जेएनएन, नई दिल्ली। हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी नेतृत्व में पहले चरण में घोषित किए जाने वाले टिकटों पर सहमति बन गई है। पार्टी इस बार राज्य विधानसभा की कुल 90 में से 50 टिकट पहले चरण में ही घोषित करने की योजना पर काम कर रही है। हालांकि अभी इन 50 टिकटों को भी घोषित करने से पहले पार्टी संगठनात्मक दृष्टि से अपनी अनेक प्रक्रियाओं को पूरा करेगी। इसके तहत टिकटार्थियों के दो

अमित शाह ने पार्टी मुख्यालय में हरियाणा में टिकट वितरण व चुनाव प्रचार अभियान को लेकर कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा, संगठन महामंत्री बीएल संतोष, प्रदेश प्रभारी डॉ. अनिल जैन, प्रदेश चुनाव प्रभारी नरेंद्र सिंह तोमर, मुख्यमंत्री मनोहर लाल, प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला के साथ विचार-विमर्श किया।

मुख्यमंत्री और संघ के पदाधिकारियों के बीच पहले ही बन चुकी सहमति

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने विधानसभा चुनाव में टिकट वितरण से संबंधित तमाम मापदंडों पर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के पदाधिकारियों से पहले ही सहमति प्राप्त कर ली है। वह संघ के प्रांत संघचालक, प्रांत कार्यवाह, प्रांत प्रचारक और संघ के कुछ अखिल भारतीय अधिकारियों के साथ दिल्ली और गुरुग्राम में विस्तृत चर्चा कर चुके हैं।

सूत्रों के अनुसार संघ से सीएम की दो अहम मुद्दों पर भी चर्चा हो चुकी है। इनमें पार्टी के स्थापित नेताओं (सांसदों, केंद्रीय मंत्रियों) के परिवार के सदस्यों को टिकट दिए जाने और जो नेता दूसरे दलों से पार्टी में आए हैं, उन्हें टिकट देने को लेकर क्या नीति रहेगी। माना जा रहा है कि संघ पदाधिकारियों ने यह पूरा फैसला सीएम पर छोड़ दिया है।

कार्यकारी अध्यक्ष ने एक लाइन में कर दिया बड़ा इशारा

भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने अमित शाह के साथ हुई बैठक के बाद साफ किया कि हरियाणा विधानसभा चुनाव में उसी कार्यकर्ता को टिकट दिया जाएगा जो पार्टी के हर टेस्ट में पास होगा। हरियाणा में 16 व 17 सितंबर को अपने दो दिवसीय प्रवास से पहले नड्डा के इस बयान को राजनीतिक रूप से काफी अहम माना जा रहा है, क्योंकि टेस्ट की जो व्याख्या की है,उससे कई टिकटार्थियों की नींद उड़ जाएगी।

खासतौर पर उन टिकटार्थियों की जो दूसरे दलों को छोड़कर भाजपा में शामिल हुए हैं। नड्डा की तरफ से जो मापदंड बताए गए, उनमें पार्टी की विचारधारा को अपनाने वाले, जीत सुनिश्चित करने वाले,पार्टी को मजबूत करने वाले, पार्टी कार्यक्रमों में पूरी तरह जुटे रहने वाले, पार्टी द्वारा कराए गए सर्वे में सफल रहने वाले कार्यकर्ता को तरजीह दी जाएगी।

भाजपा की जीत के नायक बनेंगे शक्ति केंद्र प्रमुख और पालक

हरियाणा विधानसभा चुनाव में मिशन-75 के लक्ष्य को हासिल करने के लिए भाजपा का शीर्ष नेतृत्व रणनीति को अमलीजामा पहनाने में जुटा है। खुद भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा हरियाणा में चुनावी तैयारियों की समीक्षा कर रहे हैं। भाजपा के शक्ति केंद्र प्रमुखों व पालक से लेकर पन्ना प्रमुख तक सरकार की पांच साल की उपलब्धियों को जन-जन तक पहुंचाने में लगे हैं। इसी सिलसिले में नड्डा 16 व 17 सितंबर को हरियाणा के दो दिवसीय दौरे पर रहेंगे। वे न केवल कार्यकर्ताओं से सीधा संवाद करेंगे बल्कि शक्ति केंद्र पालक व प्रमुखों को जीत का मंत्र भी देंगे।

16 सितंबर को थानेसर विधानसभा में कुरुक्षेत्र, करनाल, पानीपत व कैथल के शक्ति केंद्र पालक व प्रमुख हिस्सा लेंगे। बैठक में कुरुक्षेत्र जिले के बूथ प्रमुख भी मौजूद रहेंगे। इसी दिन कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष रादौर अनाज मंडी में जनसभा को संबोधित करेंगे। इस कार्यक्रम का प्रभारी प्रदेश महामंत्री वेदपाल एडवोकेट नियुक्त किया गया है।

17 सितंबर को बहादुरगढ़ विधानसभा में झज्जर, रोहतक व सोनीपत जिले के शक्ति केंद्र पालक व प्रमुखों को जीत का मंत्र देंगे। झज्जर जिले के बूथ प्रमुख भी हिस्सा लेंगे। खरखौदा अनाज मंडी में अनुसुचित वर्ग के महासम्मेल को संबोधित करेंगे। इस कार्यक्रम के प्रभारी करनाल सांसद एवं प्रदेश महामंत्री संजय भाटिया होंगे। राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा हरियाणा में दो दिवसीय दौरे पर सात जिलों के शक्ति केंद्र पालक, प्रमुख व बूथ प्रमुखों को जीत का मंत्र देने के साथ जनता से सीधा संवाद करेंगे।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Kamlesh Bhatt

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप