जमशेदपुर, जासं। Jharkhand Assembly Election 2019 पूर्व मंत्री दुलाल भुइंया बेटे को टिकट नहीं मिलने से भड़क गए हैं।  वे इस उममीद में थे कि उनके बेटे  बेटे विप्लव भुइंया को झारखंड मुक्ति मोर्चा जुगसलाई से उम्‍मीदवारी देगी। अब जबकि एकबार फ‍िर पिछले चुनाव में प्रत्‍याशी रहे मंगल कालिंदी पर भरोसा करते हुए उन्‍हें उम्‍मीदवार घोषित किया तो दुलाल उबल पड़े और कहा कि मेरे बेटे को टिकट नहीं देने के बारे में  कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन को जवाब देना होगा। 

 दुलाल भुइंया ने कहा कि उनका बेटा विप्लव भुइंया हर तरह से सक्षम था। वह हाईकोर्ट का अधिवक्ता है, पढ़ा लिखा है और चुनाव जीतने में सक्षम था। इसके बावजूद टिकट क्यों नहीं दिया गया यह समझ से परे  है। उन्‍होंने दावा किया कि विप्लव भुइंया को टिकट नहीं मिलने से अखिल भारतीय भुइंया समाज में आक्रोश है। भुइंया समाज के सैकड़ों लोगों का फोन आ चुका है कि समाज की बैठक कराया जाए और उसमें निर्णय लिया जाए कि आगे क्‍या करना है। उन्होंने बताया कि दो तीन दिनों के अंदर रांची में अखिल भारतीय भुइंया समाज के लोगों की बैठक बुलाई गई है। बैठक में समाज के लोगों का जो निर्णय होगा उसका पालन किया जाएगा। दुलाल ने कहा कि वह 40 साल से पार्टी की सेवा करते रहे हैं। इसके बावजूद उनकी उपेक्षा की गई। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस