धनबाद, जेएनएन। सूबे में चुनाव की अधिसूचना जारी होने के बाद से कांग्रेस की ओर से प्रत्याशियों की घोषणा का इंतजार सभी को था। खासकर धनबाद और झरिया की सीट हॉट केक बनी हुई थी। सोमवार देर रात कांग्रेस ने धनबाद, झरिया और बाघमारा विधानसभा सीट से प्रत्याशियों की घोषणा कर दी।

धनबाद से पूर्व मंत्री मन्नान मलिक पर पार्टी ने एक बार फिर से भरोसा जताया है तो झरिया से पहली बार पूर्व डिप्टी मेयर और कांग्रेस के टिकट पर 2014 में चुनाव लड़ चुके दिवंगत नीरज सिंह की पत्नी पूर्णिमा नीरज सिंह को टिकट दिया है। वहीं बाघमारा से पूर्व मंत्री जलेश्वर महतो पहली बार कांग्रेस के टिकट पर लड़ने जा रहे हैं। हालांकि इसके बाद भी कांग्रेस ने दो प्रमुख विधानसभा सिंदरी और निरसा पर सस्पेंस बरकरार रखा है। झामुमो और कांग्रेस में गठबंधन होने के बाद छह में से पांच विधानसभा सीटें कांग्रेस खाते में गई है। तीन की घोषणा हो चुकी है और दो शेष है, इसमें सिंदरी और निरसा शामिल है। निरसा में कांग्रेस की स्थिति ठीक नहीं है, यहां कांग्रेस अपने कोटे से यह सीट मासस नेता और मौजूदा विधायक अरूप चटर्जी के लिए छोड़ सकती है। हालांकि झामुमो के अशोक मंडल भी निरसा से मजबूत दावेदारी कर रहे हैं। इसी तरह सिंदरी में भी मासस नेता पूर्व विधायक आनंद महतो की मजबूत दावेदारी है। यह सीट भी कांग्रेस मासस के लिए छोड़ सकती है।

सोमवार को तीन विधानसभा सीटों पर प्रत्याशियों के घोषणा के बाद से इसकी संभावना प्रबल हुई है। अब कांग्रेस की अगली सूची का इंतजार है। अब मतदाताओं के बीच धनबाद, झरिया और बाघमारा की चुनावी तस्वीर साफ हो गई है। इन तीनों सीटों पर सीधी टक्कर की संभावना बनती दिख रही है।

  • विधानसभा : झरिया नाम : पूर्णिमा नीरज सिंह पति : स्व. नीरज सिंह शिक्षा : मास्टर ईन मॉस कम्युनिकेशन एमिटी विवि, नोएडा पता : रघुकुल, सरायढेला पारिवारिक पृष्ठभूमि : पति स्व. नीरज सिंह पूर्व डिप्टी मेयर रह चुके हैं। मार्च 2017 में नीरज सिंह की हत्या कर दी गई थी। इसके बाद पूर्णिमा नीरज सिंह को अचानक सक्रिय राजनीति में प्रवेश करना पड़ा।

राजनीति में सुखद तरीके से आना नहीं हुआ, फिर भी लोगों और पार्टी ने भरोसा जताया है तो इसे पूरा करूंगी। इमानदारी के साथ लोगों की सेवा करनी है, तरीका चाहे जो भी हो। सभी को साथ लेकर चलना है। न जेठानी न देवरानी, मेरी लड़ाई भाजपा से है।

- पूर्णिमा नीरज सिंह, कांग्रेस प्रत्याशी झरिया

  • विधानसभा : धनबाद नाम : मन्नान मलिक पिता : सुलेगान मल्लिक शिक्षा : स्नातक, बीएससी, बीएल आवास : हाउसिंग कॉलोनी राजनीतिक करियर : लंबे समय तक कांग्रेस के जिलाध्यक्ष रहे। राष्ट्रीय कोलियरी मजदूर संघ व इंटक के पदाधिकारी। 2009 में धनबाद विधानसभा से विधायक चुने गए। राज्य सरकार में मंत्री भी रहे। 2014 में भाजपा नेता राज सिन्हा से शिकस्त खाई।

सभी को साथ लेकर धनबाद का विकास करना है। इसमें सभी का सहयोग आपेक्षित है। पार्टी ने जो जिम्मेदारी दी है, उसे पूरा करूंगा। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी, झारखंड प्रभारी आरपीएन सिंह एवं प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर उरांव का आभार।

- मन्नान मल्लिक, कांग्रेस प्रत्याशी धनबाद

  • विधानसभा : बाघमारा नाम : जलेश्वर महतो पिता : रवि महतो शिक्षा : 12वीं उत्तीर्ण पता : लाल बंगला, महुदा धनबाद राजनीतिक करियर : जलेश्वर महतो ने राजनीति झारखंड मुक्ति मोर्चा से शुरू की, बाद में मार्डी गुट में चले गए। झामुमो मार्डी गुट के बिखराव के बाद उन्होंने जदयू का दामन थामा। वे जदयू के प्रदेश अध्यक्ष भी रहे। 2000 और 2004 में विधायक चुने गए। जलेश्वर झारखंड गठन के बाद पहले कैबिनेट में जल संसाधन मंत्री भी रहे। इसी वर्ष लोकसभा चुनाव से कुछ समय पहले कांग्रेस में शामिल हुए।

लोगों की सेवा प्राथमिकता में शामिल है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी, झारखंड प्रभारी आरपीएन सिंह एवं प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर उरांव ने जो भरोसा जताया है इसके लिए उनका आभार, उनके भरोसे पर खरा उतरूंगा और बाघमारा से माफिया राज खत्म करूंगा।

- जलेश्वर महतो, कांग्रेस प्रत्याशी बाघमारा

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप