रेवाड़ी [महेश कुमार वैद्य]। किसान व जवान इस बार के विधानसभा चुनाव में भाजपा की राजनीति के केंद्र में होंगे। बुधवार को कोसली विस क्षेत्र के गांव बेरली की जनसभा में मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने इसका स्पष्ट संकेत दे भी दिया। मुख्यमंत्री ने एक ओर जहां एसवाईएल और बाजरे के समर्थन मूल्य पर विरोधियों की पूरी घेराबंदी की, वहीं यह संकेत भी दे दिया कि पानी के मसले पर वर्षों से चल रही विपक्ष की राजनीति को अब इस मसले पर फलने-फूलने नहीं दिया जाएगा। पानी पर पार्टी फ्रंटफुट पर रहेगी। कांग्रेस व अन्य विपक्षी दलों की आलोचना के बीच फसल बीमा योजना पर पार्टी का अंदाज पूरी तरह आक्रामक रहेगा।

किसान और जवान अगर भाजपा की राजनीति के केंद्र में आ रहे हैं तो इसके पीछे निश्चित रूप से गणित भी है। सैनिकों और पूर्व सैनिकों को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए सीएम ने जहां वन रैंक वन पेंशन की बड़ी उपलब्धि का जिक्र किया, वहीं सूखी धरती की प्यास बुझाने का पूरा भरोसा दिया।

पाकिस्तान का फालतू पानी लाएंगे

मुख्यमंत्री ने न केवल यह कहा कि उनकी सरकार एसवाईएल निर्माण की संभावनाओं के निकट तक पहुंच चुकी है, बल्कि यह भी कहा कि हम पानी के अन्य विकल्प तलाश करने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। पाकिस्तान जाने वाले फालतू पानी को लाने की बात की। 143 करोड़ खर्च करके नहरी तंत्र का दुरुस्त करने व अंतिम टेल तक पानी पहुंचाने की उपलब्धि को खास तौर पर बताया।

बाजरे को बनाया बड़ा हथियार

भाजपा दक्षिण हरियाणा में बाजरे को बड़ा हथियार बनाएगी। मुख्यमंत्री ने बुधवार को बाजरे को केंद्र में रखकर विरोधियों पर जमकर तीर चलाए। सीएम ने कहा कि किसी ने नहीं सोचा था कि गरीबों का अनाज कहा जाने वाला बाजरा गेहूं से भी महंगा बिकेगा। मोदी सरकार के कारण हमने इसे संभव किया है।

एम्स का मुद्दा फिर छाया

यहां के गांव मनेठी में प्रस्तावित एम्स का मुद्दा आज फिर छा गया। मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने विरोधियों को कोई भी मौका न देने की मंशा से यह स्पष्ट कर दिया कि मनेठी में एम्स बनाने के लिए सरकार कदम पीछे नहीं खींच रही है, परंतु ग्रामीणों को भी सरकार की सही नीयत को समझना होगा। हम वन मंत्रलय की तकनीकी पेचीदगी दूर करने के लिए ग्रामीणों की भावनाओं के अनुसार विचार करने के लिए तैयार हैं, लेकिन अगर बात नहीं बनती है तो फिर ग्रामीण जमीन देने में मदद करें। सरकार पैसे देकर जमीन खरीदने के लिए तैयार है।

हालांकि मुख्यमंत्री अपने भाषण में मनेठी में मेडिकल कालेज की बात कह गए, लेकिन केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत सिंह ने उसी समय इसे स्पष्ट कर दिया। राव ने कहा कि जुबान फिसलना अलग बात है। जिले में मेडिकल कॉलेज भी बनेगा और एम्स भी। मेडिकल कॉलेज राज्य सरकार को बनाना है, जबकि एम्स केंद्र सरकार को।

AAP के वोट बैंक पर भाजपा की नजर, 11 से 26 अक्टूबर तक चलेगा विशेष अभियान

दिल्ली-NCR की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

Posted By: Mangal Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप