नई दिल्ली, जेएनएन। Delhi assembly Election-2020 : विधानसभा चुनाव की तैयारी के मद्देनजर दिल्ली को  जल्द ही नया कांग्रेस अध्यक्ष मिलने वाला है। यही वजह है कि प्रदेश कांग्रेस के नए अध्यक्ष की घोषणा के इंतजार के बीच पार्टी आलाकमान सोनिया गांधी से दिल्ली के नेताओं का मिलना लगातार जारी है। इसी कड़ी में अब दक्षिणी दिल्ली से पूर्व सांसद रमेश कुमार और पार्टी नेता जगप्रवेश कुमार ने सोनिया से मुलाकात की है। बुधवार शाम हुई करीब 15 मिनट की इस मुलाकात में इन दोनों नेताओं ने भी सोनिया को दिल्ली की सियासी स्थिति से अवगत कराया और आगामी विधानसभा चुनावों एवं नए अध्यक्ष को लेकर अपने सुझाव दिए। हालांकि मुलाकात के बाद रमेश कुमार ने इसे केवल एक शिष्टाचार मुलाकात करार दिया।

उन्होंने यह भी कहा कि जब से सोनिया गांधी ने दोबारा पार्टी की कमान संभाली है, उनसे मुलाकात नहीं हो पाई थी, इसीलिए उन्होंने उनसे मिलने का समय मांगा था। यह अलग बात है कि राजनीतिक गलियारों में इनकी मुलाकात काे भी नए अध्यक्ष की नियुक्ति से जोड़कर ही देखा जा रहा है। सूत्रों की मानें तो इन्होंने भी सोनिया से पार्टी को एक गंभीर और अनुभवी नेतृत्व देने का ही अनुरोध किया है ताकि पार्टी फिर से अपने पैरों पर खड़ी हो सके।

सूत्र यह भी बताते हैं कि आलाकमान दिल्ली के सभी प्रमुख नेताओं से सलाह- मशविरा करके ही अपना निर्णय लेना चाहती हैं जिससे किसी को कोई शिकायत न रहे। इसी मकसद के साथ उन्होंने पूर्व सांसद संदीप दीक्षित और जयप्रकाश अग्रवाल से भी मुलाकात की थी, उनकी राय भी अब तक नहीं ली गई थी। बताया जाता है कि अब दिल्ली के तमाम प्रमुख नेताओं के साथ सोनिया गांधी की रायशुमारी पूरी हो गई है। ऐसे में बहुत ही जल्द प्रदेश कांग्रेस के नए अध्यक्ष की नियुक्ति की घोषणा कर दी जाएगी।

राहुल गांधी के सुझाव पर पीसी चाको की आपत्ति

बताया जाता है कि राहुल गांधी ने देवेंद्र यादव या राजेश लिलोठिया में से किसी एक काे अध्यक्ष पद देने का सुझाव दिया था, लेकिन जब एआइसीसी महासचिव केसी वेणुगोपाल ने चाको से इस बाबत राय मांगी तो उन्होंने आपत्ति जताते हुए दोनों ही नामों को सिरे से नकार दिया।

दिल्ली-NCR की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

Posted By: JP Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप