रांची, राज्य ब्यूरो। विपक्षी गठबंधन से झारखंड विकास मोर्चा के बाहर होने के बाद अब झामुमो और कांग्रेस मजबूती से साथ हो गए हैं लेकिन राजद रूठ गया है। कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी आरपीएन सिंह ने हेमंत सोरेन के नेतृत्व में चुनाव लडऩे की बात कही और यह भी घोषणा की कि हेमंत मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार होंगे। शुक्रवार को संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में झामुमो और कांग्रेस के सीनियर नेता तो दिखे लेकिन राजद की अनुपस्थिति पर खूब सवाल उठे।

प्रदेश कांग्रेस प्रभारी आरपीएन सिंह और झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन तेजस्वी यादव की अनुपस्थिति पर कोई स्पष्ट जवाब नहीं दे सके। संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में दोनों पार्टियों ने पहले चरण की सीटों की घोषणा भी कर दी। इसमें छह कांग्रेस के हिस्से आई हैं, चार झामुमो और तीन राजद सीटें राजद को मिली हैं। पहले चरण की 13 सीटों के लिए नामांकन की अंतिम तिथि 13 नवंबर है। इसी चरण में विश्रामपुर सीट के लिए राजद अपनी दावेदारी से पीछे हटने को तैयार नहीं है।

कुछ सीटों पर झामुमो व कांग्रेस में भी जिच है और इसी कारण राजद को आवंटित सीटों की घोषणा कर दी गई लेकिन इन दोनों पार्टियों ने अगले चरणों के लिए सीटों की घोषणा नहीं की। हालांकि कांग्रेस और झामुमो में सीटों की संख्या को लेकर कोई जिच नहीं है।

झामुमो को 43 और कांग्रेस को 31 सीटें दी गई हैं। पार्टी सूत्रों के अनुसार कांग्रेस अपने हिस्से से वामपंथियों के लिए सीट छोड़ेगी और झामुमो मासस के लिए। गठबंधन में इन दलों के शामिल नहीं होने की स्थिति में दोनों पार्टियां अपना उम्मीदवार भी खड़ा करने से परहेज कर सकती हैं।

ऐसे बंटी पहले चरण की सीटें

कांग्रेस (6) : लोहरदगा, मनिका, पांकी, डालटनगंज, विश्रामपुर और भवनाथपुर

झामुमो (4) : गुमला, विशनपुर, लातेहार और गढ़वा

राजद (3) : छतरपुर, हुसैनाबाद और चतरा

राजद के लिए छोड़ी गई अन्य चार सीटें : देवघर, गोड्डा, कोडरमा और बरकट्ठा।

फुलप्रूफ गठबंधन हो गया : आरपीएन

झारखंड प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी आरपीएन सिंह ने प्रेस कांफ्रेंस में दावा किया कि गठबंधन को लेकर अटकलें लगानेवाले लोगों को हमने जवाब दे दिया है और एक फुलप्रूफ गठबंधन तैयार हो गया है। उन्होंने कहा कि राजद को लेकर जो कुछ सवाल हैं उनको समय पर सुलझा लिया जाएगा और राजद गठबंधन में ही रहेगा।

लालू यादव से मुलाकात के बाद स्पष्ट होगी स्थिति : हेमंत

पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि अभी लालू यादव को जेल में ऐसे रखा गया है जैसे देश का सबसे बड़ा आतंकवादी हो। राजद को लेकर जो भी भ्रम है वह लालू यादव से मुलाकात के बाद खत्म हो जाएगा। समय के साथ राजद से जुड़े सवालों का जवाब मिल जाएगा।

छतरपुर सीट को लेकर हुई राजद से जिच

राजद नेता तेजस्वी यादव छतरपुर सीट पर पार्टी की दावेदारी को लेकर अड़ गए और संवाददाता सम्मेलन में आने के पहले अलग निकल गए। इसके पूर्व गुरुवार की रात से शुक्रवार की शाम तक वे लगातार महागठबंधन के नेताओं से संपर्क में रहे।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप