रांची, राज्य ब्यूरो। Jharkhand Assembly Election 2019 - मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी विनय कुमार चौबे ने कहा है कि बूथ एप तथा टोकन सिस्टम लागू होने से मतदाताओं को मतदान में काफी सहूलियत हो रही है। इससे किसी प्रकार का नुकसान नहीं हो रहा है। उन्होंने भाजपा के उस दावे को सिरे से खारिज किया कि बूथ एप लागू होने से मतदान प्रतिशत में गिरावट आ रही है।

चौथे दौर की सीटों पर मतदान संपन्न होने के बाद मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी मीडिया से मुखातिब थे। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी के अनुसार, भाजपा के दावे और जिन विधानसभा क्षेत्रों में मतदान हुआ है, उनके मतदान फीसद के आंकड़ों में कोई समन्वय नहीं है। उनके अनुसार, बूथ एप के माध्यम से मतदाताओं को घर बैठे पता चल जाता है कि किसी मतदान केंद्र पर कतार कितनी लंबी है।

इससे वे अपनी सुविधा के अनुसार आकर वोट देते हैं। उन्होंने बूथ एप लागू करने को अच्छा प्रयास बताते हुए कहा कि इसे देश के अन्य राज्यों में भी लागू किया जा सकता है। हालांकि, उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि इसे लेकर जागरूकता नहीं होने के कारण काफी कम मतदाताओं ने इसका प्रयोग किया। मौके पर अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कृपा नंद झा तथा शैलेश कुमार चौरसिया भी उपस्थित थे।

चौथे चरण में चार विस क्षेत्रों में मिली सुविधा

चौथे दौर में चार विधानसभा सीटों देवघर, गांडेय, बोकारो तथा झरिया में मतदाताओं को बूथ एप की सुविधा दी गई। इसमें क्यू मैनेजमेंट भी लागू किया गया। क्यूआर कोड के माध्यम से मतदाताओं का सत्यापन भी हुआ। इससे पहले दूसरे व तीसरे चरण की कई सीटों पर बूथ एप की सुविधा बहाल की गई थी। राज्य में पहली बार इसे दस विस क्षेत्रों में लागू किया जा रहा है।

16,522 आवेदनों की सुविधा एप से मिली स्वीकृति

चार चरणों में चुनाव प्रक्रियाओं के लिए राजनीतिक दलों तथा प्रत्याशियों ने 61,522 मामलों की स्वीकृति सुविधा एप के माध्यम से ली। चौथे दौर में ही 2,181 आवेदनों का निष्पादन समय पर सुविधा एप के माध्यम से किया गया। इसमें हेलीकॉप्टर की लैंडिंग, चुनावी सभा, वाहनों, लाउडस्पीकरों आदि की स्वीकृति शामिल हैं।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस