सिरसा, जेएनएन। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सिरसा रैली में कांग्रेस पर जमकर हमले किए। उन्‍होंने जम्‍मू-कश्‍मीर और गुलाम कश्‍मीर को लेकर कांग्रेस की नीतियों पर प्र‍हार किया। उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस ने कश्‍मीर को तबाही के कर दिया। उसने एक-दो परिवारों के भरोसा कश्‍मीर को छोड़ दिया। दिल्‍ली की गद्दी के लिए कश्‍मीर का बर्बाद व तबाह नहीं किया जाएगा। अब वहां तारीख दुश्‍मन देशों में बैठे लोग तय नहीं कर सकते। अब कश्‍मीर की तकदीर भारत और कश्‍मीर के लोग तय करेंगे दूसरे देशों तय नहीं करेंगे।

उन्‍होंने अपना संबोधन पंजाबी और हरियाणवी में शुरू किया। प्रधानमंत्री मोदी का रैली में पहुंचने पर भव्‍य स्‍वागत किया गया और लाेगों ने मोदी-मोदी के नारे लगाए।सिरसा पंजाब से लगा हुआ है और यहां काफी संख्‍या में सिख रहते हैं। इसलिए पीएम मोदी ने अपने भाषण की शुरूआत पंजाबी में की। उन्‍होंने भाषण की शुरूआत में गुरु श्री नानकदेव के 550वें प्रकाश पर्व का उल्‍लेख किया। उन्‍होंने कहा कि करतारपुर कॉरिडोर का निर्माण पूरा हो गया है। उन्‍होंने विभाजन के समय करतारपुर के पाकिस्‍तान में जाने को लेकर कांग्रेस पर‍ निशाना साधा।

मोदी ने कहा कि कश्‍मीर में आम लोगों के साथ अन्‍याय हुआ। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कांग्रेस का जो रवैया हमारे पवित्र स्थानों के साथ रहा वैसा ही रवैया जम्मू कश्मीर के साथ भी रहा। सार्थक समाधान के लिए ईमानदार कोशिश ही नहीं की और 70 साल तक समस्याओं को उलझते रहे।  कश्मीर में निर्दोष लोग मरते रहे और हरियाणा सहित दूसरे राज्यों के जवान वहां शहीद होते रहे। उन्‍होंने कहा कि 70 साल हो गए बाबा साहब अंबेडकर का संविधान वहां लागू नहीं हो पाया।

मोदी ने कहा कि जब भाजपा की सरकार ने इन बंधनों से मुक्ति इस अन्याय से मुक्ति की तरफ एक सार्थक कदम उठाया है तो कांग्रेस के नेता उसके खिलाफ बयान बाजी कर रही हैं। जम्मू-कश्मीर हमसे दूर नहीं है। दिल्ली में सोई हुई सरकार के कारण एक के बाद एक कश्मीर की हालत कैसे बिगड़ते चली गई। प्रारंभ के दिनों में पाकिस्तान की मदद से हमारा कुछ हिस्सा छीन लिया गया और पीओके बन गया।

उन्‍होंने कहा कि कश्मीर में सूफी परंपरा का खात्मा कर दिया गया। सूफी सोच को दफना दिया गया। पहले कुछ हिस्सा पाकिस्तान के हवाले कर दिया और सोते रहे। फिर सूफी परंपरा को मारकर के दफनाकर के कश्मीर की जड़ों को हिला दिया गया। जम्मू और लद्दाख के साथ भेदभाव का सिलसिला चलाया गया। कुछ परिवारों को बढ़ावा दिया गया। समाज को बिखराव की तरफ धकेल दिया गया फिर एक चाल चली गई और कश्मीर के चार लाख कश्मीरी पंडितों को कश्मीर छोड़ने के लिए मजबूर किया गया।

 

उन्‍होंने कहा कि फिर बम बंदूक और पिस्तौल के जोर पर दिल्ली को डराया गया। दिल्ली में बैठे हुए लोग सब कुछ आंख मूंद कर बैठे रहे और कश्मीर तबाह होता चला गया। अलगाववादी तय करते थे कि सोमवार को क्या होगा, मंगलवार को क्या होगा, जनवरी में क्या होगा ओर फरवरी में क्या होगा।

उन्‍होंने कहा कि देश के वीर जवान शहीद होते रहे, राष्‍ट्रीय ध्‍वज को जूतों के नीचे रौंदा जाता था और आग लगा दी जाती थी। सब कुछ जल रहा था। क्या दिल्ली की गद्दी  के लिए कश्मीर को तबाह होने देना देना चाहिए था। कश्मीर ज्यादा प्यारा होना चाहिए या प्रधानमंत्री का पद। पद तो आते हैं जाते हैं, कश्मीर रहना चाहिए।

उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस की गलत नीति और राजनीति ने कश्‍मीर को तबाह कर के रख दिया। अनुच्‍छेद 370 की चर्चा करते हुए उन्‍होंने कहा कि संविधान में बाबा साहब अंबेडकर ने जिसे टेंपरेरी कहा था। भाई मुझे बताइए टेंपरेरी कितने साल रहता है, दो महीने चार महीने, लेकिन 70 साल हो गया। 70 साल तक कश्मीर के लोगों को अलगाववाद की ओर जाने के लिए रास्ता दिखाया था। टेंपरेरी खत्म कर दिया है और जब आपने मुझे दोबारा पांच साल के लिए परमानेंट बना दिया तो मै टेम्परेरी  को क्यों रहने दूंगा। आज पूरा हरियाणा पूरा हिंदुस्तान मोदी के साथ खड़ा है।

उन्‍होंने लोगों से पूछा, क्या मेरा अनुच्‍छेद 370 को हटाना सही है, कश्मीर से टेंपरेरी की ताकत खत्म करना सही है। उन्‍होंने कहा, अगर आप इसे सही मानते हैं तो मुझे मजबूती मिलनी चाहिए। इस पर उपस्थित जनसमूह ने दोनों हाथ उठाकर सहमति जताई। उन्‍होंने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा, 70 साल तक वह क्यों नहीं कर पाई, बहुमत तो उनके पास भी था। इतना बड़ा निर्णय आज कैसे हुआ। यह मोदी के कारण नहीं हुआ है। यह आपके कारण हुआ है क्योंकि आपने वोट दे करके मुझे फिर से देश की सेवा करने का मौका दिया।

उन्‍होंने कहा कि एक बार फिर से लोकसभा चुनाव से भी ज्यादा ताकत से हरियाणा में सेवा करने का मौका दीजिए। आपके सारे सपने पूरे करेंगे। हमारी नदियों से हमारे हिस्से का पानी बहकर के पाकिस्तान जाता रहा और हमारी सरकारी देखती रही।  जिस पानी पर आपका हक है वह पानी पाकिस्तान जाने देना चाहिए क्या। यहां के खेत सूखे रहें और पाकिस्तान हरा भरा रहे, यह कैसे हो सकता है।

उन्‍होंने कहा कि आपके हक का एक बूंद पानी पाकिस्तान नहीं जाने दूंगा। सिरसा पर तो कभी सरस्वती नदी की भी कृपा रही है। सरस्वती नदी हरियाणा से बहा करती थी। मुझे खुशी है मां सरस्वती नदी को पुनर्जीवन करने का संकल्प मनोहर लाल की सरकार ने दिया है। यह दिखाता है कि हमारी धरोहर और हमारे किसानों की पानी की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए भाजपा सरकार कितने बड़े स्तर पर काम कर रही है।

उन्‍होंने कहा कि हरियाणा में सिंचाई की सुविधा के व्यापक सुधार करने का कार्य हुआ है आने वाले पांच वर्षों में हरियाणा को भारत को जलयुक्त बनाने के लिए जल जीवन मिशन लेकर आगे आए हैं। लोकसभा चुनाव के दौरान आपको कहा था सरकार बनते ही पानी के लिए अलग मंत्रालय बना दिया जो पानी पर काम आएगा। भारत के इतिहास में पहली बार हर घर तक जल पहुंचाने के लिए अलग मंत्रालय बनाया गया है। आने वाले पांच वर्षों में 3.50 लाख करोड रुपये खर्च किया जाएगा।

उन्‍होंने कहा कि 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने के संकल्प को सिद्ध करने के लिए हम निकले हैं। एक साथ कई स्तरों पर काम किया जा रहा है। सिरसा के हमारे किसान परिवारों के बैंक खाते में करोड़ों रुपये जमा हो चुके हैं। यहां के अनेक किसान परिवारों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से करोड़ों रुपए की मदद मिल चुकी है।

उन्‍होंने कहा कि खर्ची और पर्ची का दौर हरियाणा में हमेशा के लिए समाप्‍त हो गया है। हमारी युवा शक्ति ही भारत की ताकत है। इस पर पूरी दुनिया की नजर है। केंद्र हो या भाजपा सरकार युवाओं पर हमारा विशेष फोकस है। हमारी कोशिश है देश के लिए तो युवाओं को सशक्‍त करना है और दुनिया के लिए भी उनमें टैलेंट भरना है। उन्‍होंने कहा कि सिरसा के सूरमा तो खेल से लेकर सरहद तक भारत की शान में अपना खून-पसीना बहाते हैं। यहां की यह पहचान और सशक्त होनी चाहिए इसके लिए हमारे युवा साथियों को अपनी फिटनेस पर ध्यान देना होगा।

उन्‍होंने नशे का मुद्दा भी उठाया। मोदी ने कहा कि इससे हम सभी को मिलकर लड़ना है। नशा एक परिवार को नहीं बल्कि व्यक्ति पूरे समाज को बर्बाद कर देता है। हमारे पड़ोसी देश का अगर टूरिस्टों ( आंतकवादियों) को भेजकर काम नहीं चल रहा है तो आजकल उन्होंने नशीली चीजें हिंदुस्तान में चोरी-छिपे से पहुंचाता है। उसने देश के युवा धन को बर्बाद करने का षड्यंत्र चलाया हुआ है। सीमा की रक्षा करनी है, आतंकवाद का भी सफाया करना है और युवा पीढ़ी को भी बचाना है।

कांग्रेस पर हमला करते हुए मोदी ने कहा कि अपने स्वार्थ के लिए लोगों को बांटना कांग्रेस और उसके जैसे दलों की पुरानी आदत रही है। कांग्रेस के एक परिवार को जमीन चाहिए, जमीन का ठेका लेना है, दामाद को जमीन चाहिए तो हरियाणा को शिकार बनाते रहे। कांग्रेस ने हरियाणा को किसानों की जिंदगी को चारागाह बना दिया था

बीते 5 वर्ष में मनोहरलाल सरकार ने बिना किसी भेदभाव के विकास करवाया है। सिरसा क्षेत्र से अधिकतर प्रतिनिधि विरोधी दलों के थे। फिर भी भाजपा ने विकास के काम में पक्षपात नहीं किया।

उन्‍होंने बिना नाम लिए चौटाला परिवार पर भी हमला किय। उन्‍होंने कहा कि जो लोग इस इलाके को अपना किला मानते थे, आपस में भिड़ गए। क्या यह सिद्धांतों की लड़ाई है। यह सिद्धांतों की लड़ाई नहीं है। यह कुनबा इसलिए लड़ रहा है कि इतना पैसा कमाया उसका बंटवारा कैसे करें। यह मलाई बांटने का झगड़ा हो रहा है। उन्‍होंने लोगों से कहा, अब उनको हमेशा-हमेशा के लिए छुट्टी दे दो। कहो जितना माल इकट्ठा किया पहले परिवार में बांटने का काम करो।

मोदी ने कहा कि हम विश्वास और जन विकास की पूंजी लेकर के आए हैं।  मोदी आपके पास सिर्फ कमल का फूल लेकर आया है। इसको आशीर्वाद देना है। हमारे लिए व्यक्ति से बड़ा दल है और दल से बड़ा देश है।  21 अक्टूबर को पूरी ताकत लगानी है

उन्‍होंने कहा कि हरियाणा की भाजपा सरकार ने सरकारी नौकरियों की होने वाली बंदरबांट पर ताला लगा दिया है। धुर विरोधी भी है वह भी आज मान रहा है कि सरकार  के कारण सामान्य परिवारों को भी नौकरी का नियुक्ति पत्र पहुंच रहा है।

उन्‍होंने कहा कि गुरु घरों की पावन नगरी धर्म नगरी सिरसा के पहली पातशाही में गुरुनानक देव के चरण पड़े। इस धरती को वंदन करता हूं नमन करता हूं। संगठन के कार्य किए हैं और कई पुराने चेहरों के दर्शन कर रहा हूं गुरु नानक देव जी के 550 में प्रकाश उत्सव की लख लख बधाइयां देता हूं। पूरे विश्व में भारत सरकार गुरु नानक देव जयंती के पर्व को मनाने वाली है। कपूरथला से तरनतारन के पास बने ने नेशनल हाईवे को गुरु नानक देव जी के नाम से जाना जाएगा।

उन्‍होेंने कहा कि भाजपा की सरकार को एक और सौभाग्य भी मिला है।  पवित्र स्थान करतारपुर साहिब और हम सभी के बीच जो दूरी थी वह अब समाप्त होने वाले हैं। 70 सालों तक दूरबीन से गुरु घर के दर्शन की विधि अब खत्म हो रही है। करतारपुर कॉरिडोर अब तैयार हो रहा है। आजादी के सात दशक बाद यह अवसर आया है। इससे बड़ा दुर्भाग्य भला क्या हो सकता है हमारी आस्था के एक बड़े केंद्र को हमें 7 दशक तक दूर से दूरबीन से देखना पड़ा।

उन्‍होंने कहा कि 1947 में जो बंटवारे की रेखा खींचने के लिए जिम्मेदार थे क्या उनको एक ख्याल नहीं था कि सिर्फ 4 किलोमीटर के फासले से भक्तों को गुरु से अलग नहीं किया जाना चाहिए। 70 साल में क्या इस दूरी को मिटाने के प्रयास कांग्रेस को नहीं करनी चाहिए थी । कांग्रेस और उसके कल्चर से जुड़े दलों ने हिंदुस्तानियों की आस्था परंपरा और संस्कृति को कभी मान नहीं दिया।

रैली के मंच पर कई नेता मौजूद हैं। रैलीस्‍थल और इसके आसपास बेहद कड़ी सुरक्षा की गई है। प्रधानमंत्री पांच साल के अंतराल के बाद  सिरसा आए हैं। वर्ष 2014 में मोदी ने सिरसा में जनसभा को संबोधित किया था। भाजपा नेताओं ने रैली के लिए व्‍यापक तैयारियों की है। रैली मल्लेकां की अनाजमंडी में हो रही है। रैली स्‍थल पर सुबह से ही लोगों का आना शुरू हो गया था। रैलीस्‍थल, मंच और आसपास के क्षेत्रों को भाजपा के झंडे और पोस्‍टरों से सजाया गया है। रैली के मंच सांसउ सुनीता दुग्‍गल सहित कई नेता मौजूद हैं।

रैली में काफी संख्‍या में युवा मौजूद हैं और उन्‍होंने प्रधानमंत्री के नाम वाले टीशर्ट पहन रखा है। इसके साथ ही उन्‍होंने पीएम मोदी का मुखाैटा भी पहन रखा है। रैली में महिलाओं भी काफी तादाद में मौजूद हैं और वे प्रधानमंत्री की एक झलक पा लेना चाहती हैं।

रैली स्‍थल और आसपास के क्षेत्रों में कड़ी सुरक्षा की गई है। लोगों को रैली में कड़ी जांच के बाद ही जाने दिया गया है। 2000 से अधिक पुलिस जवान सुरक्षा व्यवस्था में तैनात हैं। रैली को लेकर 10 एसपी व 25 डीएसपी सुरक्षा व्यवस्था को देख रहे हैं। 23 ड्यूटी मजिस्ट्रेट भी तैनात किए गए हैं। रैली स्थल को 16 सेक्टरों में बांटा गया है, जिनमें दो सेक्टर महिलाओं के लिए है। रैली स्थल तक विभिन्न विधानसभा क्षेत्रों से आने वाले वाहनों के लिए अलग अलग रूट निर्धारित किए गए हैं तथा पार्किंग की व्यवस्था की गई है।

   

 

Posted By: Sunil Kumar Jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप