुवर ने झारखंड को विकासशील राज्य बना डालाः राजनाथ सिंह ने कहा कि 2022 तक सभी गरीब परिवारों का अपना घर होगा। वहीं खाना बनाने के लिए गैस चूल्हा, सिलेंडर और कनेक्शन दिया गया है। शौचालय से भी सभी परिवार को जोड़ने का काम किया गया है। रघुवर दास के नेतृत्व में झारखंड देश के सात विकासशील राज्यों में पहला स्थान प्राप्त किया है। जबकि पूर्व में काफी पिछड़ा हुआ था। सिंह ने झरिया को लेकर विपक्ष से सावधान रहने की अपील की। कहा-विपक्षियों द्वारा अफवाह फैलाई जा रही है नया झरिया बनाने की जो बात मुख्यमंत्री ने की है वह सभी सुविधाओं से लैस नहीं होगा। सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री नया भारत निर्माण की बात कर रहे है।

झरिया के लोगों को विश्वास में लेकर होगा विस्थापनः धनबाद के सांसद पीएन सिंह ने कहा कि झरिया में 1919 से आग लगी हुई है। जबकि विपक्ष भ्रंतिया फैलाने में जुटा है। झरिया के लोगों को विस्वास में लेकर ही विस्थापन और पुनर्वास का कार्य होगा।

कुंती ने दिया सवा लाख पार का नाराः भाजपा प्रत्याशी रागिनी सिंह की सास पूर्व विधायक कुंती देवी ने कहा कि झरिया विधानसभा क्षेत्र में भाजपा चुनाव जीत रही है। हमारा लक्ष्य- सवा लाख वोटों के अंतर से जीत का है।  प्रत्याशी रागनी सिंह ने रक्षा मंत्री को आदर्श बताते हुए कहा कि वह जिस प्रकार देश की सेवा कर रहे है उस प्रकार हम झरिया की सेवा करेंगे। संचालन राजकुमार अग्रवाल ने किया। सम्बोधन करने वाले में हरिश जोशी, जियाडा के स्वतंत्र निदेशक सत्येंद्र कुमार, विष्णु त्रिपाठी, महावीर पासवान, मानस प्रसून आदि प्रमुख थे।

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह मधुपुर में भाजपा प्रत्याशी राज पालीवार के समर्थन में जनसभा करने के बाद हेलीकॉप्टर से झरिया पहुंचे।

झरिया में देवरानी-जेठानी के बीच मुकाबलाः झारखंड विधानसभा चुनाव- 2019 के दाैरान जिन क्षेत्रों में सबसे ज्यादा घमासान छिड़ा हुआ है उनमें एक झरिया विधानसभा क्षेत्र भी है। यहां बहुचर्चित 'सिंह मैंशन' घराने की दो बहुएं आमने-सामने हैं। भाजपा के टिकट पर झरिया के विधायक संजीव सिंह की पत्नी रागिनी सिंह चुनाव लड़ रही हैं तो उन्हें कांग्रेस के टिकट पर पूर्व डिप्टी मेयर नीरज सिंह की पत्नी पूर्णिमा सिंह चुनाैती दे रही हैं। रिश्ते में दोनों जेठानी और देवरानी लगती हैं। झरिया विधानसभा क्षेत्र में भाजपा का विधानसभा चुनाव-2005 से ही कब्जा है। 2005 और 2009 के चुनाव में बहुचर्चित सूरजदेव सिंह की पत्नी कुंती देवी भाजपा के टिकट पर चुनाव जीत चुकी हैं। जबकि 2014 के चुनाव में कुंती सिंह के पुत्र संजीव सिंह भाजपा के टिकट पर विधायक चुने गए थे। अबकी भाजपा ने संजीव सिंह की पत्नी रागिनी सिंह को प्रत्याशी बनाया है।

 

Posted By: Mritunjay

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस