रांची/पटना, जेएनएन। जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष और प्रदेश के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार झारखंड विधानसभा चुनाव के दौरान किसी प्रत्याशी के पक्ष में प्रचार करने झारखंड नहीं जाएंगे। शुक्रवार को बिहार विधानसभा स्थित अपने कक्ष में मीडिया से नीतीश कुमार ने यह बात कही। पिछले कुछ दिनों से ऐसे कयास लगाए जा रहे थे कि मुख्यमंत्री झारखंड विधानसभा चुनाव में प्रचार को जाएंगे, लेकिन आज उन्होंने साफ कर दिया कि उनकी ऐसी कोई योजना नहीं। मुख्यमंत्री ने सरयू राय का टिकट काटे जाने पर आश्चर्य व्यक्त करते हुए कहा कि उनके लिए यह फैसला आश्चर्यजनक है।

बिहार विभाजन के दिनों का हवाला देकर मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस वक्त बिहार को बांटकर झारखंड का निर्माण किया जा रहा था सरयू राय से आग्रह किया गया था कि वे बिहार में रहें। परन्तु उनका फैसला झारखंड जाने का था। उन्होंने कहा सरयू राय के साथ उनके पुराने संबंध हैं। इससे पहले जदयू के नेता और बिहार के कैबिनेट मंत्री ललन सिंह ने रांची में मीडिया से बातचीत में कहा था कि सरयू राय आग्रह करेंगे तब नीतीश कुमार उनके चुनाव प्रचार के लिए आएंगे।

बता दें कि भाजपा ने इस बार झारखंड विधानसभा चुनाव में  जमशेदपुर पश्चिम सीट से सरयू राय को टिकट नहीं दिया है इसके बाद झारखंड के रघुवर सरकार के खाद्य आपूर्ति मंत्री सरयू राय ने भाजपा से बगावत कर दी और मुख्यमंत्री रघुवर दास के खिलाफ जमशेदपुर पूर्वी सीट से नामांकन दाखिल कर उनके खिलाफ खड़े हो गए वर्तमान परिस्थितियों में नीतीश कुमार ने अब चुनाव प्रचार के लिए मना कर दिया है हालांकि इसके पहले जदयू की ओर से नीतीश कुमार के सरयू राय के समर्थन में चुनाव प्रचार करने की बात कही गई थी इस क्रम में नीतीश कुमार की पार्टी जदयू से जमशेदपुर पूर्वी सीट पर किसी भी प्रत्याशी ने नामांकन नहीं किया है कयास लगाए जा रहे थे कि भाजपा के बागी सरयू राय को नीतीश कुमार का पूरा समर्थन मिलेगा।

Posted By: Alok Shahi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप