पलामू, [आनंद मिश्र]। Jharkhand Assembly Election 2019 - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी झारखंड में अपनी पहली चुनाव जनसभा में भाजपा कार्यकर्ताओं को चुनाव में जूझने के तमाम अस्त्र-शस्त्र सौंप गए। राम मंदिर का जिक्र उन्होंने पहली बार झारखंड की धरती से कर जहां चुनावी एजेंडा सेट किया वहीं, अनुच्छेद 370 के बहाने राष्ट्रवाद का कार्ड भी खेला। पलामू की धरती से समाज के हर वर्ग को साधने का काम तो मोदी कर ही गए।

अपने 38 मिनट के संबोधन के दौरान प्रधानमंत्री ने जनजातीय समाज के साथ-साथ पिछड़े व अगड़े वर्गों को भी साधा। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा बनाए गए जनजातीय मंत्रालय का जिक्र कर जनजातीय समाज से भाजपा के जुड़ाव को स्पष्ट किया, तो पिछड़ों के लिए बनाए गए ओबीसी आयोग को संवैधानिक दर्जा देने की बात कर पिछड़ा वर्ग को भी साधा।

यह कहना भी नहीं भूले कि सामाजिक न्याय तब तक अधूरा है, जब तक सामान्य वर्ग को इससे नहीं जोड़ा जाता। सामान्य वर्ग के गरीब परिवारों को दस प्रतिशत आरक्षण देने का मामला उठा, अगड़ी जाति से भी भावनात्मक रिश्ता जोड़ा। गरीब, किसान, व्यापारी की बात तो उन्होंने कही ही। जल, जंगल व जमीन के विपक्ष के मुद्दे पर तो उन्होंने निशाना साधा ही। स्पष्ट कहा कि विरोधी हताशा में कुछ भी कहें, आपके जल, जंगल, जमीन के हितों की सुरक्षा भाजपा दीवार बनकर करेगी।

डबल इंजन के बार-बार जिक्र के भी हैं मायने

प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन के दौरान डबल इंजन की सरकार का कई बार जिक्र किया। डबल इंजन की सरकार के फायदे गिनाए, तो यह बताने से भी नहीं चूके कि जहां गैर भाजपा शासित राज्यों की सरकारें हैं, वहां केंद्रीय विकास योजनाओं की क्या स्थिति है। स्पष्ट कहा कि डबल इंजन की सरकार में निरंतरता बनी रहती है।

उत्तर प्रदेश का जिक्र कर बताया कि वहां जब भाजपा की सरकार आई, तो लोगों को आवास योजना का लाभ मिला। वहीं, बंगाल, मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में आ रही रुकावटों का जिक्र किया। यह भी कहा कि झारखंड में हम गरीबों के लिए काम कर सकें, इसके लिए भाजपा सरकार को दोबारा चुनें। कोई और आएगा तो उन्हें परवाह नहीं होगी।

पलामू से जोड़ा रिश्ता

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पलामू की धरती से अपने और अपनी पार्टी के रिश्तों के तार भी जोड़े। कहा, झारखंड की धरती, उसमें भी पलामू, भारत के लिए एक मजबूत किला रहा है। आज पूरे भारत में कमल खिला है, तो उसमें यहां की भूमिका और आप सबका आशीर्वाद शामिल है। यह भी कहा कि यहां का जनजातीय, पिछड़ा, दलित, व्यापारी, कारोबारी हर वर्ग कमल के निशान के साथ खड़ा रहा है। 80 के दशक में भी जब भाजपा का जनाधार नहीं था और कांग्रेस के लोग मजाक उड़ाते थे, तब भी भाजपा यहां मजबूत रही। लोकसभा चुनाव में भी आप सभी का भारी समर्थन मिला।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस