गांधीनगर (एएनआई)। गुजरात विधानसभा चुनाव में दूसरे चरण के लिए प्रचार जोरों पर हैं। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी रविवार को एक प्रेस कांफ्रेंस में कांग्रेस पर सीधा हमला किया। उन्होंने कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की गरिमा को ठेस पहुंचाने का आरोप लगाया। शाह ने कहा, ‘पाकिस्तान के हाई कमिश्नर के साथ मनमोहन सिंह, हामिद अंसारी और मणिशंकर अय्यर की मीटिंग हुई। विदेश मंत्रालय की जानकारी के बगैर पाकिस्तान के हाई कमिश्नर के साथ मीटिंग करके क्या सन्देश देना चाहते है।‘

अमित शाह ने कहा कि तुष्टिकरण की नीति ने ही कांग्रेस पार्टी को जन्म दिया। शाह ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा, कांग्रेस ने जाति के आधार पर गुजरात चुनाव की नींव रखी थी। कांग्रेस के होने वाले अध्यक्ष ने मंदिर-मंदिर घूमना शुरू कर दिया है। भारत में ध्रुवीकरण का निर्माता कांग्रेस रहा है। कांग्रेस के एक प्रवक्ता ने कहा की पीएम मोदी को 2002 के दंगों के लिए जामा मस्जिद जाकर माफ़ी मांगनी चाहिए। पूरा देश जानता है कि 2002 के दंगों में कांग्रेस से प्रेरित NGO ने जितने भी फर्जी आरोप लगाये थे, सभी मामलों में मोदी जी पर कोई भी आरोप सिद्ध नहीं हुआ।

अमित शाह ने कहा, देश को यह पता है कि कांग्रेस द्वारा मोदीजी पर लगाए जा रहे आरोप पूरी तरह गलत है। अभी वोट बैंक के लिए 2002 का दंगा मामला 2017 में उठाया जा रहा है। सलमान निजामी जो कहते है 'हर घर में अफज़ल पैदा होंगे' इस प्रकार के व्यक्ति को गुजरात के चुनावों में प्रचार के लिए उतारना, ये चालाकियां गुजरात की जनता भली भांति समझती है।

आखिर में अमित शाह ने कहा, ‘मेरी विनती है कांग्रेस ने जो चुनाव के आखिरी समय में वोट बैंक पॉलिटिक्स और तुष्टीकरण की राजनीति कर रही है इसको गुजरात की जनता नकारे। भाजपा ये चुनाव सिर्फ विकास के मुद्दे पर लड़ रही है।  हमने विकास का एजेंडा गुजरात की जनता के सामने रखा है।‘

यह भी पढ़ें: गुजरात चुनाव के रण में उतरे दिग्‍गज, पहले दौर के लिए आज थम जाएगा प्रचार

 

By Monika Minal