हजारीबाग के बड़कागांव से प्रदीप सिंह। Jharkhand Assembly Election 2019 - लोकसभा चुनाव में हर गरीब को 72 हजार सालाना देने की कांग्रेस की न्याय योजना भले ही पिट चुकी हो, लेकिन कांग्रेस नेता राहुल गांधी अपने ड्रीम प्रोजेक्ट को भूल नहीं पाते। अपनी चुनावी सभाओं में वे इस योजना को बेरोजगारी मिटाने का कारगर हथियार बताते हुए भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर सवाल दागते हैं।

सोमवार को यहां हजारीबाग के बड़कागांव में आयोजित चुनावी सभा में उन्होंने पुराना घिसा-पिटा राग ही दोहराया। हिंदुस्तान को दुनिया की रेप कैपिटल बताते हुए उत्तर प्रदेश सरकार पर सवाल खड़े किये। यह भी कहा कि रेप की घटनाओं पर मोदी कुछ नहीं बोलते। उलटे पीडि़त का एक्सिडेंट करा दिया जाता है। हैदराबाद से लेकर उन्नाव दुष्कर्म और हत्या की घटनाओं पर पीएम चुप्पी साधे रहे।

यूपी में खुद उन्हीं की पार्टी के विधायक दुष्कर्म के आरोपित हैं। पिछली सभा की तरह इस सभा में भी राहुल ने कुछ उद्योगपतियों के नाम गिनाए। दावा किया कि भाजपा की राजनीति नफरत,हिंसा, विद्वेष और विभाजन पर टिकी है। अपने चिर-परिचित स्टाइल में आस्तीन खींचते हुए राहुल ने कहा कि वे दो हिंदुस्तान नहीं बनने देंगे। भाजपा सिर्फ अमीरों के बारे में चिंता करती है।

किसान, मजदूर, दलित, आदिवासी, गरीब उसके एजेंडे में नहीं है। उन्होंने मुख्यमंत्री रघुवर दास की ओर भी अपने शब्द-वाण का रुख करते हुए कहा कि वे देश के सबसे भ्रष्ट सीएम हैं। विधानसभा चुनाव के तीसरे चरण में प्रचार अभियान का आगाज करते हुए राहुल गांधी ने फिर जीएसटी को गब्बर सिंह टैक्स बताकर खामियां गिनाने की कोशिश की।

लगभग 25 मिनट का उनका भाषण मोदी के इर्द-गिर्द रहा। किसानों का दो लाख तक का कर्ज माफ करने, धान का समर्थन मूल्य 2500 करने और ओबीसी को 27 परसेंट रिजर्वेशन देने का वादा जब उन्होंने किया तो खूब तालियां बजी। उन्होंने जब भीड़ की तरफ रोजगार मिलने को लेकर सवाल उछाले तो उनका ध्यान खींचने में सफलता पाई। स्थानीय मुद्दे छेड़कर उन्होंने लोगों की दुखती रग पर हाथ रखा।

बोले- भाजपा के राज में किसान जब अपने हक का मुआवजा मांगते हैं तो पुलिस को गोली चलाने में दो मिनट नहीं लगता। गौरतलब है कि हजारीबाग, रामगढ़, बड़कागांव और आसपास के क्षेत्रों में विस्थापन, जमीन अधिग्रहण एक बड़ा मुद्दा है। यहां आंदोलन के दौरान कई बार पुलिस फायरिंग की भी घटनाएं हो चुकी हैं। राहुल गांधी ने इस मुद्दे की तरफ लोगों का ध्यान खींचने की भरसक कोशिश की।

जहां देखो वहां मोदी का चेहरा

राहुल ने कहा कि जहां देखो वहां मोदी का चेहरा दिखता है। मोदी अपना चेहरा टीवी पर डालने के लिए अपने उद्योगपति दोस्तों को जमीन देते हैं। इसके बदले वे नरेंद्र मोदी का चेहरा टीवी पर डालते हैं। कभी किसान-मजदूर से मोदी को गले लगते किसी  ने नहीं देखा, लेकिन वे अंबानी से गले मिलते बराबर दिखते हैं। सिर्फ 15-20 लोगों के लिए वे सरकार चला रहे हैं। भरोसा दिलाया कि जिनकी जमीन छिनी गई है, उनको मुआवजा के साथ ही जमीन वापस दिलाएंगे।

अर्थव्यवस्था को गड्ढे में धकेला

राहुल गांधी ने आर्थिक मंदी के लिए मोदी सरकार को जिम्मेदार बताया। बोले- भारत की अर्थव्यवस्था को इन्होंने गड्ढे में धकेल दिया है। मेक इन इंडिया पर तंज कसते हुए कहा कि एक के बाद एक फैक्ट्री बंद हो रही है। बेरोजगार युवा एक प्रदेश से दूसरे प्रदेश भागते रहते हैं, लेकिन उन्हें रोजगार नहीं मिलता। झारखंड गरीब नहीं है, यहां के लोग गरीब हैं। कांग्रेस की सरकार बनी तो वह आपके जल, जंगल, जमीन की रक्षा करेगी, छीनी गई जमीन वापस कराएगी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021