चंडीगढ़, जेएनएन। Haryana Assembly Election 2019 में प्रत्‍याशियों की जीत और हार के खुलासे में अब एक दिन का समय बच गया है। 24 अक्‍टूबर को ईवीएम खुलेंगे और जनता का फैसला सामने आ जाएगा। चुनाव नतीजों को लेकर उम्मीदवारों के होश उड़े हुए हैं और धड़कनें बढ़ी हुई है। इन सबके बीच स्‍ट्रांग रूम में बंद इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) और वोटर वैरिफियेबल पेपर ऑडिट ट्रायल (वीवीपीएटी) मशीनों की कड़ी सुरक्षा की गई है। इन मशीनों को सीसीटीवी कैमरों की निगरानी में त्रिस्तरीय सुरक्षा घेरे में रखा गया है। हरियाणा पुलिस व अर्द्ध सैनिक बलों के जवान स्‍ट्रांग रूम के वाहन तैनात है।

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) नवदीप सिंह विर्क के अनुसार ईवीएम और वीवीपीएटी मशीनों की सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं। निर्धारित स्ट्रांग रूमों में रखी गई इन मशीनों की पुलिस और अर्द्धसैनिक बलों द्वारा कड़ी निगरानी की जा रही है। ईवीएम और वीवीपीएटी मशीनों की सुरक्षा को लेकर पुलिस द्वारा चुनाव आयोग के निर्देशों की सख्ती से अनुपालना की जा रही है।

नवदीप विर्क ने बताया कि स्ट्रांग रूमों के पास त्रिस्तरीय सुरक्षा की गई है। पहली पंक्ति में केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों को स्ट्रांग रूमों के बाहर तैनात किया गया है और हरियाणा सशस्त्र पुलिसबल के जवान दूसरी पंक्ति में तैनात हैं। तीसरी पंक्ति में जिला पुलिस के जवान ईवीएम की सिक्योरिटी में डटे हैं।

पुलिस महानिदेशक मनोज यादव के अनुसार ईवीएम और वीवीपैट मशीनों की कड़ी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए 59 अलग-अलग स्थानों पर 90 स्ट्रांग रूम स्थापित किए गए हैं। चुनावी प्रक्रिया के दौरान सुरक्षा प्रबंध, पुलिस की तैनाती व जब्त की गई अवैध समान की जानकारी लगातार सांझी की गई। इसका उदेश्य पुलिस की उपस्थिति के साथ लोगों को आश्वस्त कर असामाजिक तत्वों के मन में भय पैदा करना था। इससे मतदान शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न हुआ।

   

 

Posted By: Sunil Kumar Jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप