रांची, जागरण स्पेशल। Jharkhand Assembly election 2019  झारखंड चुनाव के लिए आखिरकार विपक्षी महागठबंधन का स्वरूप तय हो गया है। बड़ी मशक्कत के बाद  सीट शेयरिंग पर भाजपा विरोधी दलों में सहमति बनी। बीजेपी को सत्ता से बेदखल करने के लिए  इन पार्टियों ने हाथ मिलाया। अब तक की जानकारी के मुताबिक भाजपा की ओर से मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार रघुवर दास को पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन महागठबंधन के सीएम कैंडिडेट के रूप में चुनौती देंगे। सीटों के बंटवारे में सबसे बड़ी पार्टी झामुमो को 42 जबकि कांग्रेस के खाते में 30 सीटें आई हैं।

10 प्वाइंट्स में जानें महागठबंधन के मायने

  1. कांग्रेस और झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के बीच सीट बंटवारे पर सहमति के बाद महागठबंधन में बाबूलाल मरांडी के लिए कुछ नहीं बचा है। माकपा और भाकपा भी गठबंधन से बाहर ही रहेंगी।
  2. झामुमो को गठबंधन में बड़ा भाई मानने पर कांग्रेस प्रभारी आरपीएन सिंह ने कहा कि गठबंधन में कोई बड़ा-छोटा नहीं है। हम सभी रघुवर दास सरकार को हटाने के संकल्प के साथ चुनाव मैदान में जा रहे हैं। 
  3. कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर उरांव और विधायक दल के नेता आलमगीर आलम को हेमंत सोरेन के साथ सीट बंटवारे पर अंतिम सहमति बनाने का जिम्मा सौंपा गया था जिसे उन्होंने बखूबी पूरा किया।
  4. सीट शेयरिंग के तय स्वरूप के अनुसार लालू प्रसाद यादव की पार्टी राजद और मासस को विपक्षी महागठबंधन  में हिस्सेदारी दी गई है 
  5. पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी की पार्टी झारखंड विकास मोर्चा को विपक्षी महागठबंधन से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है 
  6. आरपीएन सिंह, हेमंत सोरेन और तेजस्वी यादव शुक्रवार को संयुक्त रूप से करेंगे सीट बंटवारे की घोषणा 
  7. अंतिम पेंच पर सहमति बनाने के लिए हो रही निर्णायक वार्ता पर खुद कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने रखी निगाह 
  8. पहले चरण के उम्मीदवारों की घोषणा शुक्रवार को कर सकता है झामुमो तो कांग्रेस कल लेगी निर्णय 
  9. किसको कितनी सीटें - झामुमो - 42 - कांग्रेस - 30- राजद - 7 - मासस - 2
  10. एनसीपी को एक सीट और वामदल राजी हुए तो कांग्रेस अपने कोटे से सीटें देगी।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस