रांची, राज्य ब्यूरो। Jharkhand Assembly Election 2019 एनडीए गठबंधन में पेंच अब भी बरकरार है। आजसू प्रमुख सुदेश महतो की बढ़ती महत्वाकांक्षा भाजपा को नागवार गुजरी है। भाजपा ने आजसू को दो टूक जवाब दे दिया है कि वह दबाव में नहीं आएगी। भाजपा आलाकमान के बुलावे पर दिल्ली गए सुदेश महतो बैरंग वापस लौट आए हैं। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से उनकी मुलाकात तक नहीं हुई। हालांकि दोनों ही दलों के स्तर पर अब तक बात बिगडऩे को लेकर कोई बयान नहीं दिया गया है। स्पष्ट है अपने-अपने रुख पर अड़े रहने के बावजूद भाजपा और आजसू अपने बिगड़े रिश्ते को सार्वजनिक करने में संकोच कर रहे हैं। सुलह का रास्ता अभी भी खोलकर रखा गया है।

बता दें कि भाजपा आलाकमान के बुलावे पर शुक्रवार रात आजसू के अध्यक्ष सुदेश महतो दिल्ली गए थे। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सह विधानसभा प्रभारी ओम प्रकाश माथुर के साथ सीटों की सहमति को लेकर उनकी बैठक हुई लेकिन बात नहीं बन सकी। बताया जा रहा है कि 20 सीटों की सूची लेकर दिल्ली गए सुदेश 17 सीटों से कम पर राजी नहीं थे। इसके अलावा लोहरदगा और चंदनक्यारी सीट को लेकर भी दोनों ही अपनी दावेदारी छोडऩे को तैयार नहीं हुए।

प्रथम स्तर की वार्ता पर ही सहमति न बनने के कारण सुदेश की भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से भी मुलाकात नहीं हुई। इधर, रांची एयरपोर्ट पर सुदेश महतो ने मीडिया से बातचीत में कहा कि हमने अपनी सूची भाजपा को सौंप दी है, आगे का निर्णय उन्हें लेना है। चंदनक्यारी और लोहरदगा पर उन्होंने अपने दावे को वाजिब बताया।

Posted By: Alok Shahi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप