खास बातें

  • झामुमो नेता हेमंत सोरेन के बाद अब बीजेपी के बागी सरयू राय के समर्थन में कूदे बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार
  • नीतीश की पार्टी जदयू ने गाजे-बाजे के साथ नामांकन करने पहुंचे अपने प्रत्याशियों को उपायुक्त कार्यालय से लौटाया
  • बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने अपने उम्मीदवारों से फोन पर कहा, जमशेदपुर पूर्वी व पश्चिमी के कार्यकर्ता सरयू के लिए करेंगे काम

रांची, [जागरण स्‍पेशल]। Jharkhand Assembly Election 2019 समय के साथ झारखंड विधानसभा चुनाव  खासा दिलचस्‍प होता जा रहा है। मुख्‍यमंत्री रघुवर दास और बीजेपी के बागी मंत्री सरयू राय के मैदान-ए-जंग में आमने-सामने आ जाने से देश-दुनिया की नजरें जमशेदपुर पूर्वी सीट पर टिक गई हैं। यहां दोनों के बीच कड़े संघर्ष और रोचक मुकाबले की जमीन तैयार है। अपने सीएम के खिलाफ ताल ठाेंकने वाले सरयू लगातार बगावती सुर बुलंद कर रहे हैं। बीते दिन उन्‍होंने यहां तक कह दिया कि पीएम मोदी डिटरजेंट और शाह लाउंड्री रघुवर दाग को धो नहीं सकता।

इससे पहले बिहार भाजपा के बड़े नेता और उपमुख्‍यमंत्री सुशील कुमार मोदी को यहां भाजपा ने चुनाव प्रचार में स्‍टार प्रचारकाें की लिस्‍ट से बाहर रखा, जिन्‍हें सरयू राय का करीबी माना जाता है। ऐसे में भाजपा के सहयोगी जदयू पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष और बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार सरयू राय के समर्थन में खुलकर सामने आ गए हैं। सरयू से नीतीश की दोस्‍ती उफान पर है। उन्‍होंने सरयू के लिए चुनाव प्रचार करने का एलान किया है। वे इस बार चुनाव में जमशेदपुर पूर्वी विधानसभा क्षेत्र में जनसभा के साथ ही रोड शो भी करेंगे।

इधर मुख्यमंत्री रघुवर दास को उनके गढ़ में चुनौती देने उतरे सरयू राय का झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन ने खुला समर्थन किया है। सोमवार को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पहल पर जदयू के उम्‍मीदवारों ने जमशेदपुर में अपना नामांकन दाखिल नहीं किया। जदयू के पूर्वी और पश्चिमी सीट के प्रत्‍याशी यहां से बिना नामांकन किए वापस लौट गए।

तेजी से बदल रहे राजनीतिक परिदृश्‍य में यह कहा जा रहा है कि जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष व बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सरयू के बागी होते ही बड़ी भूमिका में आ गए हैं। उन्‍होंने जदयू कार्यकर्ताओं को सरयू राय के लिए काम करने का निर्देश दिया है। झारखंड में अपनी जमीन तलाश रही जदयू के लिए नीतीश कुमार खुद भी यहां चुनाव प्रचार करेंगे। सरयू राय के लिए वे जमशेदपुर में तीन जनसभाओं को संबोधित करेंगे। सरयू की मदद के लिए बिहार से जदयू नेता भी यहां पहुंचेंगे। बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार यहां रोड शो भी करेंगे।

सरयू राय ने भी नीतीश की दोस्‍ती को बताया टिकट कटने का बड़ा कारण

इधर भाजपा के बागी मंत्री सरयू राय ने डंके की चोट पर कहा कि उन्‍हें बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार से दोस्‍ती के कारण ही टिकट नहीं दिया गया है। उनकी जानकारी के मुताबिक, भाजपा केंद्रीय चुनाव समिति की दिल्‍ली में हो रही बैठक में उनकी और नीतीश कुमार की दोस्‍ती का मसला उठा था। तब कहा गया था कि सरयू राय नीतीश कुमार से अपनी किताब का विमोचन कराते हैं। नीतीश से नजदीकी का हवाला देते हुए सरयू राय ने कहा कि इस तरह की निरर्थक टिप्‍पणी करने वाले मत भूलें कि नीतीश कुमार से उनके पुराने और घनिष्‍ठ संबंध हैं।

यह खबर लगातार अपडेट हो रही है। ताजा जानकारी के लिए बने रहें हमारे साथ...

Posted By: Alok Shahi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप