रांची, राज्य ब्यूरो। Jharkhand Assembly Election 2019 महागठबंधन में शामिल झामुमो, कांग्रेस और राजद के बीच अभी कई मुद्दों पर गांठें बरकरार हैं। शनिवार को राजद सुप्रीमो लालू यादव से मिलने के बाद भले ही हेमंत सोरेन ने सब ठीकठाक होने का दावा किया लेकिन बातें अभी सुलझी नहीं हैं। यही कारण है कि सीटों की घोषणा पर झामुमो और कांग्रेस ने देरी कर दी। अब राजद के मानने के बाद ही दोनों दल गठबंधन पर आगे बढ़ेंगे।

शुक्रवार को ही संयुक्त प्रेस वार्ता में उपस्थित होने की बजाय राजद नेता तेजस्वी यादव बाहर निकल गए थे। उनके नजदीकी लोगों ने नाराजगी की बात मीडिया के सामने ही बता दी थी। समझा जा रहा है कि राजद विश्रामपुर सीट के लिए ही जिद किए बैठा है। इस सीट से कांग्रेस सीनियर नेता ददई दुबे को लड़ाना चाहती है। ददई यहां से विधायक भी रह चुके हैं। विश्रामपुर से राजद के टिकट पर रामचंद्र चंद्रवंशी विधायक रह चुके हैं और पिछले चुनाव में उन्होंने भाजपा के टिकट पर जीत दर्ज की और मंत्री बने। राजद का तर्क है कि पिछले चुनाव में यह सीट कांग्रेस के लिए छोड़ी गई थी लेकिन गठबंधन के बावजूद कांग्रेस तीसरे नंबर पर रही इसलिए राजद का बड़ा हक बनता है।

विश्रामपुर का मामला सुलझ नहीं पाने के कारण कांग्रेस शनिवार की देर शाम तक सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा से बचती रही और झामुमो ने भी यही किया। हालांकि देर रात तक अथवा रविवार को कांग्रेस की पहली सूची आ सकती है जिसमें 4-5 उम्मीदवारों के नाम की घोषणा होगी। दूसरी ओर, मासस के लिए एक सीट ही छोडऩे पर झामुमो तैयार हुआ है और कहा जा रहा है कि निरसा से पार्टी अपना उम्मीदवार नहीं देगी। सूत्रों के अनुसार निरसा और सिंदरी सीट झामुमो के खाते में जाएगी। 

Posted By: Alok Shahi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप