जमशेदपुर, जासं। Jharkhand Assembly Election 2019 कुल 2,60,035 मतदाताओं वाले ईचागढ़ विधानसभा क्षेत्र के वोटरों के रुख ने चुनावी पंडितों के गणित को गडमड्ड कर दिया। मतदाता चार प्रत्याशियों के इर्द-गिर्द घूमे जरूर, लेकिन किसी को यह स्पष्ट एहसास नहीं कराया कि जनादेश भाजपा के साधु, झामुमो की सविता, आजसू के हरेलाल या निर्दलीय अरविंद के साथ है।

किसी भी प्रत्याशी के पक्ष में लहर जैसी फीलिंग इस विधानसभा क्षेत्र में नहीं दिखी। कोई भी इलाका न तो एकतरफा था और न ही बिल्कुल साफ। हर इलाके में चारों प्रत्याशियों की घुसपैठ साफ नजर आई। यही कारण रहा कि मतदान खत्म होने के बाद भी किसी भी प्रत्याशी का चुनावी रणनीतिकार खम ठोकने की स्थिति में नहीं दिखा। हां, यह बात दीगर है कि लोग अपने-अपने हिसाब से समीकरण बैठाते जरूर दिखाई पड़े।  

मतदाताओं के उत्‍साह में नहीं दिखी कमी

यहां सुबह से मतदान खत्म होने तक बूथों पर वोटरों की एक जैसी कतार नजर आई। हां, दोपहर एक बजे तक कतारें थोड़ी लंबी थीं, लेकिन इसके बाद इनकी लंबाई धीरे-धीरे कम होती गई। मतदाताओं के उत्साह में चुनिंदा दो-चार बूथों को छोड़कर, कहीं भी कमी नजर नहीं आई। पूरे विधानसभा क्षेत्र में कुल छह बूथों को स्थानांतरित किया गया था। इसके कारण मतदाताओं ने उत्साह नहीं दिखाया और इन तमाम बूथों पर थोड़े-बहुत ही वोट पड़े। पुरुषों के साथ ही महिलाओं ने भी जमकर मतदान किया। विधानसभा क्षेत्र के लगभग सभी बूथों पर मुख्यत: चार प्रत्याशियों के ही टेंट दिखे, इनमें भाजपा के साधु चरण महतो, झामुमो की सविता महतो, आजसू के हरेलाल महतो और निर्दलीय प्रत्याशी अरविंद उर्फ मलखान सिंह शामिल हैं।

चार के इर्द-गिर्द घूम रहा समीकरण

वैसे तो इस विधानसभा क्षेत्र से मैदान में कुल 31 प्रत्याशी हैं, लेकिन मतदाता और चुनावी समीकरण इन चारों के ही इर्द-गिर्द घूमते नजर आए। सुबह छह बजे से ही ये चारों प्रत्याशी भी पूरे इलाके का दौरा कर रहे थे। बूथ दर बूथ रुक कर अपने टेंटों में मोर्चा संभाले कार्यकताओं और समर्थकों से फीडबैक लेने के साथ-साथ उनका उत्साह भी बढ़ा रहे थे। सविता, साधु, मलखान हों या हरेलाल सब मतदान खत्म होने के बाद और ईवीएम के कलस्टरों तक पहुंचने तक 'मोबाइल' ही रहे। 

घोर ग्रामीण इलाकों में ज्‍यादा उत्‍साह

मतदाता बड़ी शांति से अपना वोट डाल रहे थे और अपने घर जा रहे थे। बूथ संख्या 255 चौका में वोट डालकर लौटीं सावित्री देवी को जब टटोलने की कोशिश की कि आपने किस आधार पर या किस अपेक्षा से मतदान किया है तो उन्होंने बड़ी बेबाकी से कहा कि मेरे इलाके में एक से बढ़कर एक समस्याएं मुंह बाए खड़ी हैं। जिससे इन समस्याओं के समाधान की उम्मीद है, उसी को वोट दिया है। सुखद ये है कि इस विधानसभा क्षेत्र के कस्बाई इलाकों के मुकाबले घोर ग्रामीण इलाकों के मतदाताओं में उत्साह कुछ अधिक ही दिखा।

Posted By: Rakesh Ranjan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस