धनबाद, जेएनएन। बिहार और केंद्र की राजनीति में साथ-साथ भाजपा और जदयू  झारखंड विधानसभा चुनाव में अलग-अलग रास्ते पर है। इसका असर दिखने लगा है। कोयलांचल में भाजपा के मजबूत गढ़ धनबाद विधानसभा क्षेत्र में जदयू ने प्रत्याशी उतार दिया है। जदयू के जिलाध्यक्ष विपीन कुमार सिंह उर्फ पिंटू सिंह ने बुधवार को धनबाद विधानसभा क्षेत्र से पर्चा दाखिल किया। इस माैके पर उपस्थित होकर बिहार के मंत्री नीरज कुमार, पूर्व केंद्रीय मंत्री अली अशरफ फातमी और जदयू के राष्ट्रीय सचिव संजय बर्मन ने पार्टी प्रत्याशी पिंटू सिंह की हाैसलाअफजाई की।

जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से पिंटू सिंह की निकटता है। समझा जाता है कि नीतीश के इशारे पर ही उनकी सरकार के मंत्री और पार्टी के पदाधिकारी धनबाद में पिंटू की हाैसलाअफजाई करने पहुंचे थे। जदयू नेताओं ने नामांकन के दाैरान शक्ति प्रदर्शन किया। इसके बाद संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए बिहार के मंत्री नीरज कुमार ने कहा कि झारखंड बने 19 साल हो गए हैं। बिहार बंटवारे के बाद झारखंड को सबकुछ मिला। उद्योग, पर्यटन समेत सभी कुछ, लेकिन बीते वर्षों में बिहार ने अपने दम पर अपनी पहचान बनाई। हर क्षेत्र में विकास किया और शराबबंदी कर सामाजिक सरोकार को बढ़ावा दिया। बात झारखंड की करें तो यहां की वर्तमान सरकार बीते पांच वर्षों से पोस्टर ब्वॉय बन कर रह गई है। 

बुधवार को टुंडी से पार्टी प्रत्याशी केके तिवारी और धनबाद से विपीन कुमार सिंह उर्फ पिंटू सिंह के नामांकन रैली में भाग लेने पहुंचे जदयू नेताओं ने कहा कि आज झारखंड में सबसे बड़ा सवाल है कि भाजपा ने सरयू राय और रवींद्र राय का टिकट क्यों काटा। मुख्यमंत्री रघुवर दास को इन लोगों से दुश्मनी थी। नेताओं ने कहा कि चुनाव प्रचार करने के लिए बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार धनबाद में आएंगे।

Posted By: Mritunjay

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस