मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

चंडीगढ़,जेएनएन। लोकसभा चुनाव लडऩे से कन्नी काट रहे भाजपा के बागी सांसद राजकुमार सैनी बसपा के दबाव में हैं। राजकुमार सैनी की लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी (लोसुपा) ने जाटलैैंड में चुनाव लड़ने की रणनीति के तहत भिवानी-महेंद्रगढ़ और सोनीपत लोकसभा सीटों का चयन किया है। दूसरी ओर बसपा चाहती है कि राजकुमार सैनी सोनीपत की बजाय अपनी पुरानी कुरुक्षेत्र लोकसभा सीट से ही चुनाव लड़ें। ऐसे में संकेत हैं कि वह कुरुक्षेत्र से मैदान में उतर सकते हैं।

सोनीपत की बजाय अब कुरुक्षेत्र में ही ताल ठोंकने की तैयारी

बसपा और लोसुपा के बीच आठ तथा दो लोकसभा सीटों का बंटवारा हो चुका है। भिवानी-महेंद्रगढ़ में राजकुमार सैनी अपनी पार्टी के उम्मीदवार के तौर पर रमेश पायलट के नाम की घोषणा कर चुके हैैं, जबकि सोनीपत से वह अपने भतीजे को चुनाव लड़ाना चाहते हैैं। लगातार हुई बैठकों के बाद सैनी को फीडबैक मिला कि भतीजे की बजाय वे खुद सोनीपत से चुनाव लड़ें।

सोनीपत में भतीजे को लड़ाना चाहते थे, मायावती ने किया मना

कार्यकर्ताओं के सुझाव पर राजकुमार सैनी सोनीपत में ताल ठोंकने का मन बना रहे थे कि बसपा हाईकमान से उन्हें संदेश मिला कि सोनीपत की बजाय उन्हें कुरुक्षेत्र लोकसभा सीट अपने हिस्से में लेनी चाहिए। बसपा ने दलील दी है कि कुरुक्षेत्र से सैनी मौजूदा सांसद हैैं। लिहाजा वे फिर से कुरुक्षेत्र में ही ताल ठोंके।

चर्चा इस बात की भी है कि कार्यकर्ताओं ने खुद सैनी पर कुरुक्षेत्र से चुनाव लडऩे का दबाव बनाया है, जिसके बाद उन्होंने सोनीपत की बजाय कुरुक्षेत्र सीट पर आने की रणनीति तैयार की। राजकुमार सैनी का कहना है कि कार्यकर्ता चाहते हैं कि मैं खुद दोबारा लोकसभा चुनाव लडूं। इस पर बसपा नेताओं के साथ विचार विमर्श कर कोई फैसला लिया जाएगा।

Posted By: Sunil Kumar Jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप